Print Friendly, PDF & Email

नवाक्षर गणपति-विद्या का जप

‘विरभद्रोड्डीश तन्त्र’ के अनुसार कुम्हार के चाक की मिट्टी से ‘गणेश-प्रतिमा’ बनाकर पञ्चोपचार (गन्ध, पुष्प, धूप, दीप और नैवेद्य) से पूजाकर प्रति-दिन ‘नवाक्षर’ गणपति-विद्या ‘ॐ गं गणपतये नमः का १००० जप करे, तो बुद्धि का विकास होता है। एक मास जप करे, तो स्त्री-लाभ होता है। छः मास जप करे, तो धन की प्राप्ति होती है। जप मध्याह्न या सन्ध्या-काल में करना चाहिए। यहाँ वर्ण-माला में नवाक्षर गणपति विद्या का जप-विधान दिया जा रहा है।

ganesh with ridhi sidhi
वर्ण-माला में जप थोडा कठिन अवश्य है, परन्तु यह सद्यः सिद्धि-दायिनी है। वर्ण-माला में जप करने के पूर्व अभ्यास द्वारा माला को मन में स्थिर कर लेना चाहिए। इसके लिए पहले ‘अं आं इं ईं उं ऊं…………..’ इत्यादि क्रम से ‘शं षं सं हं ळं’ तक ‘अनुलोम’ जप करे। फिर विलोम अर्थात् उल्टा जप ‘ळं हं सं षं शं’ से प्रारम्भ कर ‘ऊं उं ईं इं आं अं’ तक जप करे। अन्त में ‘अं कं चं टं तं पं यं शं’ इन आठ वर्णों का उच्चारण कर जप करे। इस प्रकार १०८ वर्णों की वर्ण-माला बन जाती है। इसमें ‘क्ष’-कारमेरु-रुप है, इसे मन्त्र से पुटित नहीं किया जाता। प्रतिदिन ५-७ बार जप करने से एक सप्ताह में अभ्यास हो जाता है और पूरी वर्णमाला मन में स्थिर हो जाती है।

१॰ अं ॐ गं गणपतये नमः
२॰ आं ॐ गं गणपतये नमः
३॰ इं ॐ गं गणपतये नमः
४॰ ईं ॐ गं गणपतये नमः
५॰ उं ॐ गं गणपतये नमः
६॰ ऊं ॐ गं गणपतये नमः
७॰ ऋं ॐ गं गणपतये नमः
८॰ ॠं ॐ गं गणपतये नमः
९॰ लृं ॐ गं गणपतये नमः
१०॰ ॡं ॐ गं गणपतये नमः
११॰ एं ॐ गं गणपतये नमः
१२॰ ऐं ॐ गं गणपतये नमः
१३॰ ओं ॐ गं गणपतये नमः
१४॰ औं ॐ गं गणपतये नमः
१५॰ अं ॐ गं गणपतये नमः
१६॰ अः ॐ गं गणपतये नमः
१७॰ कं ॐ गं गणपतये नमः
१८॰ खं ॐ गं गणपतये नमः
१९॰ गं ॐ गं गणपतये नमः
२०॰ घं ॐ गं गणपतये नमः
२१॰ ङं ॐ गं गणपतये नमः
२२॰ चं ॐ गं गणपतये नमः
२३॰ छं ॐ गं गणपतये नमः
२४॰ जं ॐ गं गणपतये नमः
२५॰ झं ॐ गं गणपतये नमः
२६॰ ञं ॐ गं गणपतये नमः
२७॰ टं ॐ गं गणपतये नमः
२८॰ ठं ॐ गं गणपतये नमः
२९॰ डं ॐ गं गणपतये नमः
३०॰ ढं ॐ गं गणपतये नमः
३१॰ णं ॐ गं गणपतये नमः
३२॰ तं ॐ गं गणपतये नमः
३३॰ थं ॐ गं गणपतये नमः
३४॰ दं ॐ गं गणपतये नमः
३५॰ धं ॐ गं गणपतये नमः
३६॰ नं ॐ गं गणपतये नमः
३७॰ पं ॐ गं गणपतये नमः
३८॰ फं ॐ गं गणपतये नमः
३९॰ बं ॐ गं गणपतये नमः
४०॰ भं ॐ गं गणपतये नमः
४१॰ मं ॐ गं गणपतये नमः
४२॰ यं ॐ गं गणपतये नमः
४३॰ रं ॐ गं गणपतये नमः
४४॰ लं ॐ गं गणपतये नमः
४५॰ वं ॐ गं गणपतये नमः
४६॰ शं ॐ गं गणपतये नमः
४७॰ षं ॐ गं गणपतये नमः
४८॰ सं ॐ गं गणपतये नमः
४९॰ हं ॐ गं गणपतये नमः
५०॰ ळं ॐ गं गणपतये नमः
 क्षं
५१॰ ळं ॐ गं गणपतये नमः
५२॰ हं ॐ गं गणपतये नमः
५३॰ सं ॐ गं गणपतये नमः
५४॰ षं ॐ गं गणपतये नमः
५५॰ शं ॐ गं गणपतये नमः
५६॰ वं ॐ गं गणपतये नमः
५७॰ लं ॐ गं गणपतये नमः
५८॰ रं ॐ गं गणपतये नमः
५९॰ यं ॐ गं गणपतये नमः
६०॰ मं ॐ गं गणपतये नमः
६१॰ भं ॐ गं गणपतये नमः
६२॰ बं ॐ गं गणपतये नमः
६३॰ फं ॐ गं गणपतये नमः
६४॰ पं ॐ गं गणपतये नमः
६५॰ नं ॐ गं गणपतये नमः
६६॰ धं ॐ गं गणपतये नमः
६७॰ दं ॐ गं गणपतये नमः
६८॰ थं ॐ गं गणपतये नमः
६९॰ तं ॐ गं गणपतये नमः
७०॰ णं ॐ गं गणपतये नमः
७१॰ ढं ॐ गं गणपतये नमः
७२॰ डं ॐ गं गणपतये नमः
७३॰ ठं ॐ गं गणपतये नमः
७४॰ टं ॐ गं गणपतये नमः
७५॰ ञं ॐ गं गणपतये नमः
७६॰ झं ॐ गं गणपतये नमः
७७॰ जं ॐ गं गणपतये नमः
७८॰ छं ॐ गं गणपतये नमः
७९॰ चं ॐ गं गणपतये नमः
८०॰ ङं ॐ गं गणपतये नमः
८१॰ घं ॐ गं गणपतये नमः
८२॰ गं ॐ गं गणपतये नमः
८३॰ खं ॐ गं गणपतये नमः
८४॰ कं ॐ गं गणपतये नमः
८५॰ अः ॐ गं गणपतये नमः
८६॰ अं ॐ गं गणपतये नमः
८७॰ औं ॐ गं गणपतये नमः
८८॰ ओं ॐ गं गणपतये नमः
८९॰ ऐं ॐ गं गणपतये नमः
९०॰ एं ॐ गं गणपतये नमः
९१॰ ॡं ॐ गं गणपतये नमः
९२॰ लृं ॐ गं गणपतये नमः
९३॰ ॠं ॐ गं गणपतये नमः
९४॰ ऋं ॐ गं गणपतये नमः
९५॰ ऊं ॐ गं गणपतये नमः
९६॰ उं ॐ गं गणपतये नमः
९७॰ ईं ॐ गं गणपतये नमः
९८॰ इं ॐ गं गणपतये नमः
९९॰ आं ॐ गं गणपतये नमः
१००॰ अं ॐ गं गणपतये नमः
१०१॰ अं ॐ गं गणपतये नमः
१०२॰ कं ॐ गं गणपतये नमः
१०३॰ चं ॐ गं गणपतये नमः
१०४॰ टं ॐ गं गणपतये नमः
१०५॰ तं ॐ गं गणपतये नमः
१०६॰ पं ॐ गं गणपतये नमः
१०७॰ यं ॐ गं गणपतये नमः
१०८॰ शं ॐ गं गणपतये नमः

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.