पुरुष-आकर्षण-मन्त्र
मन्त्र — “ॐ नमो काल-संहाराय ह्रीं हूं फट् ‘अमुक’ आकर्षण स्वाहा ।”

vaficjagat
विधि – उक्त मन्त्र का जप १०८ बार नित्य करे । ‘अमुक’ के स्थान पर जिसे बुलाना हो, उसका नाम ले । थोड़े ही दिनों में वह व्यक्ति मन्त्र-जप-कर्ता से मिलने आएगा ।
पति या पली-वशीकरण-मन्त्रों से यह मन्त्र भिन्न है । उक्त मन्त्र से किसी भी पुरुष का, वह कोई भी हो, आकर्षण होता है ।

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.