भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ३४
ॐ श्रीपरमात्मने नमः
श्रीगणेशाय नमः
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
भविष्यपुराण
(प्रतिसर्गपर्व — द्वितीय भाग)
अध्याय – ३४
श्रीदुर्गासप्तशती के मध्यमचरित्र का माहात्म
(कात्यायन तथा मगध के राजा महानंद की कथा)

सूतजी बोले — शौनक ! उज्जयिनी नगरी में एक हिंसापरायण मद्य-मांस-भक्षी भीमवर्मा नाम का क्षत्रिय रहता था । वह अतिशय हिंसा एवं अधर्माचरण के कारण भयंकर व्याधियों से ग्रस्त हो गया और युवावस्था में ही उसकी मृत्यु हो गयी । संयोगवश उसने कभी चण्डीपाठ भी कराया था । जिसके पुण्य के प्रभाव से इतना निकृष्ट पापी भी नरक में नहीं गया । om, ॐदुसरे जन्म में वही राजनीतिपरायण मगध का विख्यात राजा महानन्द हुआ और उसे अपने पूर्वजन्म की पूरी स्मृति थी । अतिशय समर्थ बुद्धिमान् कात्यायन (वररुचि) का वह शिष्य हुआ । देवी महालक्ष्मी के बीजसहित मध्यम चरित्रका राजा महानन्द को उपदेश देकर कात्यायन स्वयं विन्ध्यपर्वतपर शक्ति-उपासना के लिये चले गये । इधर राजा भी प्रतिदिन महालक्ष्मी की कस्तुरी, चन्दन आदिसे पूजा कर श्रीदुर्गासप्तशती के मध्यम चरित्र का पाठ करने लगा । बारह वर्ष व्यतीत होनेपर शक्ति की उपासना करनेवाले कात्यायन पुनः अपने शिष्य महानन्द के पास आये और उन्होंने राजा से विधिपूर्वक लक्षचण्डीपाठ करवाया । फलस्वरूप सनातनी भगवती महालक्ष्मी प्रकट हुई और राजा को धर्म, अर्थ, कामसहित मोक्ष भी दे दिया । इस प्रकार महाभाग महानन्द ने देवों के समान अभीष्ट फलों का उपभोग कर अन्त में देवताओं से नमस्कृत हो परम लोक को प्राप्त किया ।
(अध्याय ३४)

See Also :-

1.  भविष्यपुराण – ब्राह्म पर्व – अध्याय २१६
2. भविष्यपुराण – मध्यमपर्व प्रथम – अध्याय १९ से २१
3. भविष्यपुराण – मध्यमपर्व द्वितीय – अध्याय १९ से २१

4. भविष्यपुराण – मध्यमपर्व तृतीय – अध्याय २०
5. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व प्रथम – अध्याय ७
6. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १
7. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २
8. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ३
9. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ४
10. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ५
11. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ६
12. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ७
13. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ८
14. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ९
15. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १०
16. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ११
17. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १२
18. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १३
19. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १४
20. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १५
21. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १६
22. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १७
23. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १८
24. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय १९
25. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २०
26. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २१
27. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २२
28. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २३
29. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २४
30. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २५
31. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २६
32. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २७
33. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २८
34. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय २९
35. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ३०
36. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ३१
37. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ३२
38. भविष्यपुराण – प्रतिसर्गपर्व द्वितीय – अध्याय ३३

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.