पुष्प वशीकरण मन्त्र

विधिः- किसी सिद्धि योग ग्रहण काल गुरु-पुष्य-योग अथवा अन्य किसी शुभ योग में विधिपूर्वक तथा शुद्धतापूर्वक एकान्त में निम्न दोनों में से किसी एक  मन्त्र को 10,000 जप-संख्या पूरी करें। फिर 108 बार आहुति देकर इसे प्रभावी बनायें। इस प्रकार यह मंत्र सिद्ध हो जाता है।

फिर जिस व्यक्ति को वशीभूत करना हो उसे एक पुष्प 7 बार अभिमंत्रित करके सुंघा दें।

यह प्रयोग रविवार के दिन ही सफल होगा। इस प्रयोग को विधि-पूर्वक सम्पन्न कर लेने से साध्य स्त्री पुरूष साधक के वशीभूत हो जाएगा।

मन्त्रः-

1. “ॐ नमो जय चामुण्डे जय वश्व मानाय जय-जय सर्व सत्वा नमः स्वाहा।”

2. ”ॐ चामुण्डे जय जय वश्यकंरि जय जय सर्व सत्वात् नमः स्वाहा।”

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.