॥ महामृत्युञ्जय (मृत संजीवनी) मंत्रस्य (५२ अक्षरात्मक) ॥

मन्त्र महोदधि में कहा गया है : पाप एवं विपत्ति को दूर करनेवाले महामृत्युञ्जय मन्त्र को बतलाता हूं जिसे भगवान शङ्कर से प्राप्त करके शुक्राचार्य ने मरे हुये दैत्यों को जीवित किया था। मन्त्र इस प्रकार है-
मन्त्र –

“ॐ हौं ॐ जूं सः भूर्भुवः स्वः त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बंधनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् भूर्भुवः स्वरों जूं सः हौं ॐ ॥”

अन्यत् च

“ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ।
उर्वारुकमिव बंधनान्मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भू ॐ स: जूं हौं ॐ ॥”

देशकालौ संकीर्त्य मम शरोरे ज्वरोद्यमुकरोगनिरासद्वारा सद्यः आरोग्यार्थममुककामना सिद्धयर्थं वा श्रीमहामृत्युञ्जयदेवताप्रीत्यर्थममुकसंख्यापरिमितश्रीमहामृत्युञ्जयजपं करिष्ये ॥ इस प्रकार सङकल्प करके गुरु गणपति व इष्टदेव का स्मरण करे यथा – ॐ गुरुवे नमः ॥ १ ॥ ॐ गणपतये नमः ॥ २ ॥ ॐ स्वेष्टदेवतायै नमः ॥३॥ इस प्रकार नमन करके अङ्गन्यास व अक्षर न्यास करके जप करे।
विनियोगः – ॐ अस्य श्रीमहामृत्युंजय मंत्रस्य वामदेवकहोलवसिष्ठा ऋषयः । पंक्तिगायत्र्यनुष्टभश्छंदांसि । सदाशिवमहामृत्युंजयरुद्रा देवताः । श्रीं बीजम् । ह्रीं शक्तिः । मम शरीरे ज्वराद्यमुकरोगनिरासनद्वारा सद्यः आरोग्यार्थ ममुककामासिद्धयर्थं वा श्रीमहामृत्युंजयदेवता प्रीत्यर्थममुकसंख्यापरिमितश्रीमहामृत्युंजयजपं करिष्ये ।

ऋष्यादिन्यासः- ॐ वामदेवकहोलवसिष्ठऋषिभ्यो नमः शिरसि ॥ १ ॥ पंक्ति गायत्र्यनुष्टुप्छन्दोभ्यो नमः मुखे ॥ २ ॥ सदाशिवमहामृत्युंजयरुद्रदेवताभ्यो नमः हृदि ॥ ३ ॥ श्रीबीजाय नमः गुह्ये ॥ ४ ॥ ह्रीं शक्तये नमः पादयोः ॥ ५ ॥ विनियोगाय नमः सर्वाङ्गे ॥ ६ ॥

करन्यासः –
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः त्र्यम्बकं ॐ नमो भगवते रुद्राय शूलपाणये स्वाहा अंगुष्ठाभ्यां नमः ॥ १ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भवः स्वः यजामहे ॐ नमो भगवते रुद्राय अमृतमूर्तये मां जीवय जीवय तर्जनीभ्यां नमः ॥ २ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ॐ नमो भगवते रुद्राय चन्द्रशिरसे जटिने शिखायै वषट् ॥ ३ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः उर्वारुकमिव बंधनान् ॐ नमो भगवते रुद्राय त्रिपुरांतकाय हां हीं अनामिकाभ्यां नमः ॥ ४ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मृत्योर्मुक्षीय ॐ नमो भगवते रुद्राय त्रिलोचनाय ऋग्यजुः साममंत्राय कनिष्ठिकाभ्यां नमः ॥ ५ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मामृतात् ॐ नमो भगवते रुद्राय ॐ अग्नित्रयाय ज्वल ज्वल मां रक्ष रक्ष अघोरास्त्राय करतलकरपृष्ठाभ्यां नमः ॥ ६ ॥

अङ्गन्यास –
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः त्र्यम्बकं ॐ नमो भगवते रुद्राय शुलपाणये हृदयाय: नमः ॥ १ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः यजामहे ॐ नमो भगवते रुद्राय अमृतमूर्तये मां जीवय शिरसे स्वाहा ॥ २ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् ॐ नमो भगवते रुद्राय चन्द्रशिरसे जटिने शिखायै वषट् ॥ ३ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः उर्वारुकमिव बंधनान् ॐ नमो भगवते रुद्राय त्रिपुरांतकाय हां हीं कवचाय हुँ ॥ ४ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मृत्योर्मुक्षीय ॐ नमो भगवते रुद्रायत्रिलोचनाय ऋग्यजुः साममंत्राय नेत्रत्रयाय वौषट् ॥ ५ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मामृतात् ॐ नमो भगवते रुद्राय अग्नित्रयाय ज्वल ज्वल मां रक्ष रक्ष अघोरास्त्राय फट् ॥ ६ ॥

मन्त्रवर्णन्यास –
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः त्र्यं नमः पूर्वमुखे ॥ १ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः बं नमः पश्चिममुखे ॥ २ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः कं नमः दक्षिणमुखे ॥ ३ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः यं नमः उत्तरमुखे ॥ ४ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः जां नमः उरसि ॥ ५ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मं नमः कण्ठे ॥ ६ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः हें नमः मुखे ॥ ७ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः सुं नमः नाभौ ॥ ८ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः गं नमः हृदि ॥ ९ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः धिं नमः पृष्ठे ॥ १० ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः पुं नमः कुक्षौ ॥ ११ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ष्टिं नमः लिंगे ॥ १२ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः वं नमः गुदे ॥ १३ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः र्धं नमः दक्षिणोरुमूले ॥ १४ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः नं नमः वामोरुमूले ॥ १५ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः उं नमः दक्षिणोरुमध्ये ॥ १६ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः र्वां नमः वामोरुमध्ये ॥ १७ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः रुं नमः दक्षिणजानुनि ॥ १८ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः कं नमः वामजानुनि ॥ १९ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मिं नमः दक्षिणजानुवृत्ते ॥ २० ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः वं नमः वामजानुवृने ॥ २१ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः बं नमः दक्षिणस्तने ॥ २२ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः धं नमः वामस्तने ॥ २३ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः नां नमः दक्षिणपार्श्वे ॥ २४ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मृं नमः वामपार्श्वे ॥ २५ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः त्यों नमः दक्षिणपादे ॥ २६ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मुं नमः वामपादे ॥ २७ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः क्षीं नमः दक्षकरे ॥ २८ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः यं नमः वामकरे ॥ २९ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मां नमः दक्षनासायाम् ॥ ३० ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मृं नमः वामनासायाम् ॥ ३१ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः तां नमः मूर्ध्नि ॥ ३२ ॥

पदन्यास:-
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः त्र्यंबकं नमः शिरसि ॥ १ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः यजामहे भ्रुवौः ॥ २ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः सुगंधिं नेत्रयौः ॥ ३ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः पुष्टिवर्धनं मुखे ॥ ४ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः उर्वारुकं गण्डयोः ॥ ५ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः इव हृदये ॥ ६ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः बंधनात् जठरे ॥ ७ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मृत्योः लिंगे ॥ ८ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मुक्षीय ऊर्वोः ॥ ९ ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः मां जान्वोः ॥ १० ॥
ॐ हौं ॐ जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः अमृतात् पादयोः ॥ ११ ॥

अथ ध्यानम् :

हस्तांभोजयुगस्थकुंभयुगलादुद्धृत्य तोयं शिरः सिञ्चतं
करयोर्युगेन दधतं स्वांके सकुम्भौ करौ ।
अक्षस्रंङ्मृगहस्तमम्बुजगतं मूर्द्धस्थचन्द्रस्रवत्पीयूषोन्नतनुं
भजे सगिरिजं मृत्युजयं त्र्यंबकम् ॥

अपने अङ्गस्थ दो करों में अमृत कुम्भ धारण किए हुये, उसके ऊपर वाले दो हाथों से उस अमृत कुम्भ से सुधामय जल निकालते हुये, उसके ऊपर के दोनों हाथों से उस अमृत जल को शिर पर अभिषिक्त करते हुये, शेष दो हाथों में क्रमशः मृग और अक्षमाला धारण किए हुये शिरःस्थित चन्द्रमण्डल से प्रवित अमृत धारा से अपने शरीर को आप्लावित करते हुये, पार्वती सहित त्रिनेत्र सदाशिव मृत्युजय का मैं ध्यान करता हूँ ॥

तत्पश्चात् मुष्टि, सारङ्ग, शक्ति, लिङ्ग, एवं पञ्चमुख मुद्रायें* प्रदर्शित कर एक लाख की संख्या में इस मन्त्र का जप करना चाहिए ॥

॥ अथ मृत्युञ्जय यंत्रार्चनम् ॥


इससे ध्यान करने के बाद पीठ आदि पर रचित सर्वतोभद्र मण्डल या लिङ्गतोभद्रमण्डल अथवा यन्त्र मध्य में “ॐ मं मण्डूकादि परतत्त्वान्त पीठ देवताभ्यो नमः” इस मन्त्र से पीठ देवताओं की पूजा करके नवपीठशक्तियों की पूजा करे —
पूर्वादिक्रमेण।
ॐ वामायै नमः ॥ १ ॥ ॐ ज्येष्ठायै नमः ॥ २ ॥ ॐ रौद्रयै नमः ॥ ३ ॥ ॐ काल्यै नमः ॥ ४ ॥ ॐ कलविकरिण्यै नमः ॥ ५ ॥ ॐ बलविकरिण्यै नमः ॥ ६ ॥ ॐ बलप्रमथिन्यै नमः ॥ ७ ॥ ॐ सर्वभूतदमन्यै नमः ॥ ८ ॥ मध्ये – ॐ मनोन्मन्यै नमः ॥ ९ ॥
इस प्रकार पूजा करे । फिर स्वर्णादि से निमित यन्त्र या मुति को ताम्रपत्र में रख कर घी से उसका अभ्यङ्ग करके उसके ऊपर दूध की धारा और जल की धारा डालकर स्वच्छ वस्त्र से उसे पोंछकर “ॐ नमो भगवते सकलगुणात्मशक्तियुताय अनन्ताय योगपीठात्मने नमः ॥” इस मन्त्र से पुष्पाद्यासन देकर पीठ के मध्य स्थापित करके प्रतिष्ठा करके पुनः ध्यान करके मूल मन्त्र से मूति की कल्पना करके पाद्यादि से लेकर पुष्पाञ्जलिदान पर्यन्त उपचारों से पूजन करके देव की आज्ञा से आवरण पूजा करे ।
पुष्पाञ्जलि प्रदान करते हुये विनम्रभाव से आज्ञा मांगें —
ॐ संविन्मयः परो देवः परामृतरसप्रियः ।
अनुज्ञां शिव मे देहि परिवारार्चनाय च ॥

यंत्र पूजा में प्रत्येक देवता की नामावलि में प्रथमा से सम्बोधन करते हुये ‘पादुकां पूजयामि तर्पयामि’ से पुष्पगंधार्चन व तर्पण करें ।
पंचकोणे –
ऐशान्याम् – “ॐ ईशानः सर्वविद्यानामीश्वरः सर्वभूतानां ब्रह्माधिपति ब्रह्मणोऽधिपतिर्ब्रह्मा शिवो मे अस्तु सदाशिवोम् ॥” ॐ ईशानाय नमः । ईशान श्रीपादुकां पूजयामि तर्पयामि नमः ॥ इति सर्वत्रा ॥१॥
पूर्वे – “ॐ तत्पुरुषाय विद्महे महादेवाय धीमहि ॥ तन्नो रुद्र प्रचोदयात्” ॐ तत्पुरुषाय नमः । तत्पुरुष श्रीपादुकां पूजयामि तर्पयामि नमः ॥ २ ॥
दक्षिणे – “ॐ अघोरेभ्योऽथ घोरभ्यो घोरघोरतरेभ्यः ॥ सर्वेभ्यः सर्वशर्वेभ्यो नमस्ते अस्तु रुद्ररूपेभ्यः ॥ ॐ अघोराय नमः । अघोर श्रीपादुकां पूजयामि तर्पयामि नमः ॥ ३ ॥
पश्चिमे – “ॐ वामदेवाय नमो ज्येष्ठाय नमः श्रेष्ठाय नमो रुद्राय नमः कालाय नमः कलविकरणाय नमो बलविकरणाय नमो बलाय नमो बलप्रमथनाय नमः सर्वभूतदमनाय नमो मनोन्मनाय नमः ॥” ॐ वामदेवाय नमः । वामदेव श्रीपादुकां पूजयामि तर्पयामि नमः ॥ ४ ॥
उत्तरे – “ॐ सद्योजातं प्रपद्यामि सद्योजाताय वै नमो नमः । भवे भवे नातिभवे भवस्व मां भवोद्भवाय नमः ॥” ॐ सद्योजाताय नमः । सद्योजात श्रीपादुकां पूजयामि तर्पयामि नमः ॥ ५ ॥
इससे पञ्चमूतियों की पूजा करे । इसके बाद पुष्पाञ्जलि लेकर मूलमन्त्र
का उच्चारण करके —
अभीष्टसिद्धिं मे देहि शरणागतवत्सल ।
भवत्या समर्पये तुभ्यं प्रथमावरणार्चनम् ॥ १ ॥
यह पढ़कर पुष्पांजलि देकर विशेषार्घ से विन्दु डालकर ‘पूजितास्तर्पिताः सन्तु’ यह कहे । इति प्रथमावरण ॥ १ ॥

इसके बाद पञ्चकोणाग्रों में ऐशान्यादि क्रम से — ॐ निवृत्त्यै नमः । निवृत्ति श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ प्रतिष्ठायै नमः । प्रतिष्ठा श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ विद्यायै नमः विद्या श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ शांत्यै नमः । शांति श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ शांत्यतीतायै नमः । शांत्यतीता श्रीपा० ॥ ५ ॥
इस प्रकार पूजा करके —
अभीष्टसिद्धिं मे देहि शरणागतवत्सल ।
भवत्या समर्पये तुभ्यं द्वितीयावरणार्चनम् ॥ २ ॥
यह पढ़कर पुष्पांजलि देकर विशेषार्घ से विन्दु डालकर ‘पूजितास्तर्पिताः सन्तु’ यह कहे ।(इति द्वितीयावरणम्) ॥ २ ॥

इसके बाद अष्टदलों में पूज्य और पूजक के बीच प्राची और तदनुसार अन्य दिशाओं की कल्पना करके प्राची क्रम से — ॐ सूर्य्यमूर्तये नमः । सूर्यमूर्ति श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ इन्दुमूर्तये नमः इन्दुमूर्ति श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ क्षितिमूर्तये नमः । क्षितिमूर्ति श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ तोयमूर्तये नमः । तोयमूर्ति श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ अग्निमूर्तये नमः । अग्निमूर्ति श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ पवनमूर्तये नमः । पवनमूर्ति श्रीपा० ॥ ६ ॥ ॐ आकाशमूर्तये नमः । आकाशमूर्ति श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ यज्ञमूर्तये नमः । यज्ञमूर्ति श्रीपा० ॥ ८ ॥
इस प्रकार अष्टमूर्तियों की पूजा करके पुष्पांजलि देवे । (इति तृतीयावरणम्) ॥ ३ ॥

उसके बाहर अष्टदलों में प्राचीक्रम से — ॐ रमायै नमः । रमा श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ राकायै नमः । राका श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ प्रभायै नमः । प्रभा श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ ज्योत्स्नायै नमः । ज्योत्स्तना श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ पूर्णायै नमः । पूर्णा श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ पूषायै नमः । पूषा श्रीया० ॥ ६ ॥ ॐ पूर्णायै नमः। पूर्णा श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ सुधायै नमः । सुधा श्रीपा० ॥ ८ ॥
इति पूजयित्वा पुष्पांजलिं च दद्यात् ॥ (इति चतुर्थावरणम्) ॥ ४॥

उसके बाहर अष्टदलों में प्राचीक्रम से — ॐ विश्वायै नमः । विश्वा श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ वंद्यायै नमः । वंद्या श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ सितायै नमः । सिता श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ प्रहायै नमः । प्रहा श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ सारायै नमः । सारा श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ संध्यायै नमः । संध्या श्रीपा० ॥ ६ ॥ ॐ शिवायै नमः । शिवा श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ निशायै नमः । निशा श्रीपा० ॥ ८ ॥
इस प्रकार आठों की पूजा करके पुष्पांजलि देवे । (इति पंचमावरणम्) ॥ ५ ॥

उसके बाहर अष्टदलों में प्राचीक्रम से — ॐ आर्यायै नमः । आर्य्या श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ प्रज्ञायै नमः । प्रज्ञा श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ प्रभायै नमः । प्रभा श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ धृत्यै नमः । धृति श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ मेधायै नमः । मेधा श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ शांत्यै नमः । शांति श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ कात्यै नमः । कांति श्रीपा० ॥ ६ ॥ ॐ धृत्यै नमः । धृति श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ मत्यै नमः । मति श्रीपा० ॥ ८ ॥

इस प्रकार आठों की पूजा करके पुष्पांजलि देवे । (इति षष्ठावरणम्) ॥ ६ ॥
उसके बाहर अष्टदलों में प्राचीक्रम से — ॐ धरायै नमः । धरा श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ उमायै नमः । उमा श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ पावन्यै नमः । पावनी श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ पद्मायै नमः । पद्मा श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ शांतायै नमः । शांता श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ अमोघायै नमः । अमोघा श्रीपा० ॥ ६ ॥ ॐ जयायै नमः । जया श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ अमलायै नमः । अमला श्रीपा० ॥ ८ ॥
इस प्रकार आठों की पूजा करके पुष्पांजलि देवे । (इति सप्तमावरणम्) ॥ ७ ॥

उसके बाहर अष्टदलों में प्राचीक्रम से — ॐ अनंताय नमः । अनंत श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ सूक्ष्मसंज्ञय नमः ।सूक्ष्मसंज्ञ श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ शिवोत्तमाय नमः । शिवोत्त्म श्रीपा० ॥ ३ ॥ एकनेत्राय नमः । एकनेत्र श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ एकरुद्राय नमः । एकरुद्र श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ त्रिमूर्तये नमः । त्रिमूर्ति श्रीपा० ॥ ६ ॥ ॐ श्रीकण्ठाय नमः । श्रीकण्ठ श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ शिखंडिने नमः । शिखंडि श्री० ॥ ८ ॥
इस प्रकार आठों की पूजा करके पुष्पांजलि देवे । (इत्यष्टमावरणम्) ॥ ८ ॥

उसके बाहर अष्टदलों में उत्तर से आरम्भ करके — ॐ उमायै नमः । उमा श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ चण्डेश्वराय नमः । चण्डेश्वर श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ नंदिने नमः । नंदि श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ महाकालाय नमः । महाकाल श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ गणेशाय नमः । गणेश श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ वृषभाय नमः । वृषभ श्रीपा० ॥ ६ ॥ भृंगिरिटये नमः । भृंगिरिटि श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ स्कंदाय नमः । स्कंद श्रीपा० ॥ ८ ॥
इस प्रकार आठों की पूजा करके पुष्पांजलि देवे । (इति नवमावरणम) ॥ ९ ॥

उसके बाहर अष्टदलों में प्राचीक्रम से — ॐ ब्राह्मयै नमः । ब्राह्मी श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ माहेश्वर्य्यै नमः । माहेश्वरी श्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ कौमार्यै नमः । कौमारी श्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ वैष्णव्यै नमः । वैष्णवी श्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ वाराह्यै नमः । वाराही श्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ इन्द्राण्यै नमः । इन्द्राणी श्रीपा० ॥ ६ ॥ ॐ चामुण्डायै नमः । चामुण्डा श्रीपा० ॥ ७ ॥ ॐ महालक्ष्म्यै नमः । महालक्ष्मी श्रीपा० ॥ ८ ॥
इस प्रकार आठों की पूजा करके पुष्पांजलि देवे । (इति दशमावरणम्) ॥ १० ॥

उसके बाहर भूपुर में पूर्वादि क्रम से इन्द्रादि दशदिक्पालों तथा भूपुर के बाहर उनके वज्रादि आयुधों का पूजन कर पुष्पांजलिं देवें ।

इस प्रकार आवरण पूजा करके धूपादि से लेकर नमस्कार पर्यन्त पूजन कर के हाथ जोड़ कर यह प्रार्थना करे :

ॐ मृत्युंजय महारुद्र त्राहि मां शरणागतम् ।
जन्ममृत्यु-जरारोगैः पीडितं कर्मबंधनैः ॥ १ ॥
तावकस्त्वद्गत-प्राणास्त्वच्चित्तोऽहं सदा मृड ।
इति विज्ञाप्य देवेशं जपेनमृत्युंजयं परम् ॥ २ ॥

इससे प्रार्थना करके जप करें ।
इसका पुरश्चरण एक लाख जप हैं। जप के अन्त में दश द्रव्यों से दशांश होम करे । होम के अन्त में ‘ॐ मृत्युञ्जय तर्पयामि’ यह कहकर होम का दशांश दुग्धमिश्रित जल से तर्पण करे । तर्पण का दशांश मन्त्र के अन्त में ‘आत्मानमभिषिञ्चामि नमः’ लगाकर यजमान के सिर पर अभिषेक करे । होम तर्पण और अभिषेक में अशक्त होने पर इन के स्थान पर तत्तत् द्विगुणित जप करे । इसके बाद अभिषेक से दशांश या १०८ ब्राह्मणों को भोजन कराये । ऐसा करने से मन्त्र सिद्ध हो जाता है ।
सिद्ध मन्त्र से साधक प्रयोगों को सिद्ध करे । कहा भी गया है कि साधक जितेन्द्रिय होकर इस मन्त्र का जप करे । फिर दश द्रव्यों से दशांश होम करना चाहिये । ये द्रव्य इस प्रकार हैं : १. बेल फल, २. तिल, ३. खीर, ४. घी, ५. दूध, ६. दही, ७. दूर्वा, ८. बट की समिधा, ९. पलाश की समिधा एवं १०. खैर की समिधा । इन तीनों समिधाओं को घी, शहद और शक्कर में डुबोकर होम करना चाहिये । ऐसा करने से मन्त्र प्रयोग के योग्य हो जाता है ॥

जो व्यक्ति अपने जन्मनक्षत्र से १० वे या १२ वें नक्षत्र में गुडूची ( गिलोय ) की चार अंगुल लम्बी समिधाओं से हवन करता है वह रोग और अपने शत्रुओं को नष्ट कर सम्पत्ति प्राप्त करता है तथा पुत्र-पौत्रों के साथ आमोद प्रमोदपूर्वक सौ वर्ष तक जीवित रहता है ।
सम्पत्ति प्राप्त करने के लिये श्रीफल ( बेल) की समिधाओं से हवन करना चाहिये ।
ब्रह्मवर्चसवृद्धि के लिये पलाश (ढाक) की समिधाओं से हवन करना चाहिये ।
धन प्राप्ति के लिये वट ( बरगद) की समिधाओं से तथा कान्तिवृद्धि के लिये खादिर ( खैर ) की समिधाओं से होम करना चाहिये ॥
अधर्म का नाश करने के लिये तिलों से तथा शत्रुओं का नाश करने के लिये सरसों से होम करना चाहिये ।
खीर का होम करने से कान्ति, लक्ष्मी तथा कीर्ति मिलती है ।
दही का होम पर कृत्य एवं अपमृत्यु को नष्ट करता है तथा विवाद में सफलता प्रदान करता है ।
सभी होमों से आहुतियों की संख्या १० हजार बतलाई गई है ।
३-३ दुर्वाओं का १०८ बार होम करने से रोग नष्ट हो जाते हैं ।
जो व्यक्ति अपनी वर्षगाँठ के दिन त्रिमधुर ( घी, शहद, और शक्कर ) के साथ खीर से होम करता है उसके जीवन में लक्ष्मी, आरोग्यता एवं कीति बढ़ती है ।
जन्म नक्षत्र से ११ वें या २१ वे नक्षत्र में गुडूची एवं बकुल ( मौलश्री ) की समिधाओं से होम करने से मनुष्यों के रोग एवं अपमृत्यु दूर हो जाते हैं ।
अपमृत्यु को नष्ट करने के लिये प्रतिदिन दूर्वाओं का हवन करना चाहिये । विशेष क्या कहें, भगवान् शिव मनुष्यों के सब मनोरथों को पूर्ण करते हैं ।
ज्वर को नष्ट करने के लिये अपामार्ग (औघा) की समिधाओं से हवन करना चाहिये और सब इच्छाओं की पूर्ति के लिये दूध में डुबोकर अमृता ( गिलोय ) के टुकड़ों से एक मास तक होम करना चाहिये ।

॥ इति महामृत्युंजयमंत्रप्रयोगः मंत्र महोदधि ॥

*मुष्टि मुद्रा – दाहिने हाथ की हथेली से मुष्टिका बना कर ऊपर की ओर प्रदर्शित करने से मुष्टि मुद्रा बनती है । यह मुद्रा सभी विघ्नों का विनाश करने वाली कही गई है ।
मृगमुद्रा – दहिने हाथ की अनामिका और अंगूठे को मिलाकर उस पर मध्यमा को भी रख्खे। शेष दो उंगलियों को ऊपर की ओर सीधा खड़ा करे। यह मग मद्रा है।
शक्ति मुद्रा – दोंनों हाथों से मुट्ठी बना कर बाये हाथ की मुट्टी के ऊपर दाहिने हाथ की मुट्ठी को रख कर शिर के ऊपर संयोजन करने से शक्ति मुद्रा निष्पन्न होती है ।
लिङ्गमुद्रा – दाहिने हाथ के अंगूठे को ऊपर उठाकर उसे बायें अंगूठे से बाँधे । उसके बाद दोनों हाथों की उँगलियों को परस्पर बाँधे । यह शिवसान्निध्यकारक लिङ्गमुद्रा है । ।
पञ्चमुखमुद्रा – दोंनों हाथों के मणिबन्धों को मिलाकर आगे की अंगुलियों को परस्पर मिलाना चाहिए । शिव को संतुष्ट करने वाली यह पञ्चमुख मुद्रा कही गई है ॥

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.