Print Friendly, PDF & Email

मोहन मन्त्र फकीरी
मन्त्रः- (१) ”नबी का है यह फरमान, खुदा का रूप है इन्सान । इसकी ताकत है ईमान, जिससे चलता है जहान ।। जहान में खुदा का टोना है, आस्मान मे आफताब की शान । चाँद नूर बरसाता है, चलाता है जादू का बान ।। चल – चल बिहिश्त की हूर, फैला दे नूर, मोह ले जमीन – आसमान । तुझे अली इमाम की आन । तुझे कुरआन की कसम, पाक परवर – दिगार की कसम । रख ले ईमान, झूठी न हो फकीर की जुबान-कु: फु: फु: ।।”

vadicjagatविधि :- ईद की रात में किसी कब्रिस्तान में, किसी कब्र के पास, पश्चिम की तरफ रुख कर आसन पर बैठे । लोहबान की धूनी देते हुए उक्त मन्त्र को १०८ बार पड़े । इसके बाद जब कभी किसी को मोहित करना हो, तो पानी को ७ बार अभिमन्त्रित कर इच्छित व्यक्ति को पिलाए या किसी फूल को ७ बार मन्त्र पढ़कर उसके हाथ में दे या ७ बार धूल को अभिमन्त्रित कर उसके बदन पर उड़ाए, तो वह व्यक्ति जपकर्ता पर मोहित हो जाएगा । स्त्री – पुरुष-दोनों इस मन्त्र का प्रयोग कर सकते हैं ।

(२) ”नबी को मोहे खुदा की शान, चल पड़ी नबी की जुबान । मोहे इन्सान, सोई मुसलमान, मोहित हुआ सारा जहान । चल – चल बाहु का बान, मान ले फकीर का फरमान । तुझे कुरआन की आन, मोह ले जमीन – आसमान, मोह ले ( अमुक) की जान । फकीर का कहा न माने, तो दोजख की आग में जले. फू.. .फू.. .फू…।।”
विधि : उक्त मन्त्र भी ऊपर लिखी विधि से सिद्ध किया जाता है । दोनों एक ही मन्त्र हैं । दो फकीरों की सिद्धि से सिद्ध हुए हैं । इसलिए इन दोनों की आयत में थोड़ा अन्तर है । इस मन्त्र का प्रयोग भी उसी प्रकार किया जाता है ।

2 comments on “मोहन मन्त्र फकीरी

  • मंत्र : किसका राजा कैसा राजा जिन्नो का राजा जिन्न का मंत्र पोस्ट कीजिए आप से मे फोन पे बात करना चाहता हुँ मेरा फोन नंबर 9618314046 पंडितजी आप को रिक्वेस्ट है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.