भगवती ( शताक्षी) शाकम्भरी
प्राचीन समय की बात है । दुर्गम नाम का एक महान् दैत्य था । उसका जन्म हिरण्याक्ष के कुलमें हुआ था तथा उसके पिताका नाम रुरु था । ‘देवताओं का बल वेद है । वेदके लुप्त हो जाने पर देवता भी नहीं रहेंगे’ – ऐसा सोचकर दुर्गम ने ब्रह्माजी से वर पाने की इच्छा से उनकी प्रसन्नता के लिये बड़ी कठोर तपस्या की । उसकी तपस्या से प्रसन्न होकर ब्रह्माजी ने उसे दर्शन दिया और उससे इच्छानुसार वर माँगने के लिये कहा । दुर्गम ने ब्रह्माजीसे कहा- ‘पितामह! यदि आप मुझपर प्रसन्न हैं तो मुझे सम्पूर्ण वेद देने की कृपा करें और देवताओंको परास्त करने की शक्ति भी दें ।’shatakshi
दुर्गमकी बात सुनकर चारों वेदों के अधिष्ठाता ब्रह्माजी ‘ऐसा ही हो’ कहकर अपने लोक चले गये । इसके परिणामस्वरूप ब्राह्मणों को समस्त वेद विस्मृत हो गये । स्नान, श्रद्धा, होम, श्राद्ध, यज्ञ और जप आदि वैदिक क्रियाएं नष्ट हो गयीं । सारे संसार में घोर अनर्थ उत्पन्न करने वाली अत्यन्त भयंकर स्थिति हो गयी । देवताओं को हविका भाग मिलना बन्द हो गया, जिससे वे निर्बल हो गये । उसी समय उस भयंकर दैत्य ने अपनी सेनाके साथ देवताओं की पुरी अमरावती को घेर लिया । दुर्गमका शरीर वज्र के समान कठोर था । देवता उसके साथ युद्ध करने में असमर्थ होने के कारण भागकर गुफाओं में छिप गये ? और भगवती की आराधना में समय बिताने लगे । अग्नि में हवन न होने के कारण वर्षा भी बन्द हो गयी । पृथ्वीपर लोग एक-एक बूँद जलके लिये तरसने लगे । घोर अकाल और अनावृष्टिके कारण लोगोंके प्राण संकटमें पड़ गये ।
संसारको घोर संकट से बचानेके लिये ब्राह्मण लोग हिमालय पर्वत पर गये और मन को एकाग्र करके पराम्बा भगवती की उपासना करने लगे । लोककल्याण के लिये तपस्यारत ब्राह्मणोंपर भगवती प्रसन्न हुईं । उन्होंने अनन्त आखोंसे सम्पन्न दिव्य रूप में उनको दर्शन दिया ।
भगवती का वह विग्रह कज्जल के पर्वत की तुलना कर रहा था । आँखें ऐसी थीं, मानो नीलकमल हों । कन्धे ऊपर उठे हुए थे । विशाल वक्षःस्थल था । हाथों में बाण, कमल के पुष्प, पल्लव और मूल सुशोभित थे । भगवती ने शाक आदि खाद्य पदार्थ तथा अनन्त रसवाले फल ले रखे थे । विशाल धनुष देवी की शोभा में वृद्धि कर रहा सम्पूर्ण सुन्दरता का सारभूत देवी का वह रूप बड़ा कमनीय था । करोड़ों सूर्यों के समान चमकने वाला वह विग्रह करुणा का अथाह समुद्र था । करुणार्द्रहृदया भगवती अपनी अनन्त ओंखों से सहस्रों जलधाराओं की वृष्टि करने लगीं । उनके नेत्रों से निकले हुए जलसे नौ रात तक घनघोर वृष्टि हुई । उस पवित्र जलसे सम्पूर्ण संसार तृप्त हो गया । नदी और समुद्र में बाढ़ आ गयी । छिपकर रहनेवाले देवता अब बाहर निकल आये ।
देवताओं और ब्राह्मणों ने भगवती की स्तुति करते हुए कहा- ‘अपनी माया से संसारकी संरचना करने वाली, भक्तों के लिये कल्पवृक्ष एवं लोककल्याण के लिये दिव्य विग्रह धारण करने वाली भगवति ! तुम्हें कोटिश: प्रणाम है । तुमने सहस्रों नेत्रों से जलवृष्टि करके इस संसारका महान् कल्याण किया है । अत: तुम्हारा यह स्वरूप ‘शताक्षी’ नाम से विख्यात होगा । अम्बिके ! हम सब भूखसे अत्यन्त पीडित हैं । अत: तुम्हारी विशेष स्तुति
करने में असमर्थ हैं ।’ भगवती शताक्षी ने प्रसन्न होकर ब्राह्मणों एवं देवताओं को अपने हाथों से दिव्य फल एवं शाक खाने के लिये दिये तथा भांति- भांति के अन्न भी उपस्थित कर दिये । पशुओं के खाने योग्य कोमल एवं अनेक रसों से सम्पन्न नवीन तृण भी उन्हें देने की कृपा की और कहा कि मेरा एक नाम ‘शाकम्भरी’ भी पृथ्वीपर प्रसिद्ध होगा- ‘शाकम्भरीति विख्याति तदा यास्वाम्यहै भुवि ।’ दुर्गाके स्वरूपमें भगवतीने वेदों को दुर्गम नामक दैत्य से छीनकर ब्राह्मणों को देने का आश्वासन भी दिया । ( श्रीमार्कण्डेयमहापुराण )

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.