॥ गुह्यकाली विविध मन्त्र 02 ॥

See Also :-  गुह्यकाली विविध मन्त्र 01

३३ – शिवोपास्यायुताक्षर मन्त्रः —


ऐं ऐं ऐं जय जय गुह्यकालि सिद्धि करालि ॐ ॐ ॐ कालि कपालि विकरालि ह्रीं छ्रीं हूं स्त्रीं फ्रें मुण्डमालिनि त्रिशूलनि महाबलिनि श्रीं क्लीं क्रों क्रीं आं कात्यायनिं शववाहिनि सृष्टिस्थितिकारिणि क्रौं क्षूं हौं क्षौं ईं भगवति चामुण्डे नरकङ्कालधारिणि क्रां फ्रों क्रूं क्रैं फ्रौं स्फ्रों क्रं नवपञ्चचक्रवासिनि महाट्टहासिनि ब्रच्रों श्रं जूं क्ष्रूं क्रः स्हौं स: स्हौः क्लों श्मशानवासिनि महाघोरे फ्रें ग्लूं क्ष्रौं क्रैं ज्रूं ब्लूं ब्लीं ग्लां ग्लीं क्लां ब्रह्मविष्णुरुद्रेश्वर सदाशिवपञ्चप्रेताधिरूढे प्रीं ठ्रीं त्रीं क्ष्रौंः क्रौं श्रौं ग्लौं क्लूं ब्लां जगज्जननि जगदाश्रये जगत्संहारिणि फ्रीं श्रीं श्रीं ध्रीं ख्रैं क्लैं प्रीं ठौं न्रीं द्रीं व्रूं डाकिनीभूत वेतालप्रेत भैरवीमध्यचारिणि भ्रीं ग्लैं ब्लैं फ्लीं क्रीं ज्रां क्ष्रूः ज़ीं ड्रीं ज्रं ज्रीं दुर्गे दैत्यान् ( दैत्यानां ) मर्दिनि भद्रे क्षेमङ्करि ढ्रीं ल्रीं ज्रैं ज्रौं ढैं र्क्रीं क्रूं गं गां गूं गौं कुलाकुल समय चक्र प्रवर्तिनि महामारीनिवर्तिनि क्ष्लौं ब्लैं घ्रीं म्रां म्रैं म्रूं ब्जै ब्जूं ब्जीं प्लूं स्हें द्रैं ह् भ्रीं सर्वागमतत्त्वस्वरूपिणि लेलिहानरसनाकरालिनि द्रूं ह्रौं ल्यूं ब्नैं क्वीं फ्रैं क्षां क्षीं फ्रां फ्रूं भ्रूं ह्रों स्कीं चतुर्वेदावेद्यानुभाव विमोहितास्त्रैगुणितत्रिदेवे स्हक्लह्रीं र्क्रां र्फ्रां र्च्रां र्ज्रां (यष्टी ) र्क्रीं र्फ्रीं र्छ्रीं र्ज्रीं र्क्ष्रीं र्प्रीं रक्तार्णवद्वीपप्रज्वलत् पावक शिखान्तश्चारिणि महादुःखपापौधहारिणि ( रथ्रीं…..) (शिखामहा ) च्रां च्रीं च्रूं च्रैं च्रौं ज्रां ज्रीं ज्रूं ज्रैं ज्रौं स्रां स्त्रीं स्त्रूं स्त्रैं स्त्रौं बृहल्लम्बमानोदरि महाचण्ड योगेश्वरि अपमृत्युहरि विश्वेश्वरि ब्लौं सौः ब्रीं ट्रीं ह्रः स्हीं श्लां स्क्रीः फीं फूं फैं द्रौं ल्रां श्लीं नवकोटि कुलाकुलचक्रेश्वरि सकलगुह्यानन्ततत्त्वधारिणि महामारीप्रवर्तिनि ह् लूः ल्रूं ल्रूं श्लूं रां रीं रूं रैं रौं ह्लैं श्लैं ह्लूं श्लौं हां चतुरशीतिकोटि ब्रह्माण्ड सृष्टिकारिणि प्रज्वलज्वललोचने वज्रनख दंष्टा युक्ते दुर्निरीक्ष्याकारे क्लां क्लां ज्लां ज्लां ज्लां ज्लां ज्लां ज्लां ह्स्ख्फ्रूं ह्स्ख्फ्रूं प्रूं प्रूं प्रूं थ्रीं थ्रीं थ्रां थ्रां थ्रां थ्रां थ्रां परापरसामरस्यरस मोहिनि परमशिव निवासिनि विकरालवेशधारिणि ख्फ्रें ह्स्फ्रें ह्स्ख्फ्रें फ्यूं ज्र्क्रीं ब्लूं स्त्रैं स्त्रौं फ्लीं श्रैं श्रौं छ्रैं छ्रौं क्ष्र्ह्रीं क्ष्ररह्रूं भ्लीं भ्लूं ब्लैं नरमुण्डमालाङ्कृते चतुर्दशभुवनसेवितपादपद्ये सप्तविंशतिनयने ग्ल्नीं स्हैः ल्यूं छ्रां श्रां स्त्रां क्रां प्रां ह्रां र्फ्लां र्फ्लीं ह् ल्क्षूं म्लां म्लीं म्लू भ्रां ण्रीं दिगम्बरि सकल मन्त्रतन्त्राधिदैवते गुह्यातिगुह्य परापर शक्तितत्त्वावतारे छ्रूं स्फ्लक्षूं र्क्ष्छ्रीं र्फ्लूं र्फ्लैं र्फ्लौं ह्स्ख्फ्रां ह्स्ख्फ्रीं ह्स्ख्फ्रूं ह्स्ख्फ्रैं ह्स्ख्फ्रीं ह्स्ख्फ्रीं ह्स्ख्फ्रं ह्स्ख्फ्रः ख्फ्छ्रीं ख्फ्छ्रूं कहलश्रौं कहलश्रूं फ्ल्क्षूं महाभोगी राजभूषितभुजदण्डे मनोवागगोचरे प्रपञ्चातीते निष्कले तुरीयाकारे छ्रें क्षैं हैं ह्रें र्क्ष्श्रीं औं खफछ्रें कहलंश्रां ह्रीः (ह्रं) हृः प्लीं प्लैं स्त्रीं स्त्रीं ख्फ्छ्रैं स्त्रीं ख्फ्छ्रैं स्त्रीं श्रीं झमरयूं ह्स्ख्फ्रिं ह्स्ख्फ्रुं महाखेचरीसिद्धि विधायिनि गगनग्रासिनि प्रबलजटाभारभासुरे वेदोपवेदमयसिंहासनाधिरूढ़े श्रौं श्रूं स्त्रें स्त्रों ख्फ्छ्रौं क्षरस्त्रौं कहलश्रें कहलश्रें लक्षूं म्लें म्लें क्षरस्त्रीं चां पां पां भ्रैं भ्रैं छ्रं छ्रं क्षरस्त्रैं क्षरस्त्रां क्षरस्त्रीं कहलश्रं कहलश्रः घोराट्टहासमन्त्रासित त्रिभुवने नवकोटिमालामन्त्र मय कलेवरे अतिविकरालातुरे ङूं श्रें ह्रूं श्रं र्ढ्रैं स्त्रं स्त्रं ( क्ष्लप्रूं) क्षां क्षीं क्षूं क्रीं क्रीं क्रीं क्रीं शिक्षा रह्रें रह्रें रह्रें रह्रें रह्रें ह्रें हीं हीं कल्पान्तकालप्रकाशिततमोगुणे महारुद्रशरीर सङ्क्रामितनिजवैभवे समुन्मूलितप्रणतनानाभवे अभवे च्रीं रक्षां ह्रैं चूं च्रैं च्रां क्षरस्त्रूं क्षरस्त्रूं सफहलक्षां ( क्ष्लौं ) रप्रीं च्रौं भ्लां रक्षीं कहलश्रीं क्ष्लफ्लओं सफहलक्षीं सफहलक्षौं रह्रछ्ररक्षह्रीं रह्ररक्षह्रूं हलफ्रकह्रीं हसफ्रूं रक्षफ्रछ्रीं रक्षफ्रछ्रूं वीरघण्टाकिङ्किणि डमरुनिनादितेऽपरिमितकायबल पराक्रमे चण्डाति चण्डकाण्डखण्डित दानव राक्षस दितिज समूहे विगतमोहे डां डीं डूं डैं डौं वूः रस्फ्रौं हसफ्रां हसफ्रीं खफ्रैं रम्लव्रीं ह्रक्षम्लक्रयूं स्हजहलक्षम्लवनऊं ओंश्रेंक्लीं यम्लव्रीं ठः क्लं क्षः डों फ्रों सग्लक्षमहरह्रूं व्लक्षमकह्रव्य्रईं रजझ्रक्षीं रजझ्रक्षूं लक्षमह्न जरक्रव्य्रऊँ शुद्धविद्यासंप्रदाय सिद्धशुद्ध चैतन्यस्वरूपे प्रकृत्यपरशिव निर्वाणसाक्षिणि त्रिलोकीरक्षिणि ब्रह्मरन्ध्रविनिविष्टसदाशिवैक सतासिन्धुमज्जनोन्मज्जनप्रिये सृष्टिस्थिति संहारानाख्याभासादि बहुविधभेदप्रकाशिनि कां कीं कूं कैं कौं रक्रां रक्रीं रक्रूं रक्रैं रक्रौं ह्रक्षम्लीं ह्रक्षम्लव्रयूं क्कलह्रझकह्रनसक्लईं डम्लव्रीं कम्लव्री रच्रां रच्रीं रच्रूं रच्रैं रच्रौं खफसहलक्षूं हस्लक्षकमह्रव्रूं ह्रक्षम्लफ्रयूं क्षमब्लहकयह्रीं क्लक्षसहमव्य्रऊं रक्रैं रक्रौं भगमालिनि भगप्रिये भगातुरे भगाङ्किते भगरूपिणि भगलिङ्गद्राविणि कालचक्र नरसिंह सुरतरसलोलुपे व्योमकेशिपिङ्गकेशि नियुतवक्त्रकरचरणे त्रिलोकीशरणे रझ्रां रझ्रीं रझ्रूं रझ्रै रझ्रौं हं लः अं चां छां जां झां जां रह्रें रह्रों हलक्षकमह्रसव्य्रऊं रजहलक्षमऊं क्षम्ल ब्रसहस्हक्षक्लस्व्रीं हक्लह्रवडकखऐं यंरक्षहभ्रध्रम्लऊं वम्लव्री रक्षभ्रम्लऊँ सम्लव्रीं लम्लव्रीं इं उं दीर्घदंष्ट्राचूर्णित मृतब्रह्मकपाले चन्द्रखण्डाङ्कितभाले देहप्रभाजितमेघजाले त्रयस्त्रिंशत्कोटि महादिव्यास्त्र सन्धानकारिणि महाशङ्ख्समाकुले खर्परविस्रस्तहस्ते रक्तद्वीपप्रिये मदनोन्मादिनि महोन्मादवंशीवादिनि टां टीं टूं टैं टौं रख्रां रख्रीं रख्रूं रख्रैं रख्रौं रक्लां रक्लीं रक्लूं रक्लैं रक्लौं कसवहलक्षमऔं सहठलक्षह्रमक्रीं सकह्रलमक्षखव्रूं ब्रकम्लब्लक्लऊं लक्षमह्रजरक्रव्य्रईं ह्रलसहकमक्षब्रऐं क्ष्लह्रमव्य्रऊं सलहक्षह्रूं हम्लब्रीं रलहक्षफ्रूं ह्रक्षम्लझ्रयूं ह्रक्षम्लय्रयूं ह्रक्षम्लह्रयूं ह्रक्षम्लह्रयूं खड्गखेटक खर्पर खट्वाङ्ग चक्र चाप शूल परिध मुद्गर भुशुण्डी परशु गदा शक्ति तोमर प्रासभिन्दिपालकर्त्रि कुणपहुलाकुन्त पट्टिशादियावदस्त्र शस्त्रधारिणि तां तीं तूं तैं तौं रग्रां रग्रीं रग्रूं रग्रैं (रग्रौं) रक्षफ्र रक्षफ्रभ्रधम्लऊं रक्षस्रभ्रध्रम्लऊं रक्षक्र भ्रध्रम्लऊं रक्षझ्रभ्रध्रम्लऊं रक्षब्रभ्रधम्लऊं ह्रलक्षमहम्लूं लक्षह्रमकसहव्य्रऊं महव्य्रऐं फ्रम्रग्लऊं रक्षम्लह्रकसछव्य्रऊं रट्रां रट्रीं रट्रं रट्रूं रट्रौं क्षम क्लह्रहसव्य्रूंऊं क्षब्लीं स्हलकह्रक्षूं क्षग्लीं लह्रकक्ष्मस्हव्य्रऐं रक्षम्रध्रय्रम्लऊं शुष्कनरकपालमालाभरणे विद्युत्कोटिसमप्रभे ऊर्ध्वकेशि विद्युत्केशि शवमांसखण्डकवलिनि महानादाटाट्टहासिनि वमदग्निमुखि फेरुकोटिपरिवृते चर्चरीकरतालिकात्रासितोद्यत् त्रिभुवने नृत्यनिहित पादाधातपरिवर्तितभूवलयधारिणि भुग्नीकृतकमठशेषभोगे पां पीं पूं पैं पौं र्छ्रां र्छूीं र्छ्रूं र्छ्रैं र्छ्रौं रलक्षध्रम्लऊं स्हक्ष्लमहज्रूं सक्ष्लहमयब्रूं रसखय्रमूं कहफ्लमह्रव्य्रऊं ह्रक्लक्षम्लश्रूं सहक्लरक्षमजह्र खफरयूं क्षक्लीं ह्रहलव्य्रकऊं मह्रक्ष्लव्य्रॐ क्षम्लीं म्लक्षकसहह्रूं रक्षरजक्ष्मक्ष्मरह्रम्लव्य्छ्रीं क्षहलीं खफछ्रेव्रह्रक्ष्मऋरयीं रजक्षमब्लहूं क्षक्लूं हसफ्रैं हसफ्रौं रख्रें रखें रग्रें वसामेदो मांस शोणित भोजिनि कुरुकुल्ले कृष्णतुण्डि रक्तमुण्डि चण्डे शबरि पीवरे रक्षिके भक्षिके यमघण्टे चर्चिके दैत्यासुरयक्ष राक्षसदानवकूष्माण्ड प्रेत भूत डाकिनी विनायक स्कन्दघोणक क्षेत्रपाल पिशाच ब्रह्मराक्षस वेताल गुह्यक सर्पनागग्रह नक्षत्रोत्पात चौराग्निश्वापदयुद्ध वज्रोपलाशनिवर्ष विद्युन्मेघविषोपविषक पटकृत्याभिचार विद्वेषण वशीकरणोच्चाटनोन्मादापास्मार भूत प्रेत पिशाचावेशनदनदीसमुद्रावर्तकान्तारघोरान्धकार महामारी बालग्रह हिंसक सर्वस्वापहारिमाया विद्युत्दस्युवञ्चक दिवाचररात्रिञ्चर सन्ध्याचर शृङ्गिनखिदंष्ट्रि विद्युदुल्कारण्य दवप्रान्तरादिनानाविध महोपद्रवप्रभञ्जनि सर्वमन्त्रतन्त्रयन्त्र कुप्रयोग प्रमर्दिनि सर्वबन्धदुःखप्रमोचिनि सर्वाहितनिकृन्तनि षडाम्नायसमयप्रकाशिनि परमशिवपर्यङ्कनिवासिनि प्रज्वलत्पावक ज्वाला जालातिभीषणश्मशानविहारिणि अचिन्त्यामितागणेयप्रभाव बलपराक्रम गुणवशीकृत कोटि ब्रह्माण्डवर्तिभूतसङ्घे विराट्रूपिणि सर्वदेवमहेश्वरि सर्वजनमनोरञ्जनि सर्वपापप्रणाशिनि आध्यात्मिकाधिदैविकाधिभौतिकादि विविधहृदयाधिनिर्दलिनि नियुतप्रचण्डदोर्बलिनि कैवल्यनिर्माणनलिनि गौरि अरूपे विरूपे विश्वरूपे अं औं एं ऊं सिद्धिविद्ये महाविद्ये खां छां ठां थां फां अजिते अलक्षिते अमिते अद्वैते अपराजिते अप्रतिहते अगोचरे अव्य्रक्ते गां जां डां दां बां भद्रे सुभद्रे किराति मातङ्गि चाण्डालि घां झां ढां धां भां द्राविणि द्राविणि भ्रामरि भ्रमरि ङां ञां णां नां मां उल्कापुञ्जिनि वेतण्डभण्डिनि कं खं गं घं ङं अनङ्गमालिनि अनङ्गवेगाकुले अनङ्गप्रिये किं खिं गिं घिं ङिं इन्द्रोपेन्द्रजननि मृत्युञ्जयगृहिणि खीं गीं रीं घी डीं सावित्रि गायत्रि महित्रि सवित्रि कुं खुं गुं घुं ङुं सरस्वति मेधे लक्ष्मि विभूतिप्रदे खूं घूं कामप्रदे कामाङ्कुशे कामदुग्धे कामस्रवे कें खें गें घें ङें कुमारि युवति वृद्धे खैं गैं घैं ङैं कात्यायनि ईश्वरि महारात्रिसन्ध्ये महानिशि कों खों गों घों ङों अध्वर्युकरङ्किणि करङ्कधारिणि कलङ्किनि खौं गौं घौं ङौं मायूरि कुक्कुटि नारसिंहि शान्तिस्वस्तिपुष्टिवर्धनि यां लां वां शां षां सां गङ्गे यमुने सरस्वति गोदावरि नर्मदे कावेरि कौशिकि चिं टिं तिं पिं छिं ठिं थिं तें क्षें भें फैं बैं भैं मैं सन्तानप्रदे सन्तानमालाभारिणि जिं ढीं कैं बिं सां छैं झिं क्षिं भिं कौलाचारव्रतिनि कौलाचारकुट्टिनि कुलधर्मरक्षिके जें बें ढें झें तें रें णिं सिं ढिं विश्वम्भरेऽचले प्रचण्डदयिते पशुपतिमहिते शचि शबरि सन्ध्ये सों यिं मिं निं रिं छीं लिं विं शिं षिं सिं हिं जगत्कारणकारिणि ब्रह्मेन्द्रोपेन्द्रभगिनि ढीं जीं चुं ञें धूं णीं छुं टें झीं ठें नें महारौद्रि रुद्रावतारे रुद्राविणि द्रविणि द्राविणि ञीं ठिं थीं दीं यें णें जैं ठीं फीं थें झैं ञैं नीं दें सङ्कल्पिनि विकल्पिनि प्रपञ्चप्रकल्पिनि बीं शूं जुं षुं भों मीं लें भीं सूं‍ षीं पें में थैं णैं ढैं अबीजे नानाबीजे जगद्बीजे बीजार्णवे सर्वबीजमयि चं छं जं झं जं तों थों दों धों नों यीं रीं लीं वीं शीं अमूर्ते विमूर्ते नानामूर्ते मूर्त्यतीते सकलमूर्तिधरे डुं ढं धें शें दैं सूं टं नां खिं डं ढं णं फों पों बों भों यों रों लों वों शों षों सों फैं क्षौं महामाये मायातीते मायिनि मायामोहिनी झुं ठुं णुं तुं टुं तं तं तं तं तं षें षें षें धैं नैं दुं थुं लं लं लं लं लं लं लं योगेश्वरि योगैकगम्ये योगातीते चण्डातिचण्ड महाचण्डयोगेश्वरि चण्डिके धुं धुं भुं भुं शूं शूं शूं शू शूं पं पं पं पं पं झूं झूं फौं फौं बूं बूं रूं रूं चों चों चों चों चों कालेश्वरि कालवञ्चनि कालातीते कालातिकालमहाकालीश्वरि टों पुं ढूं थूं णूं दुं ठुं फूं ठों ठों ठों ठों छौं छौं छौं छौं ब्रह्माण्डेश्वरि ब्रह्माण्डकलेवरे कोटिब्रह्माण्ड सृष्टिकारिणि फुं बुं थौं थौं थौं थौं ठौं ढौं णौं युं रूं लुं वुं मुं यूं ञें पें नूं सर्वेश्वर्ये सर्वेश्वरैकगम्ये सर्वैश्वर्यदायिनि सर्वसर्वेश्वरि ठीं षौं सौं भौं शौं लौं रौं यौं वौं यं रं लं वं शं षं सं हं क्षं र्श्रीं र्हीं रक्लीं रश्रीं रह्रीं रस्त्रौं रग्रों रघ्रों क्ष्लहक्षझ्रूं धूमकालि ओंह्क्षम्लछव्य्रऊं रघ्रीं रघ्रीं रच्रें रठ्रें रज्रूं रझ्रों रठ्रों रण्रां फट् नमः स्वाहा रघ्रां रच्रों रछ्रें रज्रें रझ्रूं रढ्रें छ्ररक्षह्रौं ह्रौं ग्लफक्षफ्रक्षीं क्षफ्लीं जयकालि जय जय जीव जीव छ्ररक्षह्रां ड्रौं रज्रैं रघ्रूं रछ्रौं रड्रां छ्ररक्षह्रीं हफ्रीं हफ्रीं फट् फट् फट् स्वाहा कहलक्षछलक्रक्ष्मऐं रहक्षम्लव्य्र अखफछस्त्रह्रीं क्षम्लू क्षरह्रूं रह्रछ्ररक्षह्रां रघ्रें उग्रकालि रठ्रीं क्षख्रीं रणीं नमः स्वाहा रड्रूं रघ्रैं नें रघ्रूं रथ्रूं रप्रें ख्रस्त्रें लक्षां रब्रीं ज्वालाकालि रद्रौं रज्रां रन्रूं फट् स्वाहा सक्लह्रीं सफ्रक्षक्लयावछ्रीं सक्लह्रीं धनकालि स्वाहा रज्रौं ख्रीं ( सान्निध्यम्) रठ्रां रड्रैं छ्ररक्षह्रैं घोरनादकालिलक्षीं रह्रछ्ररक्षह्रैं रक्क्षैं क्षब्लू नमः स्वाहा रठ्रौं रड्रैं रठ्रं रड्रीं रण्रों लीं किं रत्रां रह्रैं रजझ्रक्षैं रक्षफ्रछ्रैं रत्रूं चरक्ष्लहमह्रूं क्ष्लह्नसक्रूईं कम्लव्य्रईं कल्पान्तकालि सखह्रक्ष्मक्रीं रढ्रां रढ्रूं श्रौं रकक्षौं हसखफ्रम्ल क्षव्य्रऊं ( गह्वर कूटम् ) रक्षफ्रछां फट् स्वाहा रथ्रें रश्रैं रथ्रैं रफ्रों रब्रौं रभ्रूं वेतालकालि रह्रें रश्रों रघ्रां ह्रलक्षकमब्र्रूं क्षालूं रह्रां रथ्रौं स्हौं फट् फट् फट् नमः नमः स्वाहा रक्षैं रह्रौं रफ्रूं रक्षीं श्रैं रस्त्रे रस्त्रों रप्रौं क्लक्षह्रव्रमयऊं म्लव्य्रवऊं सक्लह्रकह्रीं कङ्कालकालि रक्लां रक्लें रम्रें रप्रूं रन्रों रद्रीं रद्रों रद्रां रध्रें रव्रैं स्वाहा ( क्षफ्रह्रैं) रत्रें रक्षों रकक्षूं रस्त्रीं रफ्रां रकक्षीं क्षहलू रथ्रीं रढ्रौं श्रः नग्नकालि तम्लव्य्रईं शम्लव्य्रईं स्हकह्रलह्रीं फट् स्वाहा रस्त्रां रक्षें रस्त्रैं ज्रौं रयूं खफ्रीं रढ़ीं फ्रस्त्रं रस्त्रां रक्लू खफ्रां रध्रैं रद्रें रद्रूं रथ्रों रन्रों रफ्रौं घोरघोरतरकालि ब्रह्माण्डपरिवर्तिनि हृक्षम्लब्रयूं रक्षक्रीं खमह्रीं क्षफ्लू रजझ्रक्षौं हफ्रूं रक्लो रभ्रौं रभ्रौंखफ्रभ्रूं स्वाहा खफ्रूं खलह्रव्नगक्षरछ्रीं दुर्जयकालि रघ्रों रफ्रां रफ्रीं रप्रों रन्रैं रब्रैं क्षह्रीं खफ्रौं नमः रणै हलक्षों लक्षें लक्षौं हलक्षूं मन्थानकालि सफहलक्षों स्वाहा रश्रें खफ्रों खफ्रौं शम्लह्रव्य्रखफ्रैं संहारकालि ज्वल ज्चल प्रज्वल प्रज्वल भीषणाकारं गोपय गोपय मां रक्ष रक्ष हसफ्रों क्ष्लौः हलक्षां लक्षैं फट् स्वाहा लक्षों हलक्षीं हलक्षें खफसहक्ष्लब्रूं क्रौं सहकक्षक्षह्रमव्य्रऊं आज्ञाकालि हलक्षैं नमः रत्रीं हलक्रैं सहक्षलक्षंहसफ्रें हलक्षौं रौद्रकालि रत्रैं रध्रौं फहलक्षां रन्रां फट् फट् फट् नमः स्वाहा (मातृ बीजं) (पौं) हसखफ्रं फहलक्षूं रन्रें ह्रमक्षब्रलखफ्रऊं तिग्मकालि रप्राँ फहलक्षें ( गणास्त्रं ) रप्रैं रफ्रैं नमः फहलक्षैं रत्रों सखह्रक्ष्मक्लां कृतान्तकालि करनिष्पिष्टत्रिभुवने तुरु तुरु हस हस रथां फहलक्षौं खफलक्षह्र महकब्रूं फहलक्षों फट् फट् फट् स्वाहा क्षरहम्लह्रकसछव्य्रऊं खहलक्षक्कक्ष्लहक्षऊं गहलक्षक्षकटलक्षरप्रीं महारात्रिकालि सर्वविद्याप्रकाशिनि रफ्रैं फहलक्षों रब्रां नमः रश्रूं (घाटीं) सफहलक्षें रथ्रीं रत्रौं सङ्ग्रामकालि जयदे जयं देहि देहि टहलक्षद्रडलरफ्रीं सफहलक्षैं रब्रैं रश्रां नमो नमः स्वाहा (हन ) ढ्रीं रब्रों टम्लव्य्रईं भीमकालि भयं मे नाशय नाशय हफ्रैं रभ्रां नमः स्फुर स्फुर प्रस्फुर प्रस्फुर चट चट कह कह शवकालि सखह्रक्ष्मग्लीं टहलक्षद्रड्लरफ्रीं रभ्रीं स्वाहा रम्रां रम्रों हफ्रौं रक्षफ्रछ्रौं चण्डकालि यम्लव्य्रईं रम्रीं स्वाहा रम्रूं रम्रैं म्लव्य्रमई रुधिरकालि फट् स्वाहा म्लव्य्रवऊं सखह्रक्ष्मह्रीं घोरकालि नमोऽस्तुते स्वाहा छ्रस्हक्षब्लश्रीं अभयङ्करकालिके कोटिकल्पान्तज्वालासमशरीरे म्लव्य्रहऊं नम: फट् स्वाहा ह्रफ्रें सखह्रक्ष्महूं ग्लक्षकमह्रव्य्रऊं सन्त्रासकालि भयं में शमय स्वाहा क्षस्त्रौं प्रेतकालि स्हक्षम्लव्य्रऊं नमः स्वाहा सं सां श्रद्घां करालकालि फट् फट् फट् नमः ख्रीं क्षस्त्रां म्लव्रवईं विकरालकालि चण्डचण्डे त्रिभुवनमावेशय स्वाहा क्षब्लकस्त्रीं प्रलयकालि श्रह्रीं क्षस्त्रूं सखह्रक्ष्मस्त्रीं स्वाहा नमः फट् छ्ररखफ्रीं क्षस्त्रैं श्रह्रूं क्षस्त्रीं थलहक्षकह्नमव्रयीं विभूतिकालि श्रियं मे देहि दापय स्वाहा खफ्रछ्रां खफ्रछ्रीं खफ्रक्लूं क्रह्रौं भोगकालि पक्षलव्रझ्रफ्रूं नमः स्वाहा श्रह्रैं श्रह्रैं खफ्रह्रैं खफ्रह्रैं सखह्रक्ष्मश्रीं खहलक्षमरब्लईं कालकालि मृत्युपाशं छिन्धि छिन्धि परविद्यामाकृष्य दर्शय स्वाहा दां दां दां क्रह्रां तफरक्षम्लह्रौं खमसहक्षवल्ल्रीं सखह्रक्ष्मक्लीं वज्रकालि वज्रमयाक्षरकलेवरे खफ्रक्लैं स्वाहा खफ्र्छ्रैंधैं खफ्रछ्ररौं क्रह्रीं क्रह्रूं खफसहक्ष्लब्रूं क्रौंसहकक्षछ्रह्रमव्य्रऊं विकटकालि विकटदेहोदरे सखह्र्रक्ष्मक्रैं फट् फट् फट् फट् फट् स्वाहा खफ्रछ्रां खफ्रछ्रूं फ्रतक्षम्लह क्षहथलहक्षह्रूं विद्याकालि विद्यां देहि दापय स्वाहा खफ्रक्लौं खफ्रह्रीं खक्षहलक्षब्रलीं सखह्रक्ष्मथ्रीं बलहक्षबल्रऊं कामकलाकालि खफ्रह्रूं खफ्रक्लीं नमः स्वाहा क़ह्रैं क्रप्रीं (अथवा ख्फ्रछ्रौं) स्हक्षम्लव्य्रीं शक्तिकालि खफ्रक्लां नमः खफ्रक्लूं हृस्त्रौं सखह्रक्ष्मठ्रीं दक्षिणकालि क्षस्हम्लव्य्रीं स्वाहा खफ्रक्ष्रूं खफ्रक्ष्रैं सखह्रक्ष्मब्लौं चलक्रथलहक्षह्रीं मायाकालि नमः क्षफ्लह्रीं भद्रकालि ख्लक्षक्षयवरखफछ्रें क्षह्रम्लव्य्रईं सखह्रक्ष्मजूं फट् नमः स्वाहा खफ्रह्रं खफ्रह्रीं क्रह्रौं कमह्लचहलक्षरज्रीं महाकालि ह्रग्लां नमो नमः स्वाहा ख्फ्रक्षां खफ्रह्रौं खफ्रह्रूं श्मशानकालि चहलक्षट्लहसख्रफ्रूं ह्रग्लीं ह्रग्लैं फट् नमः क्षखफ्रैं क्षखफ्रें सखह्रक्ष्मस्फ्रों टक्षसनरम्लैं ह्रग्लौं ह्रग्लूं कुलकालि क्षज्रूं क्षब्लीं नमः फट् स्वाहा रक्षख्रीं नादकालि क्षज्रौं क्षब्लूं क्षज्रां स्वाहा क्रह्रौं कह्रैं क्षस्हम्लव्य्रऊं क्षह्रम्लव्य्रऊं सखह्रक्ष्मक़ों क्षह्रम्लव्य्रईं मुण्डकालि क्षब्लैं क्षक्लां नमः क्षब्लौं क्षफ्रब्लीं म्लकह्क्षस्त्रीं सिद्धिकालि क्रह्लीं स्वाहा क्रह्रां क्रह्रूं नदक्षट्क्षव्य्रऊंछलहक्षलक्षफ्रग्लूं उदारकालि फट् फट् स्वाहा छ्रम्लीं क्षज्रैं सखह्रक्ष्मक़ों झसखय्रमूं क़ह्रैं स्वाहा फट् नमः रहृक्षम्लूं क्षज्रीं क्रह्रौं ह्रस्त्रां झसख़य्रमूं क्षस्हम्लव्य्रीं क्षह्रम्लव्य्रईं उन्मत्तकालि क्रह्रां स्वाहा नमः क्ष्रक्लूं क्रह्रीं ह्रक्षम्लूं क्षह्रम्लव्य्रऊं क्षस्हलव्य्रऊं सखह्रक्ष्महौं सन्तापकालि क्ष्रक्लीं क्रहुं फट् नमः स्वाहा हृक्षम्लां क्रह्रौं क्षह्रम्लव्य्रऊं कपालकालि अमृतं मयि निधेहि स्वाहा ह्रक्षम्लौं ह्रस्त्रूं रक्षख्रूं आनन्दकालि नमः फट् हृक्षम्लीं ह्रक्षम्लैं रक्षक्रूं निर्वाणकालि क्षस्हम्लव्य्रऊं स्वाहा क्लरह्रैं ह्रफ्रीं स्त्रीं ठ्लब्रखफछ्रीं ग्लकक्षहलैं भैं फैं विकालि फट् फट् फट् स्वाहा ह्रछ्रां छ्रह्रां छक्षकहलक्षप्रौं सखह्रक्ष्मफों महिषमर्दिनि बलहक्षबल्रूं फट् स्वाहा ह्रस्त्रैं क्लखफ्रां स्त्रख्फ्रौं रलहक्षम्लखफ्रछ्रीं गक्षटहलक्षचक्षफलक्षूं राजमातङ्गि सकलं मे वशं कुरु स्वाहा छ्रह्रैं ह्रक्लौं क्रह्रूं क्लखफ्रीं ह्रस्त्रूं सफक्ष्लमहप्रक्लीं सलहक्षचलहक्षजलहक्षजक्षज्रैं उच्छिष्ट मातङ्गि सर्वज्ञतां मे जनय फट् स्वाहा क्ष्लसहभव्रयूं लमकक्षह्नईं फ्रलक्ष्मकह्रूं नमब्लह्रक्षम्रग्लूं डलहक्षच्लद्रक्ष्मऐं लक्ष्मि निधिं मयि निवेशय स्वाहा त्लठ्लह् क्षथ्ल्ह्क्षदलहक्षक्षरहम्लव्य्रईऊं सलहक्षक्रमब्लयछ्रीं ह्रछ्रीं ह्रस्त्रौं महालक्ष्मि प्रसीद प्रसीद स्वाहा क्लखफ्रैं नमयव्लक्षरश्रूं ब्लहतह्रसचैं सखह्रक्ष्मसौः हक्षम्लव्रसहरक्लीं परमक्षलहक्षऐं छ्रींत्लठ्लह्क्षथलहक्ष दलहक्षक्षरहम्लव्य्ईऊं विश्वलक्ष्मि त्वर त्वर राज्यं मे देहि किं विलम्बसे स्वाहा ह्रीं ह्रक्षम्लैं शम्लक्लयक्षह्रूं अन्नपूर्णे अन्नैर्मे गृहं पूरय स्वाहा रलहक्षम्लखफछ्रूं क्लह्रीं डपतसगमक्षब्लूं दलडक्षवल्रहसखफ्रौं वाग्वादिनि ठफक्षथ्लमकस्त्रूं नमः खस्त्रों ह्रमलक्षग्रस्त्रीं (सूर्यक्रान्तकूटम् ) मक्षह्रसहरव्य्रऊं वनदुर्गे नमः फट् क्षख्रीं ह्रछ्रूं चफक्लह्नमक्ष्रूं सहठलक्षह्रमक्रीं कहलक्षश्रक्षम्लव्रईं कात्यायनि सखह्रक्ष्मघ्रीं सहम्लक्षह्रभ्लीं फलंयक्षकयब्लूं स्वाहा छ्रह्रौं सह्रक्षकह्हूं फसधमश्रयव्लूं ग्लक्ष्मह्रचहलक्षक्षरस्त्रां यरक्षम्लब्लीं चफक्षलकमयह्रीं तुम्बुरेश्वरि फट् नमः स्वाहा ह्रक्लीं ह्रक्षफ्लीं कसवहलक्षमऔं रलहक्षकहलह्रस्त्रें स्वाहा ह्रक्लां मव्लक्षफ्रध्रीं म्लगक्षएफ्रीं पद्मावति थफखक्षलव्य्रईं क्लल्रसहमश्रीं नमः (कंककूटम् ) जयदुर्गे सरहखफ्रम्लब्रीं नमः स्वाहा दुर्गे दुर्गे रक्षिणि स्वाहा ह्रछ्रौं फ्रक्षह्रस्हव्य्रऊं सरम्लक्षहसखफ्रीं जयलक्ष्मि संग्रामे जयं मे देहि दापय व्य्रतह्रक्षह्रीं (मेधासू०) व्लयनहक्षकहश्रूं फट् नमः स्वाहा श्रखफ्रूं ( सावित्री ) तमहलहक्षक्लफ्रग्लूं धनलक्ष्मि धनं वर्ष वर्ष वर्षापय वर्षापय नमः छ्रह्रीं क्ष्मक्लरक्षलहक्षव्य्रऊं तक्षक्लव्रख्रछ्रूं छक्षकहलक्षप्रौं पूर्णेश्वरि कह्रब्लजूं मनोरथं पूरय स्वाहा ह्रक्लैं मक्षक्रस्हखफछ्रूं म्लक्षह्रसहरव्य्रऊं बगले धग्लक्षकमह्रव्य्रऊं गपटतयजवलूं ग्लकमलहक्षक्रीं नमः फट् क्लक्ष्रौं सेखह्रक्ष्मठौं ग्लरक्षफ्रथरक्लीं रक्तचामुण्डेश्वरि कब्रम्लक्षस्हवलूं मव्लक्षफ्रध्रीं क्लश्रमक्षह्रम्लऊं क्लसमयग्लह्रफ्रूं स्वाहा क्लह्रां श्रखफ्रां क्लह्रूं क्षफ्रगकह्रनमह्रूं सरस्वति क्षलहक्षक्लस्त्रूग्लमक्षसक्लह्रों क्ष्मसकह्रीं झ्रकस्त्रक्षथ्रीं ह्रलसहसेकह्रीं स्वाहा फट् नमः क्लह्रौं फ्लमधहक्षक्षव्य्रऊं कब्लयसमक्षख्रछ्रूं क्ष्लमरझ्ररथ्रीं महामन्त्रेश्वरि व्रहठ्रम्लह्रूं म्लकह्रक्षस्त्रौं स्वाहा क्लक्ष्रीं नमः शूलिनि प्लहक्षक्ष्मझ्रहच्रूं फ्रपक्षग्लम्रीं रक्षलहव्य्रईं स्वाहा ह्रथैं भ्रमलक्षव्य्रकरह्रीं छ्रलक्षकम्लह्रीं भुवनेश्वरि सम ह्लक्षरक्षमस्त्रूं नदक्षट क्षव्य्रईऊं स्वाहा क्लह्रैं क्षक्षकह्रस्हझ्रयूं जपतरक्ष्मलयकनईं यन्त्रप्रमथिनि क्षम्लकस्हरयब्रूं क्लह्रक्षलहक्षमव्य्रईं ह्रक्लक्षम्लश्रूं त्रैलोक्यविजये विजयं कुरु कुरु जय जय फट् स्वाहा सहकरक्षमह्रक्लूं सखक्लक्ष्मध्रयब्लीं रलहक्षक्लसहफ्रआं ज्लह्रक्षगमछ्रखफ्रीं गुह्यामहाभैरवि रसकमहलक्षछ्रीं हलमकक्षह्रफ्रछ्रीं चम्लहक्ष सकलह्रूं ह्रफ्रैं फट् फट् फट् नमः स्वाहा ह्रसग्लक्षव्य्रऊं रफ्रों व्य्रक्लक्षह्रम्लूं राज्यसिद्धिलक्ष्मि वरनयक्ष्मग्लह्रीं व्रतरयहक्षम्लूं राज्यश्रियं मयि निधेहि स्वाहा ( लेपवीजम् ) रफ्रीं क्षब्लकस्त्रीं ठक्लक्ष्मलव्य्रह्रूं सनह्रलक्ष्मब्लूं क्लक्षहमह्रहसखफ्रूं राजराजेश्वरि भलनएदक्ष्रीं जसदनस्हक्षग्लूं हम्लकक्षव्य्रलछ्रौं लसरक्षकमव्य्रद्रींल्श्रौं (ततः कूटौ गजाक्रान्तौ कन्दर्प बलशातनौ ३।८१५) फट् फट् नमो नमः स्वाहा क्लखफ्रूं स्हक्ष्मह्रक्ष्ग्लूं ईक्षक्षए एक्लह्रीं अश्वारूढ़े नजरमकह्रक्ष्लश्रीं गमतक्षखफ्रह्रव्य्रईंऊं बसरझ्रमक्षव्रक्लीं नमः स्वाहा क्लह्रौं क्लह्रूं क्लटव्य्रक्षम्लीं रहह्रव्य्रक्लीं वज्रप्रस्तारिणि मकक्षह्रग्लब्लईं रलहक्षक्लस्हफ्रऊं जममक्षकह्रब्लजूं स्वाहा नमः लह्रक्षकमव्य्रह्रीं ह्रफ्रूं नित्यक्लिन्ने प्रसन्ना भव स्हक्ष्मह्रक्षग्लीं नमः स्वाहा हरसकक्षम्लस्त्रीं टसनमहक्षमखरऊं रलहक्षक्लस्हफ्रऊं अघोरे घोरघोरतररूपे पाहि पाहि त्रिलोकीं क्षग्लफ्रस्हरफ्रीं स्वाहा ह्रफ्रैंछ्रम्लक्षफ्लह्रहम्रीं कमक्षव्य्रकछ्रूं जय भैरवि जयप्रदे जय जय विजय विजय ह्लमक्षकमह्रीं कह्रवक्षक्रीं फट् स्वाहा नमः व्य्रधरमक्षच्लीं ह्रफ्रौं जय महाचण्ड योगेश्वरि ब्लक्षफहमछ्रव्रीं खतक्लक्ष्मव्य्रह्रूं रक्षगम्लरह्रीं बसरझ्रमक्षब्रक्लीं (बहुसुवर्णकूटम्) स्वाहा नमः फट् डखछ्रक्षहममफ्रीं क्षक्षक्ष्लफ्रचक्षक्षौं चण्डयोगेश्वरि क्षकभ्रह्लह्नमव्य्रईं थमक्ष्लकब्रह्रस्त्रूं छडतजलूं (शुद्धवत्यंकूटम् ) स्वाहा रलहक्षक्लस्हफ्रएं क्लफ्रीं त्वरिते नमः छतक्षठ्नह्नव्लीं क्लफ्रूं सक्ष्मह्लखफ्रह्रीं त्रिपुटे सर्वं साधय स्वाहा ह्रखफ्रीं रलहक्षक्लस्हफ्रऐं स्हक्लक्ष्मह्रग्लूं महाचण्ड योगेश्वरि ब्लमक्षमफख्रछ्रीं पपक्षम्लस्हखफ्रां फट् नमः हफ्रां रलहक्षह्लक्रीं क्लखफ्रां चण्डकापालेश्वरि छ्रमकश्रहयह्रूं स्हव्रह्रख्फ्रयीं मक्षव्लह्रकमव्य्रईं ह्रक्षफ्रकम्लईं गमहलयक्ष्लम्रीं फट् फट् फट् नमः नमः स्वाहा सहलक्रीं नमः स्वर्णकूटेश्वरि नकब्लम्क्षफ्रह्रीं ठक्ष्मलख्रछ्रीं हक्षमकह्रछ्रीं ब्लकक्षग्रमवरहस्त्रूं क्षलहक्षक्ष्मह्रक्ष्मएँ स्वाहा ( रथक्रान्तकूटं ) ( अनुवृत्तिकूटम् ) वार्तालि ( धूतपापानदी) ब्लक्षफ्ल व्य्रछ्रीं फ्रक्षब्लूं फट् क्ललफ्ररसमक्षक्लछ्रूं स्हफ्रसक्लह्रओं खफ्रह्रूं चण्डवार्तालि ब्रक्षम्लसह्रछ्रीं स्वाहा ह्रथ्रूं जयवार्तालि मव्लयटतक्षईं रमरयछ्रखफ्रीं सर्वज्ञतां देहि दापय स्वाहा छ्रक्षग्लमस्त्रव्य्रऊं खफ्रह्रैं रलहक्षक्लस्हफ्रओं ज्वलज्वल चैतन्य भैरवि लकछ्ररजरक्रीं स्वाहा कंहलंहंक्षूं नम: कालभैरवि कालेश्वरगृहिणि कालं में नाशय स्वाहा स्त्रखफ्रां रलहक्षहलब्रीं ज्रलह्फ्रव्य्रऊं उग्रचण्डे रसमयक्षह्रस्त्रीं यरब्लमक्षह्रऊं कप्रम्लक्षयक्लीं फट् नमः स्वाहा श्रम्लूं क्लक्ष्मफहसौः श्मशानोग्र चण्डे महाघोराकारधारिणि डमतक्षह्रब्रीं फट् स्वाहा स्त्रखफ्रीं यसम्लक्षसक ह्रव्य्रईं रुद्रचण्डे गसधमरयब्लूं गसनहक्षव्रईं नमः स्वाहा रहलक्षवलस्हफ्रअं प्रचण्डे क्षलहक्षभलम्लूं टरयलह्रब्लछ्रीं हंसम्लक्षप्रक्लीं कहलजमक्षरव्य्रऊं नमः फट् स्वाहा श्रख्फ्रीं खक्षमब्लईं फट् नमः करह्ररखफछ्रम्रीं पटक्षम्लस्हखफ्रूं नमः फट् कालचण्डे (धुनी) (मालिनी) फट् नमः श्रख्फ्रें रलहक्षक्लस्हफ्रअः कस्हक्ष क्षमश्रूं चण्डवति प्रसन्ना भव छ्रस्हक्षलश्रीं स्वाहा क्षलहक्षम्लब्रीं ह्रक्लक्षम्लश्रूं अतिचण्डे क्लम्लक्षस्हश्रीं घोररूपमुपशमय स्वाहा श्रखफ्रौं झ्रकस्त्रक्षथ्रीं चण्डिके कृपां कुरु कुरु नमः स्वाहा सह्रक्षक्लमव्य्रस्त्रीं ज्वालाकात्यायनि सलहक्षक्लब्रीं रक्षरजक्ष्मक्ष्मरह्रम्लव्य्रछ्रीं (वारुणवर्णम् ) रमयपक्षब्रूं फट् नमः ह्रहूंछ्रस्हक्षव्लश्रीं रलहक्षडम्लब्रख्फ्रीं उन्मत्तमहिषमर्दिनि टरक्षप्लमह्रूं जनथक्षकम्लव्रीं फट् स्वाहा ह्रभ्लीं नमः ह्रों मधुमति भोगसिद्धिं प्रयच्छ स्वाहा यस्हप्लमक्षह्रूं क्षलहक्षक्ष्मह्रक्ष्लओं त्रिपुरावागीश्वरि ब्रक्षम्लसह्रछ्रूं स्वाहा स्त्रहूं चण्डवारुणि सर्वमावेशय वरकजझ्रमक्ष्लऊं स्त्रह्रफ्रम्रीं नमः स्वाहा छ्रहूं (दीक्षा) ग्लौं कसवह्लक्ष्मओं (सौम्य) नमहक्षव्ग्रह्रूं फट् स्वाहा ह्रभ्लां जलयकक्षग्लफ्रूं क्षलहक्षक्ष्मह्रक्ष्मऊं धनदाघोरे धनं प्रयच्छ लक्षलहक्षमकह्रीं फट् नमः क्लहक्षमव्य्रफ्रीं कालरात्रि कालं मे नाशय नमः स्वाहा ह्रभ्लूं खफछ्रम्लग्रक्लीं रलहक्षहलक्लीं किरातेश्वरि जगद्वशमानय स्वाहा मयभनसलक्ष्रूं क्ष्लक्षम्लक्लीं दिगम्बरि नमः फट् ह्रभ्लैं क्षलहक्षक्ष्मह्रक्ष्लऐं कालसङ्कर्षिणि सनटमतक्षब्लभ्रीं कालं वञ्चय छपतयक्ष्लम्रीं स्वाहा श्रब्लां टनतमक्षव्लयछ्रूं जयकङ्केश्वरि म्रलक्षकह्रखफ्रछ्रीं रलहक्षक्लस्हफ्रआं जररलहक्षम्लव्य्रऊं ट्लत्लक्षफ्रखफ्रीं स्हएंक्लरक्ष्रीं नमः फट् स्वाहा श्रब्लौं ड्लहक्षम्लां सिद्धिलक्ष्मि समलक्षग्लस्त्रीं सहमक्षलखभ्रक्लीं ट्लत्लक्षफ्रखफछ्रीं ऐक्षकसखफ्रव्य्रऊं नमः जरक्षलहक्षम्लव्य्रऊं क्षक्षमह्रकहलश्रीं भ्रमराम्बिके जय जय ज्वल ज्वल संपत्तिं दद दद स्वाहा (विष्कभ्भ) नमः महामोहिनि मोहय मोहय जगद्वशं कुरु नमः थहरखफ्रह्रमब्लूं मसफ्लभरक्षव्य्रह्रूं कं हं लं ह्रं क्षूं शबरेश्वरि कुकृत्यं नाशय शरीरं गोपय गोपय स्वाहा श्रब्लीं कहफ्लमह्रव्य्रऊं महार्णवेश्वरि रत्नं दद दद फट् स्वाहा छ्रम्लक्षफ्लह्रहम्रीं धमसरब्लयक्ष्रूं हम्लक्षव्रसह्रीं चण्डेश्वरि तफरक्षम्लह्रौं फट् फट् फट् स्वाहा श्रब्लैं सलहक्षक्लक्लीं ह्लकझ्रक्षश्रीं बाभ्रवि नमः स्वाहा चमट्क्षव्य्रछ्रीं चमरगक्षफ्रस्त्रीं वज्रकुब्जिके ङ्ञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा महलक्षग्लक्लीं नरक्ष्लहक्षकलव्यह्रीं समयदेवि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा रसमयक्षक्लह्रीं क्षलहक्षक्षमह्रक्ष्लईं मोक्षदेवि ङमणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा (उत्तरानाड़ी ) ख्लभक्ष्मलव्य्रईं भोगेश्वरि ङमणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा । दरजभ्रम्लकक्षीं झ्रक्षग्लम व्य्रईं जयेशानि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा । रलहक्षक्लस्हफ्रईं ररटकरक्षम्रीं सिद्धीश्वरि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा कंह्लंह्रंखौं ह्लकझ्रक्षश्री आवेशदेवि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा नक्ष्मज्लहक्षख्फ्रव्य्रऊं रजम्क्षकम्लीं शिवचिन्तामणि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा फ्रखभ्रआंक्लमझ्रयूं चफसलहक्षमव्य्रऊं परादेवि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा मक्षक्लक्षव्य्रछ्रूं करयनप्लक्षफ्रीं हंसमहेश्वरि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा प्रहरक्षमहह्रक्लीं छत्क्षठ्नह्रब्लीं रत्नेशानि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा धलसहक्रक्क्षब्रलम्रीं ब्लयक्ष्मझ्रग्लथ्रूं कुलदेविके ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा रगहलक्षम्लयछ्रूं ग्लमक्क्षह्रछ्रब्रीं ज्ञानशिवे ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा ह्रम्क्षब्रलखफ्रऊं सलहक्षब्रठक्षईं नीलमहेश्वरि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा समरगक्षहसखफ्रीं टनतम्क्षब्लयछ्रूं कलादेवि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा रलफ्लहक्षखफछ्रौं जररलहक्षम्लव्य्रईं रसमयक्षक्लह्रीं निर्वाणदेवि ङञणनम अघोरामुखि किणि किणि विच्चे नमः स्वाहा श्रब्लौं चरफयम्लक्ष्मह्रूं कुक्कुटि राजनं मोहय मोहय वशीकुरु वशीकुरु नमः स्वाहा एक्लयक्षम्रट्रीं ससहलक्ष ह्रकमर धनदे धनं मे देहि दापय स्वाहा मंह्रंक्ष्लझ्रब्लूं खरगवक्ष्मलयव्य्रईं कोरङ्गि जरक्षलहक्षम्लव्य्रईं फट् स्वाहा फ्रदमहयनह्रूं डामरि मंह्रंफ्लझ्रब्लूं नमः फट् स्वाहा समहक्षव्य्रऊं रक्तदंति भयं मोचय स्वाहा नमः फट् चर्चिके शत्रुभयमुन्मूलय नमः स्वाहा क्लक्ष्मग्लव्य्रह्रूं सङ्कटादेवि सङ्कटं नाशय नाशय फट् स्वाहा समतर्खफछ्रक्लों सलहक्षब्रठ्क्षआं द्रैंजमरब्लह्रयूं चण्डघण्टे पापं मे शमय सिद्धिमुपनय फट् स्वाहा दमनडत्क्षसहव्य्रईं छ्रम्लक्षव्रकह्रीं मथह्लक्षप्रह्रूं चामुण्डे नरमुण्डकड्कालमालाधारिणि भीषणानने मक्क्षह्रग्लब्लईं फट् फट् नमः स्वाहा सक्लएईह्रीं रक्षमख्रछ्रस्त्रफ्रीं क्ष्लक्ष्लहक्षक्लौं महाकरालिनि नीलपताके फट् फट् स्वाहा स्हम्लक्षह्रभ्लीं मक्लक्षकसखफ्रूं नहरक्षस्त्रम्लह्रीं हरसिद्धे दुःखं हर हर सिद्धिं दद दद फट् स्वाहा नमः समगक्षलयब्लूं हम्लक्ष्मप्लब्रूं अनङ्गमाले देवि स्हम्लक्षह्रभ्लौं फट् स्वाहा क्लपट्क्षमव्य्रईं ( नाडीं रण्डा) फेत्कारि स्हफ्रकफ्लह्रस्त्रीं नमः स्वाहा म्लरलहक्षहलक्लीं महलक्षलखफ्रव्य्रह्रीं भोगवति भोगं प्रयच्छ (विश्वदूतानाडी ) स्वाहा ख्रहक्षमह्रव्रह्रीं लवणेश्वरि फट् स्वाहा रसमयरक्षक्षग्लीं यम्लरक्षसह्रक्लूं मृत्युहारिणि मृत्युं हर हर स्वाहा मनटत्क्षफ्लव्य्रऊं नमः नमः नाकुलि सर्वमुच्चाटय स्वाहा जरझ्रह्रमक्षक्लव्य्रऊं वज्रवाराहि संपदं देहि देहि फट् नमः स्वाहा फट् फट् फट् नमः स्वाहा भूतभैरवि भैरवं चालय चालय चट चट प्रचट प्रचट कह कह प्रलय मुखानलं वम वम द्विषन्तं हन हन संपदा गृह पूरय पूरय स्वाहा (स्वाहा स्वाहा नमो नमो ) नमः फट् फट् फट् चखफ्लक्षकस्हखफ्र नमः चण्डखेचरि ग्रहताराविमर्दिनि विकटोर्ध्वचरणे फट् स्वाहा नमः रम्क्षब्लस्हरह्रीं भगवत्यधर्मस्तकि मनणजङछिप्पिनि विच्चे शङ्खिनि द्राविणि हिलि हिलि किलि किलि नमः फट् स्वाहा लगम्क्षखफ्रसह्रूं क्रम्लैं पतक्षयह्रक्लखफ्रीं कामाख्ये कामान् पूरय फट् स्वाहा क्षम्लौं खफ्रमसलहक्षग्लऊं धूमावति धूमवर्णे धूमाङ्गरागे धूमलोचने वाचं स्तम्भय स्तम्भय नमो नमः फट् फट् स्वाहा नमः । ओं फग्लसहमक्षब्लूं हाटकेश्वरि हाटकं प्रयच्छ स्वाहा छ्रक्रूं ग्लठ्रां ग्लब्लैं व्य्रक्लक्ष्मछ्रीं रक्षफ्रसमहह्रव्य्रऊं हृदयशिवदूति दुष्टप्राण ( भ्रामरि भ्रामरि ) द्रविणि द्राविणि मांसशोणितभोजिनि रक्तकृष्णमुखि मा मां पश्यन्तु शत्रवः श्री पादुकां पूजयामि हृदयाय नमः त्रक्षज्रीं क्रथ्रूं (भेदं ) य्रमहल्क्षखफ्रग्लैं क्लसहमह्रक्षश्रीं शिवदूति स्वाहा भगवति दुष्टचाण्डालि रुधिरमांसभक्षणि कपालखट्वाङ्गधारिणि यो मां द्वेष्टि तं ग्रस ग्रस मारय मारय भक्षय भक्षय हन हन पच पच छेदय छेदय दह दह श्री पादुकां पूजयामि शिरसे स्वाहा ह्रभ्रां क्रप्रूं क्षफ्रह्रैं मफ्रलहलहखफ्रूं फग्लसहमक्षब्लूं शिखा शिवदूति जटाभारमहापिङ्गले विकटरसना कराले सर्वसिद्धिं देहि देहि दापय दापय रत्नवृष्टिं वर्ष वर्ष श्री पादुकां पूजयामि शिखायै वषट् ब्रच्रें ब्रच्रें ब्रफ्रथ्रों मह्रक्ष्लव्य्रऊं मरयक्ष्क्षसह्फ्रीं कवच शिवदूति महाश्मशानवासिनि घोराट्टहासिनि विकटतुङ्गकोकामुखि महापातालतुलितोदरि भूतवेतालसहचारिणि श्री पादुकां पूजयामि कवचाय हूं णम्लैं णम्लौं ह्रस्त्रों रसमस्त्रह्रव्य्रऊं फलंयक्षकयब्लूं नेत्रशिवदूति लेलिहानरसना भयानके विस्त्रस्तचिकुरभारभासुरे चामुण्डाभैरवीडाकिनीगणपरिवृते आगच्छ आगच्छ सान्निध्यं कल्पय कल्पय त्रैलोक्य डामरे महापिशाचिनि श्री पादुकां पूजयामि नेत्रत्रयाय वौषट् (वर्ह) । ख्लफ्रों झ्रहव्रक्ष्मसह्रीं (प्रस्हम्लक्षक्लीं) खफ्रध्रव्य्रओं छ्रध्रीं अस्त्र शिवदूति परापरगुह्यातिगुह्य समय रक्षिके फट् फट् फट् मम सर्वोपद्रवान् मन्त्रतन्त्रानुसम्भवान् परेण कृतान् कारितान् ये वा करिष्यन्ति तान् सर्वान् हन हन मथ मथ मर्दय मर्दय दंष्ट्राकरालि चण्डिनिकटे श्री पादुकां पूजयामि अस्त्राय फट् । छ्रक्रौं ऐं ग्लठ्रूं जरव्य्रसहक्षभ्रीं ज्रम्लक्षह्रछ्रीं व्यापक शिवदूति हूंहूंकारघोरनादवित्रासितजगत्प्रिये क्षस्फ्रौं क्रफ्रां क्ष्ख्रैं ( क्षक्लैं ) प्रसारितायुतभुजे महावेगप्रधाविते पदविन्यासत्रासितसकलपाताले गलद्रुधिरमुण्डमालाधारिणि महाघोररूपिणि ज्वालामालिनि पिङगजटाजूटे अचिन्त्यमहिमबलप्रभावे दैत्यदानवनिकृन्तनि श्री पादुकां पूजयामि नमः फट् स्वाहा ( नैयत्यकूटं) क्रफ्रें ज्रक्रीं (अर्गला ) गुह्यातिगुह्यं ज्रं ज्रक्रां (कुडुक्क) वश्यबगले द्रमटक्षसहक्लीं जगत्त्रयं वशीकुरु स्वाहा ज्रक्रों व्रप्लैं त्रिकण्टकि ( धारिणी नाड़ी ) मोहय मोहय जय जय ज्वल ज्वल नमः फट् स्वाहा व्रप्लों ग्लब्लूं हयग्रीवेश्वरि मयि विद्यां निधेहि स्वाहा ज्रब्रां ज्रबों रज्रौं सखक्लक्ष्मध्रयब्लीं भीमादेवि महाभीमे विकरालतराकारधारिणि भयं मे मोचय मोचय शत्रुं जहि जहि फट् स्वाहा सहलक्रूं सहलक्रों ( सुकल्पा) शक्तिसौपर्णिके शक्तिं प्रदर्शय नमः स्वाहा छ्रक्रां ज्रब्रैं रज्रों क्रथ्रां ग्लब्लां च्लक्ष्मस्हव्य्रख्रीं छ्रक्रैं क्रथ्रौं क्षज्लूं वैं फ्रख्भ्रां ख़स्त्रौं खरसफ्रम्लक्षछ्रयूं क्षस्त्रैं स्वाहा फ्रक्लां क्रख्रीं ग्लब्लौं कम्लक्षसहब्लूं संग्रामजयलक्ष्मि जयं देहि देहि तुभ्यं नमः स्वाहा (व्यासं ) नमो विजयप्रदायै किं विलम्बसे जयं मे समुपस्थितं साधयित्वैनमुपनय स्वाहा फ्लक्रौं क्षक्लूं ब्लफस्त्रें ख्लफ्रैं स्हक्ष्क्षकमफ्रब्रूं क्षेमङ्करि क्षेमं कुरु कुरु मधुमतीसिद्धिं दर्शय दर्शय फट् फट् फट् स्वाहा हलक्रों क्रप्रें ह्रभ्रीं मूकाम्बिके भक्ष्लरमहसखफ्रूं मूकं वादय वादय परविद्यां द्विधाकृत्य त्रुट त्रुट छिन्धि छिन्धि फट् फट् स्वाहा नमः म्लैं छ्रहभ्रूं ( करकाकरके ) उग्रतारे फट् फट् स्वाहा ( अवारं) क्षख्रौं (क्षक्लौं) (पारं) नीलसरस्वति स्वाहा सहलक्रौं ज्रब्रूं क्षज्लां स्ह्ल्क्रें रफ्रसकम्लक्ष्रज्रीं एकजटे क्षज्लैं क्रौं क्रफ्रों क्षज्लें ह्रफ्रीं स्वाहा क्षफ्रह्रों फ्रखभ्रां (वृद्धि) फ्रक्लूं ध्रीं (वैरोचन) क्ष्मलरसहव्य्रह्रूं नमः स्वाहा ( श्रुति ) (बीजानां श्रुतिमेव च उड्डियानं ततो बीजम् ) क्षफ्रह्रां पिङ्गले जगदावेशिनि जगन्मोहय मोहय पिङ्गलजटाजूटे प्रसीद स्वाहा स्ह्ल्क्रीं ज्रक्रूं चफलक्रूं व्रप्लीं ब्रह्माणि (सेतुकूटम् ) निगमं प्रकाशय प्रकाशय त्रिलोकीं सृज सृज विसृज विसृज फट् फट् स्वाहा क्रफ्रों क्रफ्रूं ग्लठ्रैं ब्लकक्षहमस्त्रछ्रूं माहेश्वरि चन्द्रखण्डाङ्कितभाले भुजङ्गभोगभूषित कलेवरे जय जय जीव जीव प्रसीद प्रसीद स्वाहा ग्लख्रें छ्रहभ्रीं ग्लखैं फ्रथ्रें ( छिप्पि) क्लक्ष्मस्हख़व्रीं महाशक्ति धारिणि भगवति कौमारि मयूरध्वजे ताम्रचूडपिच्छावतंसिते जय जय विजय विजय स्वाहा त्रक्षज्रूं सहलक्रां व्य्रक्षस्हम्लस्त्रीं वैष्णवि सुपर्णवाहिनि कैवल्यं प्रयच्छ स्वाहा ज्रब्रीं ज्रब्रें सहलक्रैं स्हछ्रक्ष्लमरव्य्रईं वाराहि दंष्ट्रासमुद्धृतधरणिमण्डले चक्रविनिष्कृतदितिजदानवपीवरोरुबाहुदण्ड क्षोभितसागरे ज्वल ज्वल प्रज्वल प्रज्वल संदर्शितविश्वरूपावतारे फट् फट् स्वाहा क्षज्लों (जौं) (वचनम् ) धम्रब्लक्षफ्रखछ्रीं नारसिंहि खरनखरविपाटित महादैत्य विग्रहे सटाविनिर्धूत सप्तलोके (नीराजन प्रादेश) फट् फट् फट् स्वाहा ब्रफ्रथूं छ्रहभ्रैं ड्लहक्षभ्लां तफलक्षकमश्रव्रीं विष्णुमाये मायां नाशय नाशय ज्ञानं प्रकटय स्वाहा (आरंजि वशिकं ) व्रप्लें इन्द्राणि मधस्त्रकक्षलक्रीं राज्यं मे देहि स्वाहा ब्रफ्रथ्रें क्ष्लप्रूं क्ष्लप्लें क्रख्रों (स्वाति ) मसक्षग्लयह्रीं परमहंसेश्वरि योगवति धर्मप्रवर्तिनि वैराग्येण मुक्तिं साधय स्वाहा छ्रह्भ्रां व्रफ्रथ्रां क्ष्लक्षूं मोक्षलक्ष्मि फ्रखरक्षक्लह्रीं कह्रक्लक्षखफ्रीं डलहक्षज्लमफ्रव्रीं अज्ञानं शमय ज्ञानं प्रकटय कैवल्यं मयि निधेहि स्वाहा ब्लछ्रौं ब्लछ्रों व्रच्रौं हलक्रों ( श्रोतपदं कूटम् )शातकर्णि भ्रामकि क्षामकि कान्तरवासिनि क्ष्लप्रैं ग्लख्रौं फट् फट् फट् नमः स्वाहा जं जं विघ्नं नमः स्वाहा जातवेदसि जातवेदोमुखि ज्वालामालिनि रम्लव्रीं वम वम धम धम स्फुर स्फुर प्रस्फुर प्रस्फुर फट् स्वाहा प्रखभ्रैं क्रख्रां क्षफ्रह्रौं महानीले शत्रुसैन्यं स्तम्भय स्तम्भय मारय मारय स्वाहा नमः फट् ख्फ्रभ्रौं ( श्रौत्रक्रम) अपराजिते राज्यसिद्धिं जयलक्ष्मीं देहि दापय स्वाहा क्रख्रू क्रख्रूं क्रख्रूं ( श्रौत जटाकूटम् ) गुह्येश्वरि गुह्यविद्यासमय प्रकाशिनि प्रपञ्चातीतस्वरूपे मां रक्ष रक्ष महाविघ्नेभ्यः सर्वोपद्रवेभ्यः स्वाहा श्रह्रौं ख्फ्भ्रीं क्रख्रौं ( श्रौतवाल्लेय कूटकम् ) नमो नमः फट् स्वाहा अभये भवभयं मोचय निवृतिं देहि फट् फट् नमः स्वाहा फ्रृ्रैं फ्रथ्रौं बु खरसफ्रम्लक्षछ्रयूं ( श्रौतधन) रलहक्षसमहफ्रछ्रीं एकवीरे महाबलपराक्रमे भगवति जगदावेशिनि त्रिलोकीं वशीकुरु स्वाहा ख्फ्रभ्रें क्रप्राँ (पशु) ( श्रौतध्वजकूटम्) महाविद्ये सर्वं मोहय मोहय उच्चाटय उच्चाटय किरि किरि किलि किलि छिन्धि छिन्धि कह कह फट् फट् स्वाहा ह्रभ्रों ग्लख्रीं (चंचला) (पोष) (निस्तल) ( श्रौतस्रज) धशड्लझ्रह्रीं भगवति तामसि तमः स्वरूपे ममाज्ञानं नाशय नाशय उन्मूलय उन्मूलय हन हन त्रुट त्रुट ध्वंसय ध्वंसय मूर्च्छय मूर्च्छय टफ्रकमक्षजस्त्रीं नमः स्वाहा रक्षें ब्रच्रीं क्रप्रीं कुलकुट्टिनि ( मालाकूटम्) कुलचक्रप्रवर्तिनि गुह्यविद्याप्रकाशिनि ण्रम्लीं ण्रम्लूं ह्रस्त्रूं फट् स्वाहा नमः समब्लकक्षव्य्रऊं तम्लव्य्रईं कुलेश्वरि गुह्यातिगुह्य समय कुलचक्रप्रवर्तिनि ह्रखफूं रच्रां व्य्रक्रीं विश्वपालिके विश्वं पालय पालय त्वामहं नमामि स्वाहा (ऋतम्)(अंश) ग्लख्रौं झथक्षमफ्रश्रौं विश्वरूपे चतुर्दशभुवनमात्मनि संदर्शय स्वाहा क्ष्लप्रों फ्रस्त्रीं क्रप्रैं ट्लव्य्रसमक्षहछ्रीं रक्तमुखि नीललोहितेश्वरि कल्पान्तनर्तकि नृत्य नृत्य गाय गाय हस हस चर्चरी तालिके मां रक्ष रक्ष संवर्तकारिणि स्वाहा ह्रस्त्रौं ह्रस्त्रीं ( कणं) ( रयिम् ) ज्लकहलक्षव्रमथ्रीं जयन्ति द्विषन्तं जहि जयन्तं पाहि राज्यं भगं श्रियं देहि स्वाहा ब्रमक्लयसक्षक्लीं नमो नमः एकानंशे सृष्टिस्थितिप्रलयकारिणि सदाशिवार्धतनुधारिणि सर्वकृत्याप्रमर्दिनि नमः स्वाहा ( सन्ध्यासूक्त ) (वर्ष्म) ईंसकहमरक्षक्रीं ब्रह्मवादिनि ब्रह्मज्ञानं प्रकाशय अज्ञानं शमय स्वाहा ह्रस्त्रें ज्रक्रां चफलक्रैं (मोहकूटम्) ( मयु) (जन्या) कामाङ्कुशे प्रपञ्चातीतसंविदा लम्बिनि भवभयं हर हर नमः स्वाहा फ्रखस्हहमब्रयूं गरमश्रब्लक्षश्रीं झक्ररहक्ष्मव्य्रऊं आवेशिनि फ्रस्त्रौं र्ख्रधें ख्ल्फ्रां ह्लक्रैं सर्वमाविष्टं साधय साधय फट् फट् फट् स्वाहा नमः । ह्रभ्रूं ह्रभ्रें हल्क्रौं र्फ्लौं क्लमयक्ष्लहक्षब्रीं मायूरि चित्राङ्कि सर्वसिद्धिं प्रयच्छ विघ्नं नियच्छ सर्वं स्थूलाकारं दर्शय स्वाहा (वेश) फ्रथ्रीं (अन्ध) झक्ररहक्ष्मव्य्रऊं त्रिकालवेदिनि सर्वज्ञतांसाधय साधय त्रिभुवनवृत्तान्तमावेदय कर्णपिशाचिनि कर्णमुपेत्य सकलं चराचरं कथय स्वाहा ख्लफ्रें (वीथी) ब्लाछ्रां क्षम्लजरस्त्रीं महामारि महामरककारिणि कङ्कालिनि कङ्कालधारिणि खट्वाङ्गभ्रामिणि खट्वाङ्गं भ्रामय भ्रामय अपमृत्युं हर हर ब्रह्मविष्णुशिववाहिनि फट् फट् फट् नमो नमः स्वाहा फ्रथ्रों ग्लख्रूं इन्द्राक्षि (णि ) स्वाराज्यं दद दद दापय दापय हरिहरमहिते त्रिलोकललिते तारिणि तारय शत्रून् मारय मारय प्रचण्डविद्ये फट् फट् स्वाहा नमः (वस्तु ) क्षब्रां डलखलहक्षख्रम (मनः कूटम् ) (दिष्टं ) घोणकि भूतपिशाच प्रेत यक्ष राक्षस कूष्माण्ड योगिनी डाकिनी भयं नाशय नाशय श्मशानम् आनय आनय गह्वरं प्रविश हट्ट हट्ट नमः फट् स्वाहा ब्रफ्रथ्रैं ब्रफ्रथौं क्ष्लप्रीं मङ्गलचण्डि

मङ्गलैर्गृहं पूरय पूरय मङ्गलावतारे फट् स्वाहा ब्लछ्रीं क्ष्ख्रूं ( क्षक्लूं) फ्रस्त्रां मधस्त्रक्क्षलक्रीं चण्डोग्रकापालिनि खड्गाञ्जनपादुकासिद्धिं मे देहि देहि अव्याहतगतिं प्रयच्छ प्रयच्छ चिताङ्गारभस्मधारिणि धर धर चट्ट चट्ट नमः फट् ब्लछ्रूं क्षब्रों सफ्रक्षक्लमखछ्रीं सम्पत्प्रदे भैरवि संपदं दद दद हिरण्यवृष्टिं वर्ष वर्ष वर्षापय वर्षापय धनधान्यरत्नानि देहि देहि दापय दापय ण्रम्लौं फट् फट् स्वाहा नमः ब्लछ्रैं क्षब्रौं ज्रक्रैं नमो नमः फेरु चामुण्डे मालाकंकाल शुष्कान्त्रधारिणि शार्दूलचर्मवासिनि नरमुण्डकुण्डले शुष्कोदरि शुष्कानने हा हा अनन्त खट्वाङ्गधारिणि उड्ड उड्ड कह कह ब्लछ्रें फट् फट् फट् नमः स्वाहा ज्रक्रौं रख्रध्रां ह्रस्त्रां श्मशानचामुण्डे (पिण्डकूटम् ) मातङ्गभोगताटङ्किनि शैलकटिसूत्रिणि प्रज्वलद् घोर चितानल निवासिनि वमन्मुखानले भस्मीकृत दानवे हूं हूंकारनादत्रासितत्रिभुवने फट् फट् फट् नमः स्वाहा क्रह्रूं नमः कङ्कालिनि कङ्कालकरङ्क किङ्किणीनादभूषितविग्रहे महार्णवशायिनि महोरगविभूषिते (प्रपञ्च) ब्रह्माण्डचर्वणाजातकटकटा महानादपूरिताम्बरे भीमाकारधारिणि महाप्रहारिणि श्मशानचारिणि तुरु तुरु मर्द मर्द ज्वल ज्वल फट् फट् फट् नमो नमः स्वाहा ( सामा ) ( वादं ) ( मौलिकं ) महामायूरि-महाचाण्डालिनि सर्वकृत्या प्रमर्दिनि ये मां द्विषन्ति प्रत्यक्षं परोक्षं तान् सर्वान् दम दम मर्दय मर्दय विपातय विपातय शोषय शोषय उत्सादय उत्सादय हन हन पाटय पाटय प्रणतान् पालय पालय पाहि पाहि नमः स्वाहा फट् फट् फट् स्त्रीं (कूटबीजं ) । नमो रुद्रपिशाचिनि प्रेतभूषणे प्रेतालङ्कारमण्डिते जम्भ जम्भ हस हस ब्रह्माणि माहेश्वरि वाराहि वैनायकि चामुण्डे महाविद्ये जगद्ग्रासिनि जगत्संहारिणि पीवरि शबरि नायिकानायिके हं चक्ष हं भक्ष फट् फट् फट् स्वाहा ख्लफ्रूं रख्रध्रौं ख्लफ्रौं फट् फट् फट् नमो नम: कालशबरि कालं वञ्चय वञ्चय तुरु तुरु मुरु मुरु महाकालगृहिणि चन्द्रिके चन्द्रखण्डावतंसिते अट्टाट्टहासिनि मर्मरिणि चर्पटिनि तुन्दिलोदरि डामरि क्षामरि कुलसुन्दरि हं हं हं खिलि खिलि भिनि भिनि स्वाहा ण्रम्लां भद्रिके लाङ्गूलिनि महामार्जारिणि चट चट प्रचट प्रचट कह कह धम धम मुखानलं वम वम महाकान्तारगहनवासिनि पापं नाशय दुःस्वप्नं हर लोहिनि फट् लोहिनि फट् लोहिनि फट् नमः स्वाहा ब्रप्लूं प्रेतमातङ्गि प्रेतासनयोगपट्टिनि कुणपभोजिनि प्रेतवेताल मध्यचारिणि भूतं भव्यं भविष्यत् सर्वमावेदय फट् फट् स्वाहा नमः ब्रप्लौं (वास) कुरुकुल्ले कापालिनि कापालवेशधारिणि कङ्कालिनि कङ्कालमालाधारिणि बन्ध बन्ध छिन्धि छिन्धि चिकि चिकि त्रिजटे सर्वमुच्चार्यं स्फुरतु फट् फट् नमः नमः स्वाहा फ्रम्रग्लों घनाघनाकारधारिणि श्यामाम्बरे तरुच्छदानुपिहितजघने गुञ्जाहारिणि मयूरपिच्छे चित्रचूड़े दिगम्बरि तुभ्यं नमः ख्रस्त्रें कालिङ्गि महोत्पातप्रवर्तिके भुजगरूपधारिणि नमः स्वाहा फ्रम्रग्लूं फ्रख्भ्रीं फ्रख्भ्रूं फ्रख्भ्रैं सफक्षयक्लमस्त्रश्रीं स्हव्य्रख्रक्ष्मक्रूं सफक्षयक्लमस्त्रश्रीं हस्ख्फ्रक्ष्रीं हसखफ्रूं क्षरस्त्रखफ्रूं ख्फ्रीं मृत्युञ्जये फट् स्वाहा जनहमरक्षयह्रीं सकलमन्त्रमय शरीर कल्पित षडाम्नाय देवता प्रतिपन्ननिखिल तत्त्वसञ्चारितसमस्तभूत सङ्घे जय जय प्रज्वल प्रज्वल ( अनय) कापालव्रतधारिणि ( युक्त) समयक्रमचारिणि फ्रभ्रग्लीं कौलसिद्धान्तकारिणि ज्ल्ह्क्षट्लझ्रव्रीं संसारबन्धं मोचय मोचय छेदय छेदय अविद्याक्लेशविपाक प्रपञ्चाशय मिथ्याध्यासाहङ्कार वासनापाशच्छेदिनि लयक्षकहस्त्रव्रह्रीं परमार्थस्वरूपिणि निस्त्रैगुण्ये फ्रम्रग्लें ख्रस्त्रैं ख्रफ़्रह्रमक्षश्रीं शुद्धविद्यावलम्बिनि मायाविमोचिनि अपरशिवपर्यङ्क निलयिनि विकारातीते फ्रम्रग्लैं क्षस्त्रों प्ख्रसम्क्षस्त्रक्रीं ग्लांम्लह्रथ्रयीं श्रुत्यगोचरे अवितथे सत्यविज्ञानानन्द ब्रह्माकारिणि पुराणे ब्रह्मपुच्छ प्रतिष्ठिते निर्विकारे चरमे निरिन्धने फ्रम्रग्लौं क्षस्त्रें अस्थूले अनणो अह्रस्वे अदीर्घे अलोहिते अस्त्रेहे उच्छ्राये अतमोवाय्वनाकाशे असङ्गे अरसे अगन्धे अचक्षुःश्रोत्रे अपाणिपादे अवाक् अमनस्के अतैजसि अनिन्द्रिये अप्राणे अमुखे अमात्रे अलिङ्गे अनन्तरे अबाह्ये अनदृष्टे अनुपादने प्रकृते अनुद्भवे अमृत्यो अलघो अमहीयसि अशरीरे अबन्धे अपुण्यपापे क्लीं (निरञ्जन कूट) क्ष्लक्षीं योगविद्ये तत्त्वविद्ये मोक्षविद्ये ज्योतीरूपे प्रशासितसूर्याचन्द्रे प्रपूरितद्यावापृथिवी रोदसीपाताले देविहिरण्मये विरजे निष्कले कर्त्रि ईशे साक्षिणि आत्मक्रीडे आत्मरते सत्ये अनन्ते महिते बृंहिते अजे शाश्वते हसखफ्रूं सुषुप्त्यवस्थिते तुरीयाभिधे जातवेदसि मानस्तोके शुक्लब्रह्मामृतमयि परमामृतानन्ददायिनि चिन्मात्रावयवे पृथिवीरूपे आप्रूपे तेजोरूपे वायुरूपे आकाशरूपे लिङ्गशरीररूपे जरायुजाण्डजस्वेदजोद्भिज्जरूपे संसाररूपे सगुणनिर्गुणात्मिके चण्डि चण्डप्रतीके जनिते मरणभयदारिणि भक्तजनतारिणि विश्वजनमोहिनि सकलमनोरथदोहिनि ईसमक्लक्षह्रूं प्रेतवाहिनि वषट् क्ष्लक्षैं वौषट् (शफ श्रौषट् ) त्रिभुवने सृष्टि प्रलयसँहारमहानाट्य प्रिये निखिलगुह्यसूत्रधारिणि कालिकासम्प्रदायपालिनि भुजगराजभोगमालिनि नवपञ्चचक्रनिलयिनि क्षस्त्रां छज्रमकव्य्रऊं सर्वभावावबोधिनि रस्त्रां सकलनिष्कलाश्रयिणि क्षस्त्रीं सृष्टिस्थितिसंहारानाख्याभासापदप्रिये चण्डयोगेश्वरि भेदसहस्रयथार्थप्रवर्तयित्रि फ्रख्रभ्रें षडाम्नायसारभूते फ्रख्भ्रों फ्रख्भ्रौं षडाम्नायातीते रक्षलह्रमसहकव्रूं कस्हलह्रख्रक्षीं रब्लकमम्क्षग्लीं फ्ररक्षस्त्रमक्रूं त्रिकालाबाधिते ट्लसकम्लक्षट्व्रीं थ्लव्य्रम्रछ्रख्रीं सफ्रकह्ररक्षमश्रीं थलहक्षकह्रमब्रयीं प्रमेयातीते तत्वमसि रत्रौंओं छ्रवलव्य्रम्क्षयूं द्लव्य्रक्षक्रभ्रीं निर्वासने मफ्रठ्क्षब्रीं ग्ल्हक्षम्लजक्रूं ट्लहक्षस्त्रमव्रयीं निर्विकल्पे त्लम्क्षफलहक्षव्रीं स्हफ्रमव्रयक्षीं कहख्रव्य्ररक्ष्रीं सत्तामात्रे सक्लह्रह्स्ख्फ्रक्ष्रीं एसकहलक्षांव्य्रम्रूं सन्तताभासाशब्दानन्दमये म्लछ्लह्क्षख्फ्रक्रीं प्लड्लहक्षमव्रयीं चिदाकारिणि हस (एकारव्य) सक्लह्रीं सामरस्यलयिनि साहमेवास्मि रहफ्रसमक्षक्रीं अकारोकारभकाररूपे प्रवृत्तिनिवृत्तिरूप द्विपथचारिणि तत्त्वमसि ब्रह्माहमस्मि फट् फट् फट् नमो नम: ओं (सामुज्य) स्वाहा ।

३४. नवकूटाक्षरः शाम्भवमन्त्रः —
ओं ह्रीं फ्रें छ्रीं रहक्षम्लवरयरीं क्षस्हम्लवरयूं क्षह्रम्लव्य्रऊं खफ्रीं ओं ।
मूर्खारण्यस्वामिचरणास्तु – ओं ह्रीं फ्रें छ्रीं रहक्षम्लवरयरीं सहक्षलवरयूं हसकहलह्रीं रक्षमतरखप्रीं ओं ।

३५. पञ्चदशकूटाक्षरः महाशाम्भवमन्त्रः —
ओं ऐं हौं क्ष्रौं स्त्रीं ख्फ्रें क्रां क्लक्षहमह्रहसखफ्रूं सहक्षमलवरयूं क्षस्हम्लवरयीं हसगक्षमलवरयूं ( सर्वोच्चम् ) (आद्योच्चम् ) ख्फ्रें क्ष्रौं हौं ऐं ओं । इयं पञ्चदशी ख्याता महाशाम्भवनामिका इत्यस्य कथं सङ्गतिरिति सुधीभिः साधकैश्च विभावनीयम् । यथा पाठमिह सप्तदशाक्षरत्वं मन्त्रस्य दृश्यते । मूर्खारण्यस्वामि चरणास्तु — ओं ऐं ह्रौं क्षरौं ख्फ्रें रहक्षमलवरयूं हसक्षमलवरयूं सहक्षमलवरयूं हसक्षमलवरयीं हसगक्षमलवरऊं ख्फ्रें क्षौं ह्रौं ऐं ओं — इति निर्दिशन्ति ।

३६. नवाक्षरस्तुरीयामन्त्रः —

(परन्तु यहां मन्त्र दशकूट का है)
फख्रह्रां रक्ष्मरूं फ्रखक्षठं फलखक्षैं सतरलमक्षफबरयलीं जनहमलक्षयह्रीं हसलक्षकमह्रवरूं फ्रखक्ष्रीं हसखफ्रां फ्रमश्रूं । यद्यपि महाविद्यातुरीयेयं मुक्तिदात्री नवाक्षरी ४ । १७६ ॥ इत्युक्तमिह तु दशाक्षरमन्त्रः स्वामिमूर्खारण्यचरणैर्निर्दिष्टः कथमस्य सङ्गतिः तथापि सुधीनां साधकानां च विचाराय प्रस्तुतोऽत्र मन्त्रोद्धारः ।

३७. सप्तदशाक्षरः महातुरीयामन्त्रः —

खफ्रक्ष्रीं फ्रखक्ष्रूं ( फ्रखभ्रूं) रक्षह्रूं ( छ्ररक्षह्रूं ) हसफ्रौं रजझ्रक्षूं छ्रीं रफलवरयमक्ष्रूं सकलह्रीं ख्फ्रां क्ष्रूं रहफ्रीं मसक्षझ्रीं बलहसक्रमछ्रयी हसवरयलक्षमझ्रूं सफक्षयकलमसवश्रीं तवलहसद्रां हसखफ्रैं हसखफ्रौं रक्षह्रीं रक्षसतर खफ्रूं हंसः सोऽहम् ।

३८. ऊनविंशाक्षरः निर्वाणमन्त्रः —

ओं फ्रखक्षौं ह्रीं रक्ष्रमछ्रूं फ्रें फ्रखक्ष्रैं छ्रीं सतरलयक्षकवरयीं रहक्षमलवरयीं जनहसलक्षह्रीं सहक्षमलवरयूं हसलक्षकमकरब्रूं हसकहलह्रीं फ्रखक्ष्रैं छ्रीं सतरलयक्षकरवयीं रहक्षमलवरयीं जनहसलक्षह्रीं सहसमलवरयूं हसलक्षकमकरब्रूं हसकहलह्रीं फ्रखक्ष्रीं रक्षसतरखफ्रीं हसखफ्रां फशसग्लूं हसक्षमलवरयरहक्षमलवरयूं ।
यद्यपि इत्यूनविंशत्यर्णोऽयं निर्वाणाख्यो महामनुः इत्युक्तम्, स्वामि श्रीमूर्खारण्यचरणैस्तु षड्विंशत्यक्षरात्मको मन्त्रो निर्दिष्टः कथमस्य सङ्गतिरिति साधकैरालोचनीयम् । स्वामीमूर्खारण्यजी ने इसे २६ कूट का बताया है ।

३९. त्रयस्त्रिंशद्वर्णात्मकः महानिर्वाणमन्त्रः —

ओं खफ्रक्ष्रीं ऐं फ्रखक्ष्रूं हौं रक्षह्रूं क्ष्रौं हसफ्रौं खफ्रें रजझ्रक्ष्रूं रहक्षमलवरयूं छ्रक्लवरयमक्षयूं हसक्षमलवरयूं सकलह्रीं हसक्लफ्रीं क्षीं सहक्षमलवरयीं रहफ्रीं मसक्षझ्रीं सहक्षमलवरयीं कलजमक्षरसक्षछ्रयीं हसगक्षमलब्लूं हसवरयखलक्षमझ्रूं खफ्रकलक्षमसभ्रीं सफक्षयकलमसतरश्रीं क्षौं तद्ब्रह्माऽस्मि हौं हसखफ्रें ऐं हसखफ्रौं ऊं रक्षह्रीं रक्षसतरखफ्रूं हंसोऽस्मि सोऽहं रहक्षमलवरयसहक्षमलवरयूँ । इति स्वामिमूर्खारण्यचरणैः निर्दिष्टो मन्त्रः ।

 

 

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.