Print Friendly, PDF & Email

शिवमहापुराण – द्वितीय रुद्रसंहिता [प्रथम-सृष्टिखण्ड] – अध्याय 12
श्री गणेशाय नमः
श्री साम्बसदाशिवाय नमः
बारहवाँ अध्याय
भगवान् शिव की श्रेष्ठता तथा उनके पूजन की अनिवार्य आवश्यकता का प्रतिपादन

नारदजी बोले — हे ब्रह्मन् ! हे प्रजापते ! हे तात ! आप धन्य हैं; क्योंकि आपकी बुद्धि भगवान् शिव में लगी हुई है । हे विधे ! आप पुनः इसी विषय का सम्यक् प्रकार से विस्तारपूर्वक मुझसे वर्णन कीजिये ॥ १ ॥

ब्रह्माजी बोले — हे तात ! एक समय की बात है; कमल से उत्पन्न होनेवाले मैंने चारों ओर से ऋषियों और देवताओं को बुलाकर प्रेमपूर्वक सुन्दर और मधुर वाणी में कहा — ॥ २ ॥ यदि आप सब नित्य सुख प्राप्त करने की इच्छा रखते हैं और नित्य अपने मनोरथ की सिद्धि चाहते हैं, तो मेरे साथ क्षीरसागर के तट पर आयें ॥ ३ ॥

शिवमहापुराण

इस वचन को सुनकर वे सब मेरे साथ वहाँ पर गये, जहाँ सर्वकल्याणकारी भगवान् विष्णु निवास करते हैं ॥ ४ ॥ हे मुने ! वहाँपर जाकर सभी देवता भगवान् जगन्नाथ देवदेवेश्वर जनार्दन विष्णु को हाथ जोड़कर प्रणाम करके खड़े हो गये । ब्रह्मा आदि उन उपस्थित देवताओं को देखकर [मनमें] शिव के चरणकमल का स्मरण करते हुए विष्णु कहने लगे — ॥ ५-६ ॥

विष्णुजी बोले — हे ब्रह्मादि देवो और ऋषियो ! आपलोग यहाँ किसलिये आये हुए हैं ? प्रेमपूर्वक सब कुछ कहें ? इस समय कौन-सा कार्य आ पड़ा ? ॥ ७ ॥

ब्रह्माजी बोले — भगवान् विष्णु के द्वारा ऐसा पूछने पर मैंने उन्हें प्रणाम किया और उपस्थित उन सभी देवताओं से कहा कि इस समय आप सबके आने का क्या प्रयोजन है ? इसका निवेदन आप सब करें ॥ ८१/२ ॥

देवता बोले — [हे विष्णो !] किसकी सेवा है, जो सभी दुःखों को दूर करनेवाली है, जिसको कि हमें नित्य करना चाहिये । देवताओं का यह वचन सुनकर भक्तवत्सल भगवान् विष्णु देवताओंसहित मेरी प्रसन्नता के लिये कृपापूर्वक यह वाक्य कहने लगे — ॥ ९-१० ॥

श्रीभगवान् बोले — हे ब्रह्मन् ! देवों के साथ आपने पहले भी इस विषय में सुना है, किंतु आज पुनः आपको और देवताओं को बता रहा हूँ ॥ ११ ॥ हे ब्रह्मन् ! अपने-अपने कार्यों में संलग्न समस्त देवों के साथ आपने जो देखा है और इस समय जो देख रहे हैं, उसके विषय में बार-बार क्यों पूछ रहे हैं ? ॥ १२ ॥ सभी दुःखों को दूर करनेवाले शंकरजी की ही सदा सेवा करनी चाहिये । यह बात स्वयं ही उन्होंने विशेषकर मुझसे और ब्रह्मा से भी कही थी ॥ १३॥ इस अद्भुत दृष्टान्त को आप सब लोगों ने भी देखा है । अतः सुख चाहनेवाले लोगों को कभी भी उनका पूजन नहीं छोड़ना चाहिये ॥ १४ ॥ देवदेवेश्वर भगवान् शंकर के लिंगमूर्तिरूप महेश्वर का त्याग करके अपने बन्धु-बान्धवोंसहित तारपुत्र नष्ट हो गये । [शिव की आराधना का परित्याग करने के कारण] वे सब मेरे द्वारा माया से मोहित कर दिये गये और जब वे शिव की भक्ति से वंचित हो गये, तब वे सब नष्ट और ध्वस्त हो गये ॥ १५-१६ ॥

अतः हे देवसत्तम ! लिंगमूर्ति धारण करनेवाले भगवान् शंकर की विशेष श्रद्धा के साथ सदैव पूजा और सेवा करनी चाहिये । शिवलिंग की पूजा करने से ही देवता, दैत्य, हम और आप सभी श्रेष्ठता को प्राप्त कर सके हैं, हे ब्रह्मन् ! आपने उसे कैसे भुला दिया है ? ॥ १७-१८ ॥ इसलिये जिस किसी भी तरह से भगवान् शिव के लिंग का पूजन नित्य करना ही चाहिये । हे ब्रह्मन् ! सभी मनोकामनाओं की पूर्ति के लिये देवताओं को भगवान् शिव की पूजा करनी चाहिये ॥ १९ ॥

वही [मनुष्य के जीवन की बहुत बड़ी] हानि है, वही [उसके चरित्रका] बहुत बड़ा छिद्र है, वही उसकी अन्धता और वही महामूर्खता है, जिस मुहूर्त अथवा क्षण में मनुष्य शिव का पूजन नहीं करता है ॥ २० ॥ जो शिवभक्तिपरायण हैं, जो शिव में अनुरक्त चित्तवाले हैं और जो शिव का स्मरण करते हैं, वे दुःख के पात्र नहीं होते । जो महाभाग मन को अच्छे लगनेवाले सुन्दर-सुन्दर भवन, सुन्दर आभूषणों से युक्त स्त्रियाँ, इच्छानुकूल धन, पुत्र-पौत्रादि सन्तति, निरोग शरीर, अलौकिक प्रतिष्ठा, स्वर्गलोक का सुख, अन्तकाल में मुक्तिलाभ तथा परमेश्वर की भक्ति चाहते हैं, वे पूर्वजन्मकृत पुण्याधिक्य के कारण सदाशिव की अर्चना किया करते हैं ॥ २१-२४ ॥ जो भक्तिपरायण मनुष्य शिवलिंग की नित्य पूजा करता है, उसीकी सिद्धि सफल होती है और वह पापों से लिप्त नहीं होता है ॥ २५ ॥
ब्रह्माजी बोले — श्रीभगवान् विष्णु ने जब देवताओं से ऐसा कहा, तब उन्होंने साक्षात् हरि को प्रणाम करके मनुष्यों की समस्त कामनाओं की प्राप्ति के लिये उनसे शिवलिंग देने की प्रार्थना की ॥ २६ ॥
उसको सुनकर भगवान् विष्णु ने विश्वकर्मा से कहा — हे मुनिश्रेष्ठ ! मैं तो जीवों का उद्धार करने में तत्पर हूँ । हे विश्वकर्मन् ! मेरी आज्ञा से आप भगवान् शिव के कल्याणकारी लिंगों का निर्माण करके उन्हें सभी देवताओं को प्रदान कीजिये ॥ २७-२८ ॥

ब्रह्माजी बोले — तब विश्वकर्मा ने अधिकार के अनुसार शिवलिंगों का निर्माण करके मेरी और विष्णु की आज्ञा से उन सभी शिवलिंगों को उन देवताओं को प्रदान किया ॥ २९ ॥

हे ऋषिश्रेष्ठ ! वही मैं आज आपसे कह रहा हूँ, सुनिये । इन्द्र पद्मरागमणि से बने शिवलिंग, विश्रवापुत्र कुबेर सुवर्णलिंग, धर्म पीतवर्ण पुखराज की मणि से निर्मित लिंग, वरुण श्यामवर्ण की मणियों से बने हुए लिंग, विष्णु इन्द्रनीलमणि से निर्मित लिंग, ब्रह्मा सुवर्ण से बने शिवलिंग, हे मुने ! सभी विश्वेदेव चाँदी से निर्मित शिवलिंग, वसुगण पीतल के शिवलिंग, अश्विनीकुमार पार्थिव लिंग, देवी लक्ष्मी स्फटिकमणिनिर्मित लिंग, सभी आदित्य ताम्रनिर्मित लिंग, सोमराज चन्द्रमा मौक्तिक शिवलिंग, अग्निदेव वज्रमणि [हीरे]-से बने शिवलिंग, श्रेष्ठ ब्राह्मण और उनकी पत्नियाँ मृण्मय पार्थिव शिवलिंग, मयदानव चन्दन के शिवलिंग, नाग मूँगे से बने शिवलिंग का आदरपूर्वक विधिवत् पूजन करते हैं ॥ ३०-३४ ॥

देवी दुर्गा मक्खन से बने हुए शिवलिंग, योगी भस्मनिर्मित शिवलिंग, यक्ष दधि निर्मित शिवलिंग तथा छाया चावल के आटे की पीठी से बने हुए शिवलिंग की विधिवत् पूजा करती हैं । ब्रह्माणी देवी रत्नमय शिवलिंग की पूजा करती हैं । बाणासुर पारे से बने शिवलिंग तथा दूसरे लोग मिट्टी आदि से बनाये गये पार्थिव शिवलिंग का विधिवत् पूजन करते हैं ॥ ३५-३६ ॥

विश्वकर्मा ने इसी प्रकार के शिवलिंग देवताओं और ऋषियों को भी दिये थे, जिनकी पूजा वे सभी देवता और ऋषि सदैव करते रहते हैं ॥ ३७ ॥

देवताओं की हितकामना के लिये विष्णु ने उन्हें शिवलिंग प्रदान करके मुझ ब्रह्मा से शिव का पूजन-विधान भी बताया । उनके द्वारा कहे गये शिवलिंग के उस पूजन-विधान को सुनकर प्रसन्नचित्त मैं ब्रह्मा देवताओं के साथ अपने स्थान पर लौट आया ॥ ३८-३९ ॥

हे मुने ! वहाँ आकर के मैंने सभी देवों और ऋषियों को सम्पूर्ण अभीष्ट की सिद्धि करनेवाले शिवलिंग के पूजन-विधान को सम्यक् रूप से बताया ॥ ४० ॥

ब्रह्माजी बोले — हे सभी देवताओ और ऋषियो ! सुनिये । मैं प्रसन्नतापूर्वक आप सबसे शिवपूजन की उस विधि का वर्णन करने जा रहा हूँ, जो भोग और मोक्ष को देनेवाली है ॥ ४१ ॥ हे देवो ! हे मुनीश्वरो ! सभी जीव-जन्तुओं में मनुष्य का जन्म प्राप्त करना दुर्लभ है, उसमें भी उत्तम कुल में जन्म लेना तो अत्यन्त दुर्लभ है । उत्तम कुल में भी सदाचारी ब्राह्मणों के यहाँ जन्म लेना अच्छे पुण्यों से ही सम्भव है । अतः भगवान् सदाशिव की प्रसन्नता के लिये सदैव स्ववर्णाश्रम-विहित कर्म करते रहना चाहिये ॥ ४२-४३ ॥

जिस जाति के लिये जो-जो सत्कर्म बताया गया है, उस-उस कर्म का उल्लंघन नहीं करना चाहिये, जितनी सम्पत्ति हो, उसके अनुसार दानकर्म करना चाहिये ॥ ४४ ॥ कर्ममय सहस्रों यज्ञों की अपेक्षा तपयज्ञ श्रेष्ठ है । सहस्रों तपयज्ञों की अपेक्षा जपयज्ञ का महत्त्व अधिक है । ध्यान-यज्ञ से बढ़कर तो कोई वस्तु है ही नहीं । ध्यान ज्ञान का साधन है; क्योंकि योगी ध्यान के द्वारा अपने इष्टदेव एकरस सदाशिव का साक्षात्कार करता है ॥ ४५-४६ ॥

भगवान् सदाशिव सदैव ध्यानयज्ञ में तत्पर रहनेवाले उपासक के सान्निध्य में रहते हैं । जो विज्ञान से सम्पन्न हैं, उनकी शुद्धि के लिये किसी प्रायश्चित्त आदि की आवश्यकता नहीं है ॥ ४७ ॥ हे ब्रह्मन् ! जो ब्रह्मविद् विशुद्ध ब्रह्मविद्या के द्वारा ब्रह्मसाक्षात्कार कर लेते हैं, उन्हें क्रिया, सुख-दुःख, धर्म-अधर्म, जप, होम, ध्यान और ध्यान-विधि को जानने तथा करने की आवश्यकता नहीं है । वे इस विद्या से सदा निर्विकार रहते हैं और अन्त में अमर हो जाते हैं ॥ ४८-४९ ॥

इस शिवलिंग को परमानन्द देनेवाला, विशुद्ध, कल्याणस्वरूप, अविनाशी, निष्कल, सर्वव्यापक तथा योगियों के हृदय में अवस्थित रहनेवाला जानना चाहिये ॥ ५० ॥ हे द्विजो ! शिवलिंग दो प्रकार का बताया गया है — बाह्य और आभ्यन्तर । बाह्य लिंग को स्थूल एवं आभ्यन्तर लिंग को सूक्ष्म माना गया है ॥ ५१ ॥ जो कर्मयज्ञ में तत्पर रहनेवाले हैं, वे स्थूल लिंग की अर्चना में रत रहते हैं । सूक्ष्मतया शिव के प्रति ध्यान करने में अशक्त अज्ञानियों के लिये शिव के इस स्थूलविग्रह की कल्पना की गयी है । जिसको इस आध्यात्मिक सूक्ष्मलिंग का प्रत्यक्षीकरण नहीं होता है, उसे उस स्थूल लिंग में इस सूक्ष्म लिंग की कल्पना करनी चाहिये, इसके अतिरिक्त कोई अन्य उपाय नहीं है ॥ ५२-५३ ॥

ज्ञानियों के लिये सूक्ष्मलिंग की पूजा का विधान है, [जिसमें ध्यान की प्रधानता होती है।] ध्यान करने से उस शिव का साक्षात्कार होता है, जो सदैव निर्मल और अव्यय रहनेवाला है । जिस प्रकार अज्ञानियों के लिये स्थूल लिंग की उत्कृष्टता बतायी गयी है, उसी प्रकार ज्ञानियों के लिये इस सूक्ष्मलिंग को उत्तम माना गया है ॥ ५४ ॥ दूसरे तत्त्वार्थवादियों के विचार से आगे कोई अन्तर नहीं है; क्योंकि निष्कल तथा कलामयरूप से वह सबके चित्त में रहता है । सम्पूर्ण जगत् शिवस्वरूप ही है ॥ ५५ ॥ इस प्रकार ज्ञान के द्वारा शिव का साक्षात्कार करके विमुक्त हुए लोगों को कोई भी पाप नहीं लगता । उनके लिये विधि-निषेध और विहित-अविहित कुछ भी नहीं है ॥ ५६ ॥

जिस प्रकार जल के भीतर रहते हुए भी कमल जल से लिप्त नहीं होता है, उसी प्रकार घर में रहते हुए भी ज्ञानी पुरुष को कर्म अपने बन्धन में बाँध नहीं पाते हैं ॥ ५७ ॥ इस प्रकार का ज्ञान जबतक मनुष्य को प्राप्त न हो जाय, तबतक उसे कर्मविहित स्थूल या सूक्ष्म शिवलिंग का निर्माणादि करके सदाशिव की ही आराधना करनी चाहिये ॥ ५८ ॥ जिस प्रकार विश्वास के लिये जगत् में सूर्य एक ही स्थित है और एक होते हुए भी जल के आधार जलाशय आदि वस्तुओं में [अपने प्रतिबिम्ब के कारण] बहुत-से रूपों में दिखायी पड़ता है, उसी प्रकार हे देवो ! यह सत्-असत् रुप जो कुछ भी इस संसार में सुनायी और दिखायी दे रहा है, उसे आपलोग शिवस्वरूप परब्रह्म ही समझें ॥ ५९-६० ॥

जलतत्त्व के एक होने पर भी उनके सम्बन्ध में जो भेद प्रतीत होता है, वह संसार में सम्यक् विचार न करने के कारण ही है — ऐसा अन्य सभी वेदार्थतत्त्वज्ञ भी कहते हैं ॥ ६१ ॥ संसारियों के हृदय में सकल लिंगस्वरूप साक्षात् परमेश्वर का वास है — ऐसा ज्ञान जिसको हो गया है, उसको प्रतिमा आदि से क्या प्रयोजन है ! ॥ ६२ ॥ इस प्रकार के ज्ञान से हीन प्राणी के लिये शुभ प्रतिमा की कल्पना की गयी है; क्योंकि ऊँचे स्थान पर चढ़ने के लिये मनुष्य के लिये आलम्बन आवश्यक बताया गया है ॥ ६३ ॥ जैसे आलम्बन के बिना ऊँचे स्थान पर चढ़ना मनुष्य के लिये अत्यन्त कठिन ही नहीं सर्वथा असम्भव है, वैसे ही निर्गुण ब्रह्म की प्राप्ति के लिये प्रतिमा का अवलम्बन आवश्यक कहा गया है ॥ ६४ ॥ सगुण से ही निर्गुण की प्राप्ति होती है — ऐसा निश्चित है । इस प्रकार सभी देवताओं की प्रतिमाएँ उन देवों में विश्वास उत्पन्न करने के लिये होती हैं ॥ ६५ ॥ ये देव सभी देवताओं से महान् हैं । इन्हीं के लिये यह पूजन का विधान है । यदि प्रतिमा न हो, तो गन्धचन्दन, पुष्पादि की आवश्यकता किस कार्यसिद्धि के लिये रह जायगी ॥ ६६ ॥

प्रतिमा का पूजन तबतक करते रहना चाहिये, जबतक विज्ञान [परब्रह्म परमेश्वरका ज्ञान] प्राप्त नहीं हो जाता । बिना ज्ञान प्राप्त किये ही जो प्रतिमा का पूजन छोड़ देता है, उसका निश्चित ही पतन होता है ॥ ६७ ॥ हे ब्राह्मणो ! इस कारण आपलोग परमार्थरूप से सुनें । अपनी जाति के अनुसार [शास्त्रों में] जो कर्म बताया गया है, उसे प्रयत्नपूर्वक करना चाहिये ॥ ६८ ॥ जहाँ-जहाँ जैसी भक्ति हो, वहाँ-वहाँ तदनुरूप पूजनादि कर्म करना चाहिये; क्योंकि पूजन, दान आदि के बिना पाप दूर नहीं होता ॥ ६९ ॥ जबतक शरीर में पाप रहता है, तबतक सिद्धि की प्राप्ति नहीं होती है । पाप के दूर हो जानेपर उसका सब कुछ सफल हो जाता है ॥ ७० ॥

जिस प्रकार मलिन वस्त्र में रंग बहुत सुन्दर नहीं चढ़ता, किंतु उसे भली प्रकार से धोकर स्वच्छ कर लेने पर पूरा रंग अच्छी तरह से चढ़ता है, उसी प्रकार देवताओं की विधिवत् पूजा करने से जब निर्मल शरीर में ज्ञानरूपी रंग चढ़ता है, तब जाकर उस ब्रह्मविज्ञान का प्रादुर्भाव होता है ॥ ७१-७२ ॥ विज्ञान का मूल अनन्य भक्ति है और ज्ञान का मूल भी भक्ति ही कही जाती है ॥ ७३ ॥ भक्ति का मूल सत्कर्म और अपने इष्टदेव आदि का पूजन है और उसका मूल सद्गुरु कहे गये हैं और उन सद्गुरु का मूल सत्संगति है ॥ ७४ ॥

सत्संगति से सद्गुरु को प्राप्त करना चाहिये । सद्गुरु से प्राप्त मन्त्र से देवपूजन आदि सत्कर्म करने चाहिये; क्योंकि देवपूजन से भक्ति उत्पन्न होती है और उस भक्ति से ज्ञान का प्रादुर्भाव होता है ॥ ७५ ॥ ज्ञान से परब्रह्म के प्रकाशक विज्ञान का उदय होता है । जब विज्ञान का उदय हो जाता है, तब भेदबुद्धि [स्वतः ही] नष्ट हो जाती है ॥ ७६ ॥ समस्त भेदों के नष्ट हो जानेपर द्वन्द्व-दुःख भी नष्ट हो जाते हैं । द्वन्द्व-दुःख से रहित हो जानेपर वह साधक शिवस्वरूप हो जाता है ॥ ७७ ॥ हे देवर्षियो ! द्वन्द्व के नष्ट हो जानेपर ज्ञानी को सुख-दुःख की अनुभूति नहीं होती और विहित-अविहित का प्रपंच भी उसके लिये नहीं रह जाता है ॥ ७८ ॥

इस संसार में ऐसा गृहस्थाश्रमरहित प्राणी विरला ही होता है । यदि लोक में कोई हो, तो उसके दर्शनमात्र से ही पाप नष्ट हो जाते हैं । सभी तीर्थ, देवता और मुनि भी उस प्रकार के परब्रह्ममय शिवस्वरूप परमज्ञानी की प्रशंसा करते रहते हैं ॥ ७९-८० ॥ वैसे न तो तीर्थ हैं, न मिट्टी और पत्थर से बने देवता ही हैं, वे तो बहुत समय के बाद पवित्र करते हैं, किंतु विज्ञानी दर्शनमात्र से पवित्र कर देता है ॥ ८१ ॥

जबतक मनुष्य गृहस्थाश्रम में रहे, तबतक प्रेमपूर्वक उसे पाँच देवताओं (गणेश, सूर्य, विष्णु, शिव तथा देवी) — की और उनमें भी सर्वश्रेष्ठ भगवान् सदाशिव की प्रतिमा का पूजन करना चाहिये अथवा मात्र सदाशिव की ही पूजा करनी चाहिये; एकमात्र वे ही सबके मूल कहे गये हैं । हे देवो ! जैसे मूल (जड़)-के सींचे जाने पर सभी शाखाएँ स्वतः तृप्त हो जाती हैं, वैसे ही सर्वदेवमय सदाशिव के ही पूजन से सभी देवताओं का पूजन हो जाता है और वे प्रसन्न हो जाते हैं ॥ ८२-८३ ॥ जैसे वृक्ष की शाखाओं के तृप्त होनेपर अर्थात् उन्हें सींचने पर कभी भी मूल की तृप्ति नहीं होती, वैसे ही हे मुनिश्रेष्ठो ! सभी देवताओं के तृप्त होने पर शिव की भी तृप्ति नहीं होती है — ऐसा सूक्ष्म बुद्धिवाले लोगों को जानना चाहिये । शिव के पूजित हो जानेपर सभी देवताओं का पूजन स्वतः ही हो जाता है ॥ ८४-८५ ॥

अतः सभी प्राणियों के कल्याण में लगे हुए मनुष्य को चाहिये कि वह सभी कामनाओं की फलप्राप्ति के लिये संसार का कल्याण करनेवाले भगवान् सदाशिव की पूजा करे ॥ ८६ ॥

॥ इस प्रकार श्रीशिवमहापुराण के अन्तर्गत द्वितीय रुद्रसंहिता के प्रथम खण्ड में सृष्टि-उपाख्यान में पूजा-विधि-वर्णन-क्रम में सारासार-विचारवर्णन नामक बारहवाँ अध्याय पूर्ण हुआ ॥ १२ ॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.