जाने मूक प्रश्न – अंक ज्योतिष 

मूक-प्रश्न का अर्थ है, प्रश्नकर्ता द्वारा प्रश्नों को उच्चारित किए बिना ही ज्योतिर्विद् द्वारा उसे जान लेना । इस प्रकार इसमें प्रश्नकर्ता ‘मूक’ रहकर अर्थात् बिना बोले प्रश्न करता है । ज्योतिर्विद् एक प्रकार से उसके मस्तिष्क को पढ़कर प्रश्न की जानकारी प्राप्त करता है । प्रश्न ज्योतिष में इस प्रकार की अनेक विधियों का उल्लेख ग्रन्थों में मिलता है । अंक-ज्योतिष में भी मूक-प्रश्न विधा का प्रचलन है । अंक-ज्योतिष का मूक-प्रश्न में उपयोग भारत का योगदान है । इसे पाश्चात्य विद्वानों ने भी स्वीकारा है । भारत में प्रचलित ऐसी ही एक विधि का उल्लेख सेफेरियल ने किया है । इस विधि के अनुसार मूक-प्रश्न की जानकारी के लिए पृच्छक (Querist) से 9 अंकों की एक संख्या पूछी जाती है । उस संख्या में 3 जोड़ा जाता है । उसके बाद जो योगफल प्राप्त होता है, उसके अनुरूप मूक-प्रश्न या पृच्छक द्वारा सोचे जा रहे विचारों की जानकारी प्राप्त होती है ।
उदाहरण के लिए 9 अंकों की निम्नलिखित संख्या सोची गई –
9+ 8+ 5+ 6+ 2+ 7+ 1+ 4+ 2 = 44
नियमानुसार 3 जोड़े इस प्रकार 47 प्राप्त हुआ । अंकों के अग्रांकित विवरण के आधार पर उत्तर होगा कि आप किसी मान, मापक, भार अथवा किसी पदार्थ के अनुपात तथा अपने किसी निश्चित सम्बन्धों के बारे में सोचे रहे हैं ।

3 से 84 अंकों का फल
इस विधि में 3 से 84 तक अंक हो सकते हैं । इन अंकों का फल निम्नानुसार है :-
अंक 3 : किसी वैयक्तिक घटना, बीमारी, सम्भवतया बुखार, गरमी अथवा गुस्से के बारे में चिन्तन कर रहे हैं ।
अंक 4 : घरेलू मामलों, परिवार, प्रेम तथा सुख, दिल अथवा किसी अभीप्सित (वांछित) वस्तु के बारे में सोच रहे हैं ।
अंक 5 : विवाह, समझ अथवा समझौता या करार, चीजों की एकता अथवा सुसंगति के बारे में चिन्तन कर रहे हैं ।
अंक 6 : समाचार, भाई, संचार माध्यम अथवा भाषा के बारे में सोच रहे हैं ।
अंक 7 : घर, जमीन में गड़ी किसी वस्तु अथवा किसी जमीन या विस्तृत जल के बारे में, समुद्र, परिवर्तन अथवा हटाए जाने के बारे में सोच रहे हैं ।
अंक 8 : किसी पुरातात्त्विक वस्तु के बारे में, विदेशी वस्तु के बारे में, किसी दूसरे देश के बारे में, पूर्व के बारे में सोच रहे हैं ।
अक 9 : नुकसान अथवा मृत्यु, त्रुटियुक्त करारों तथा पुनस्स्थापना के बारे में चिन्तन ।
अंक 10 : किसी दुर्भाग्यशाली गठबन्धन, दुःख देने वाले करार, किसी विवाद के बारे में चिन्तन ।
अंक 11 : किसी सम्पत्ति के मूल्य, किसी खान अथवा किसी भवन से सम्बन्धित वस्तु के सम्बन्ध में ।
अंक 12 : सुखद माहौल, उत्सव, समारोह सम्बन्धी किसी बैठक, उत्तम वस्त्रों अथवा निजी आराम के सम्बन्ध में चिन्तन ।
अंक 13 : धन, सट्टे सम्बन्धी लाभ के बारे में चिन्तन ।
अंक 14 : छोटी यात्रा, समुद्री यात्रा अथवा किसी ऐसे मामले या संदेश के बारे में जो जल के पार हो, किसी महिला से सम्बन्धों के बारे में चिन्तन ।
अंक 15 : गमी अथवा मृत्यु, दाह संस्कार, शोक, हानि अथवा दुर्भाग्य के बारे में चिन्तन ।
अंक 16 : एक सौभाग्यशाली तथा सुखद गठबन्धन, पत्नी, अच्छी समझ अथवा करार के बारे में चिन्तन ।
अंक 17 : सेवक अथवा किसी घनिष्ठ व्यक्ति के बारे में, किसी असुविधा बीमारी अथवा रोग के बारे में चिन्तन ।
अंक 18 : किसी सुखद यात्रा, सोने की किसी वस्तु, प्रेम, घरेलू मामले अथवा आमोद-प्रमोद, भाई अथवा इच्छित संदेश के बारे में चिन्तन ।
अंक 19 : बाधा, अवरोध, कारावास, एकान्तवास अथवा किसी बच्चे के बारे में चिन्तन ।
अंक 20 : यात्रा अथवा पत्र, किसी आने वाली वस्तु, अपने से किसी दूसरे से वार्तालाप, सड़क मार्ग के बारे में चिन्तन ।
अंक 21 : लुफ्त, धन, आर्थिक लाभ, कब्जे की वस्तु, किसी सफेद या रूपहले रंग की वस्तु, रुपए के बारे में चिन्तन ।
अंक 22 : दुर्भाग्यशाली विवाह के विषय में, किसी बीमार साथी, किसी नुकसानदेह करार, परेशानियों, शत्रु अथवा प्रतिद्वंद्वी के बारे में चिन्तन ।
अंक 23 : अच्छे रहन-सहन, अच्छी पोशाक, प्रचुर भोजन, पर्याप्त नौकर-चाकर, अच्छे स्वास्थ्य, प्राणियों के आराम तथा हैसियत के बारे में सोचना ।
अंक 24 : किसी अनिश्चित स्थिति के विषय में, पारिवारिक विवाद, बच्चों, किसी दुर्भाग्यशाली प्रयास, अवैध सम्बन्धों के बारे में चिन्तन ।
अंक 25 : अत्यधिक पाने की चिन्ता, ज्यादा सम्पत्ति, स्वर्ण, सूर्य, किसी चमकीली या प्रकाशवान् वस्तु के बारे में चिन्तन ।
अंक 26 : शान्तिपूर्ण कब्जे, अच्छी सम्पत्ति, घर, समतल भूमि, नींद के बारे में चिन्तन ।
अंक 27 : किसी निकट के स्थान अथवा कमरे, नाव से लघु यात्रा, भाई, सम्बन्धी तथा किसी पत्र या संदेशवाहक के बारे में चिन्तन ।
अंक 28 : अपने बारे में कल्पना, सफेद मोमजामे, कटोरी अथवा चाँदी के बर्तन अथवा किसी नए व्यक्ति के बारे में चिन्तन ।
अंक 29 : खराब स्वास्थ्य, रक्तचाप, कम किराए, गरीबी के समय के विषय में अथवा मुकदमे के विषय में सोचना ।
अंक 30 : सुखी बच्चों, सुखद अनुभव, मिलन, भाग्यशाली दहेज अविभक्त विरासत के बारे में चिन्तन ।
अंक 31 : जमीन में दबी वस्तु, घर में घुसे साँप, किसी बिच्छू अथवा रेंगने वाले जीव और किसी विदेशी भूमि के बारे में चिन्तन ।
अंक 32 : किसी राजा, सुनहले वस्त्र अथवा पीताम्बर, सूर्य, अपने व्यक्तित्व तथा चरित्र के बारे में चिन्तन ।
अंक 33 : किसी सुखद संदेश, अच्छी हैसियत, भाई, किसी विशिष्टता के बारे में चिन्तन ।
अंक 34 : आर्थिक लाभ, खाद्यान्न खरीदने अथवा अन्य आवश्यक वस्तुएँ खरीदने, अनाज आदि, किसी मूर्तलाभ के बारे में चिन्तन ।
अंक 35 : किसी महिला, जन्म, कोई योजना, कोई ऐसी चीज जो खुद से गोपनीय है, बन्धन आदि के बारे में चिन्तन ।
अंक 36 : सट्टे द्वारा हानि, बीमार शिशु, किसी असन्तुष्ट परिवार, तंगी तथा परेशानी के बारे में चिन्तन ।
अंक 37 : दुर्भाग्यशाली करार, दुःखद विवाह, किसी घर अथवा सम्पत्ति, गौ-शाला के विषय में चिन्तन ।
अंक 38 : मलेरिया अथवा आंत्रशोथ के ज्वर द्वारा मृत्यु, यात्रा, संदेश, वाहन, पड़ोस के किसी तालाब या जलस्रोत के विषय में चिन्तन ।
अंक 39 : किसी तंग स्थान, मन्दिर, किसी बाडदार जगह, किसी राजा के एकान्तवास अथवा निर्वासन के बारे में चिन्तन ।
अंक 40 : धन, मूल्यवान् वस्तु, गहने अथवा पोशाक, अनाज के मूल्य के विषय में चिन्तन ।
अंक 41 : अपने तथा अपने शरीर, अपने परिधान, अभिषेक,भोजन, हैसियत, साख के बारे में चिन्तन ।
अंक 42 : मित्र, गुणसम्पन्न महिला, संरक्षिका अथवा उसकी कृपा, लोगों के सम्मेलन, किसी सभा के बारे में चिन्तन ।
अंक 43 : पैतृक सम्पत्ति, वृद्ध व्यक्ति, पुराने भवन, खदानों के मूल्य, किसी कब्रिस्तान के बारे में चिन्तन ।
अंक 44 : भाई, समुद्र अथवा बहुत दूर से किसी पत्र के आगमन, किसी धार्मिक पुस्तक, शास्त्रों, स्वास्थ्य के बारे में, निजी आराम तथा विलासिता के बारे में चिन्तन ।
अंक 45: विवाह, लाभ या हानि, किसी कम मूल्य की वस्तु, किसी आलोचना या आक्षेप, पक्षपात, भेदभाव, कपट के बारे में चिन्तन ।
अंक 46 : मित्र, किसी हैसियत वाले सम्मानित व्यक्ति, सोने की किसी वस्तु, मूल्य, गहने तथा सोने की अंगूठी के बारे में चिन्तन ।
अंक 47 : खुद के बारे में, न्याय, समता, मूल्य, भाव, वजन, अनुपात, शान्ति, संतुष्टि, विश्राम, मृत्यु विषयक चिन्तन ।
अंक 48 : वस्त्रों के कक्ष, निजी स्थान, किसी छुपे हुए सेवक, महिला का स्वास्थ्य, दूर स्थान से संदेश आगमन के बारे में चिन्तन ।
अंक 49 : हैसियत में परिवर्तन, माँ, किसी विशिष्ट वस्तु, राजधानी, शक्तिसम्पन्न महिला, किसी रानी के बारे में चिन्तन ।
अंक 50 : दुःखद यात्रा, मुसीबतजदा बहन, विषादपूर्ण संदेश, दफ्तर से बुलावे के बारे में सोचना ।
अंक 51 : लाभ, बाजी अथवा पण (एक प्रकार का जुआ), बच्चों, दूर से मिलने वाले धन, व्यवसाय के बारे में चिन्तन ।
अंक 52 : व्यक्तिगत बीमारी अथवा मृत्यु, खोई वस्तु, छुपी चीज या रहस्यात्मकता, नौकर, लाल कपड़े, गर्म खाना, डॉक्टर, यमराज अथवा किसी रेंगने वाले जन्तु का विचार ।
अंक 53 : उच्च पद, राजा, शक्तिसम्पन्न व्यक्ति, सोने का खोना, मृत सिंह के बारे में चिन्तन ।
अंक 54 : खतरनाक बीमारी, मुसीबतजदा औरत, पत्नी, लड़की, समझौता या करार, चार दीवारों के बारे में चिन्तन ।
अंक 55 : मृत्यु, खोए कागजात, खोया हुआ संदेश, युवा लड़की, भीड़, मित्र के बारे में सोचना ।
अंक 56 : समुद्र पार किसी दूसरे देश, समुद्र यात्रा, धार्मिक भीड़, प्रकाशन, जहाज, भूत के बारे में चिन्तन ।
अंक 57 : हासिल सम्पत्ति, एक जखीरे या गोदाम, पेंशन अथवा विरासत, किसी पुरुष सम्बन्धी के बारे में चिन्तन ।
अंक 58 : कब्जे, निजी प्रभाव, वकील, जज, गुरु पुरोहित, वेद, ब्राह्मण, व्यक्तिगत सम्पत्ति के बारे में चिन्तन ।
अंक 59 : मृत्यु कक्ष, अस्पताल, लड़का, घर की अग्नि, कोई उपक्रम अथवा खतरे के विषय में चिन्तन ।
अंक 60 : धार्मिक समारोह, विदेशी राजा, ऋषि, समाधि, ब्रह्मा, स्वर्ग के सूर्य तथा काल विषयक चिन्ता ।
अंक 61 : खाद्यान्न, व्यापार, शानदार वस्त्र, पुरुष मित्र, बाजार का स्थान अथवा विनिमय, नौकर, वैष्णव ब्राह्मण के बारे में विचार ।
अंक 62 : किसी लेखन अथवा करार, कोई उपक्रम, धन करार, कानूनी प्रक्रिया, हैसियत, निपुणता, पिता के बारे में सोचना ।
अंक 63 : मृत महिला, खोई सम्पत्ति, जिल्दसाजी का कागज या कफन, क्षीण चन्द्रमा, पत्नी के दहेज अथवा स्थान के बारे में चिन्तन ।
अंक 64 : अपनी हैसियत, अर्जित सम्पत्ति, विरासत, वृद्ध व्यक्ति, अवधि, मोल-तोल अथवा विनिमय के बारे में चिन्तन ।
अंक 65 : लघु यात्रा तथा वापसी, जाना तथा आना, पैदल चलना, बंद कक्ष, एक सौभाग्यशाली बन्धन, बहन, मन्त्र के बारे में चिन्तन ।
अंक 66 : श्मशान के विषय में, चट्टानी भूमि, खनिज, डॉक्टर, मृत मित्र, जलता हुआ घर, सूखी भूमि या रेत के बारे में चिन्तन ।
अंक 67 : मृत राजा, सोने का खोना, पत्नी का दहेज, कमरबन्द, एक बीमार बच्चे के बारे में चिन्तन ।
अंक 68 : बालिका, घरेलू विश्वास की स्थिति, सुरक्षा के बारे में चिन्तन ।
अंक 69 : पोशाक, नौकर, जहाज, व्यापार, खाद्यान्न, विज्ञान से सम्बन्धित वस्तु, वेदांग सम्बन्धित कोई चिन्तन ।
अंक 70 : पत्नी, करार, सार्वजनिक सभा, पूर्णमासी के चाँद के बारे में सोचना ।
अंक 71 : घड़े अथवा जलपात्र के विषय में, पुराने साथी, मित्र-संगी साथियों के सम्बन्ध, निजी कक्ष अथवा स्थान, जेल वार्डन के बारे में सोचना ।
अंक 72 : समृद्धि, राजसी मित्र, ब्राह्मण, धार्मिक बैठक, जूतों तथा जोड़े वाली वस्तुओं के बारे में चिन्तन ।
अंक 73 : भाई, हैसियत, शासक की मृत्यु, हड़बड़ी की यात्रा, क्रोधभरे संदेश, सम्मान, उत्तराधिकार, लेखक के बारे में सोच ।
अंक 74 : चमकदार सूर्य, अत्यधिक चमक, आँखों की दृष्टि, गर्वीली पत्नी, ताकतवर शत्रु, शिकार के बारे में विचार ।
अंक 75 : सुखद स्थान, महँगी सम्पत्ति, मोक्ष, गड़े खजाने, ढोरों के बारे में सोचना ।
अंक 76 : पुत्र, ज्ञान प्राप्ति के स्थान या पाठशाला, विद्यालय भवन, दुल्हन, ब्रह्मचारी के बारे में चिन्तन ।
अंक 77 : श्वेत पगड़ी अथवा धोबी, नौकरानी, दवा, पानी तथा पीने के विचार ।
अंक 78 : वृद्ध साथी, किसी संगठन, किसी पुराने गठबन्धन, अस्पताल, कैदी का विचार ।
अंक 79 : स्वयं के बारे में, बढ़ोतरी तथा समृद्धि, हैसियत, शक्ति तथा प्रभाव, अतिवादिता, पैरो, एक जोड़ी जूते, समझदारी, किसी न्यायाधीश अथवा वकील के बारे में सोचना ।
अंक 80 : लाभ-हानि के जोखिम के विषय में, अग्निकांड में नुकसान, विदेशी भूमि, दूरागत मृत्यु, प्रलय, समुद्री यात्रा के बारे में सोचना ।
अंक 81 : किसी धनी रिश्तेदार, सुन्दर पोषाक, स्वर्णाभूषण, व्यक्तिगत स्वास्थ्य, पके फल के बारे में चिन्तन ।
अंक 82 : शान्तिपूर्ण मृत्यु, सुखद समाचार, हाथी की सवारी, लाभकारी यात्रा, बहन के बारे में चिन्तन ।
अंक 83 : व्यापार, सन्धि अथवा करार, किसी सम्पत्ति के पट्टे के बारे में, प्रवेश द्वार अथवा मार्ग, दुल्हन अथवा चकलों के बारे में सोच ।
अंक 84 : पुत्री, तालाब अथवा, स्नानगृह (हमाम), सार्वजनिक समारोह, सार्वजनिक त्योहार, अवकाश, साफ मोजामा, किसी प्रिय व्यक्ति के बारे में सोचना ।

 

 

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.