शिवमहापुराण – प्रथम विद्येश्वरसंहिता – अध्याय 15
श्री गणेशाय नमः
श्री साम्बसदाशिवाय नमः
पन्द्रहवाँ अध्याय
देश, काल, पात्र और दान आदि का विचार

ऋषिगण बोले — समस्त पदार्थों के ज्ञाताओं में श्रेष्ठ हे सूतजी ! अब आप क्रमशः देश, काल आदि का वर्णन करें ॥ १/२ ॥

सूतजी बोले — हे महर्षियो ! देवयज्ञ आदि कर्मों में अपना शुद्ध गृह समान फल देनेवाला होता है अर्थात् अपने घर में किये हुए देवयज्ञ आदि शास्त्रोक्त कर्म फल को सममात्रा में देनेवाले होते हैं । गोशाला का स्थान घर की अपेक्षा दसगुना फल देता है । जलाशय का तट उससे भी दसगुना महत्त्व रखता है तथा जहाँ बेल, तुलसी एवं पीपलवृक्ष का मूल निकट हो, वह स्थान जलाशय से भी दस गुना अधिक फल देनेवाला होता है ॥ १-२ ॥

शिवमहापुराण

देवालय को उससे भी दस गुना महत्त्व का स्थान जानना चाहिये । तीर्थभूमि का तट देवालय से भी दस गुना महत्त्व रखता है और उससे दसगुना श्रेष्ठ है नदी का किनारा । उससे दस गुना उत्कृष्ट है तीर्थनदी का तट और उससे भी दस गुना महत्त्व रखता है सप्तगंगा नामक नदियों का तीर्थ । गंगा, गोदावरी, कावेरी, ताम्रपर्णी, सिन्धु, सरयू और नर्मदा — इन सात नदियों को सप्तगंगा कहा गया है । समुद्र के तट का स्थान इनसे भी दस गुना अधिक पवित्र माना गया है और पर्वत के शिखर का प्रदेश समुद्रतट से भी दस गुना पावन है । सबसे अधिक महत्त्व का वह स्थान जानना चाहिये, जहाँ मन लग जाय [यहाँ तक देश का वर्णन हुआ, अब काल का तारतम्य बताया जाता है-] ॥ ३-५१/२ ॥

सत्ययुग में यज्ञ, दान आदि कर्म पूर्ण फल देनेवाले होते हैं — ऐसा जानना चाहिये । त्रेतायुग में उसका तीन चौथाई फल मिलता है । द्वापर में सदा आधे ही फल की प्राप्ति कही गयी है । कलियुग में एक चौथाई ही फल की प्राप्ति समझनी चाहिये और आधा कलियुग बीतने पर उस फल में से भी एक चतुर्थांश कम हो जाता है ॥ ६-७ ॥

शुद्ध अन्तःकरणवाले पुरुष को शुद्ध एवं पवित्र दिन सम फल देनेवाला होता है । हे विद्वान् ब्राह्मणो ! सूर्यसंक्रान्ति के दिन किया हुआ सत्कर्म पूर्वोक्त शुद्ध दिन की अपेक्षा दस गुना फल देनेवाला होता है — यह जानना चाहिये । उससे भी दस गुना अधिक महत्त्व उस कर्म का है, जो विषुव [ज्योतिष के अनुसार वह समय जबकि सूर्य विषुव रेखा पर पहुँचता है और दिन तथा रात दोनों बराबर होते हैं । यह वर्ष में दो बार आता है — एक तो सौर चैत्रमास की नवमी तिथि या अँगरेजी दिनांक २१ मार्च को और दूसरा आश्विन की नवमी तिथि या अँगरेजी दिनांक २२ सितम्बर को ।] नामक योग में किया जाता है । दक्षिणायन आरम्भ होने के दिन अर्थात् कर्क की संक्रान्ति में किये हुए पुण्यकर्म का महत्त्व विषुव से भी दस गुना अधिक माना गया है । उससे भी दसगुना अधिक मकर-संक्रान्ति में और उससे भी दस गुना अधिक चन्द्रग्रहण में किये हुए पुण्य का महत्त्व है । सूर्यग्रहण का समय सबसे उत्तम है । उसमें किये गये पुण्यकर्म का फल चन्द्रग्रहण से भी अधिक और पूर्णमात्रा में होता है — इस बात को विज्ञ पुरुष जानते हैं । जगरूपी सूर्य का राहुरूपी विष से संयोग होता है, इसलिये सूर्यग्रहण का समय रोग प्रदान करनेवाला है । अतः उस विष की शान्ति के लिये उस समय स्नान, दान और जप करना चाहिये । वह काल विष की शान्ति के लिये उपयोगी होने के कारण पुण्यप्रद माना गया है ॥ ८-११ ॥

जन्म-नक्षत्र के दिन तथा व्रत की पूर्ति के दिन का समय सूर्यग्रहण के समान ही समझा जाता है । परंतु महापुरुषों के संग का काल करोड़ों सूर्यग्रहण के समान पावन है — ऐसा ज्ञानी पुरुष मानते हैं ॥ १२ ॥

तपोनिष्ठ योगी और ज्ञाननिष्ठ यति — ये पूजा के पात्र हैं; क्योंकि ये पापों के नाश में कारण होते हैं । जिसने चौबीस लाख गायत्री का जप कर लिया हो, वह ब्राह्मण भी पूजा का पात्र है; उसका पूजन सम्पूर्ण फलों और भोगों को देने में समर्थ है । जो पतन से त्राण करता अर्थात् नरक में गिरने से बचाता है, उसके लिये [इसी गुण के कारण शास्त्र में] पात्र शब्द का प्रयोग होता है । वह दाता को पाप से त्राण प्रदान करने के कारण पात्र कहलाता है ॥ १३-१५ ॥

गायत्री अपना गान करनेवाले का अधोगति से त्राण करती है, इसलिये वह गायत्री कहलाती है । जैसे इस लोक में जो धनहीन है, वह दूसरे को धन नहीं दे सकता जो यहाँ धनवान् है, वही दूसरे को धन दे सकता है, उसी तरह जो स्वयं शुद्ध और पवित्रात्मा है, वही दूसरे मनुष्यों का त्राण या उद्धार कर सकता है । जो गायत्री का जप करके शुद्ध हो गया है, वही शुद्ध ब्राह्मण कहा जाता है । इसलिये दान, जप, होम, पूजा — इन सभी कर्मों के लिये वही शुद्ध पात्र है । ऐसा ब्राह्मण ही दान लेने तथा रक्षा करने की पात्रता रखता है ॥ १६-१८१/२ ॥

स्त्री हो या पुरुष-जो भी भूखा हो, वही अन्नदान का पात्र है । श्रेष्ठ ब्राह्मण को समय पर बुलाकर उसे धन अथवा उत्तम वाणी से सन्तुष्ट करना चाहिये, इससे अभीष्ट फल की प्राप्ति होती है । जिसको जिस वस्तु की इच्छा हो, उसे वह वस्तु बिना माँगे ही दे दी जाय, तो दाता को उस दान का पूरा-पूरा फल प्राप्त होता है — ऐसी महर्षियों की मान्यता है । जो याचना करने के बाद दिया गया हो, वह दान आधा ही फल देनेवाला बताया गया है । अपने सेवक को दिया हुआ दान एक चौथाई फल देनेवाला कहा गया है । हे विप्रवरो ! जो जातिमात्र से ब्राह्मण है और दीनतापूर्ण वृत्ति से जीवन बिताता है, उसे दिया हुआ धन का दान दाता को इस भूतल पर दस वर्षों तक भोग प्रदान करनेवाला होता है । वही दान यदि वेदवेत्ता ब्राह्मण को दिया जाय, तो वह स्वर्गलोक में देवताओं के दस वर्षों तक दिव्य भोग देनेवाला होता है ॥ १९-२३ ॥

गायत्री-जापक ब्राह्मण को दान देने से सत्यलोक में दस वर्षों तक पुण्यभोग प्राप्त होता है और विष्णुभक्त ब्राह्मण को दिया गया दान वैकुण्ठ की प्राप्ति करानेवाला जाना जाता है । शिवभक्त विप्र को दिया हुआ दान कैलास की प्राप्ति कराने वाला कहा गया है । इस प्रकार सबको इन लोकों में भोगप्राप्ति के लिये दान देना चाहिये ॥ २४-२५ ॥

रविवार के दिन ब्राह्मण को दशांग अन्न देनेवाला मनुष्य दूसरे जन्म में दस वर्षों तक निरोग रहता है । बहुत सम्मानपूर्वक बुलाना, अभ्यंग (चन्दन आदि), पादसेवन, वस्त्र, गन्ध आदि से पूजन, घी के मालपुए आदि सुन्दर भोजन, छहों रस, व्यंजन, दक्षिणासहित ताम्बूल, नमस्कार और (जाते समय) अनुगमन — ये अन्नदान के दस अंग कहे गये हैं ॥ २६-२८ ॥

दस ब्राह्मणों को रविवार के दिन दशांग अन्न का दान करनेवाला सौ वर्ष तक निरोग रहता है । सोमवार आदि विभिन्न वारों में अन्नदान का फल उन-उन वारों के अनुसार दूसरे जन्म में इस पृथ्वीलोक में प्राप्त होता है — ऐसा जानना चाहिये । सातों वारों में दस-दस ब्राह्मणों को दशांग अन्नदान करने से सौ वर्ष तक आरोग्यादि फल प्राप्त होते हैं । इस प्रकार रविवार के दिन ब्राह्मणों को अन्नदान करने वाला मनुष्य हजार वर्षों तक शिवलोक में आरोग्यलाभ करता है । इसी प्रकार हजार ब्राह्मणों को अन्नदान करके मनुष्य दस हजार वर्षों तक आरोग्यभोग करता है । विद्वान् को सोमवार आदि दिनों के विषय में भी ऐसा ही जानना चाहिये ॥ २९-३३ ॥

रविवार को गायत्रीजप से पवित्र अन्तःकरणवाले एक हजार ब्राह्मणों को अन्नदान करके मनुष्य सत्यलोक में आरोग्यादि भोगों को प्राप्त करता है । इसी प्रकार दस हजार ब्राह्मणों को दान देने से विष्णुलोक में ऐसी प्राप्ति होती है और एक लाख ब्राह्मणों को अन्नदान करने से रुद्रलोक में भोगादि की प्राप्ति होती है ॥ ३४-३५ ॥

विद्या की कामनावाले मनुष्यों को ब्रह्मबुद्धि से बालकों को दशांग अन्न का दान करना चाहिये, पुत्र की कामनावाले लोगों को विष्णुबुद्धि से युवकों को दान करना चाहिये और ज्ञानप्राप्ति की इच्छावालों को रुद्रबुद्धि से वृद्धजनों को दान देना चाहिये । इसी प्रकार बुद्धि की कामना करनेवाले श्रेष्ठ मनुष्यों को सरस्वतीबुद्धि से बालिकाओं को दशांग अन्न का दान करना चाहिये । सुखभोग की कामनावाले श्रेष्ठजनों को लक्ष्मीबुद्धि से युवतियों को दान देना चाहिये । आत्मज्ञान की इच्छावाले लोगों को पार्वतीबुद्धि से वृद्धा स्त्रियों को अन्नदान करना चाहिये ॥ ३६-३८ ॥

ब्राह्मण के लिये शिल तथा उञ्छ * वृत्ति से लाया हुआ और गुरुदक्षिणा में प्राप्त हुआ अन्न-धन शुद्ध द्रव्य कहलाता है; उसका दान दाता को पूर्ण फल देनेवाला बताया गया है ॥ ३९ ॥

शुद्ध (शुक्ल) प्रतिग्रह (दान)-में मिला हुआ द्रव्य मध्यम द्रव्य कहा जाता है और खेती, व्यापार आदि से प्राप्त धन अधम द्रव्य कहा जाता है ॥ ४० ॥

क्षत्रियों का शौर्य से कमाया हुआ, वैश्यों का व्यापार से कमाया हुआ और शूद्रों का सेवावृत्ति से प्राप्त किया हुआ धन भी उत्तम द्रव्य कहलाता है । धर्म की इच्छा रखनेवाली स्त्रियों को जो धन पिता एवं पति से मिला हुआ हो, उनके लिये वह उत्तम द्रव्य है ॥ ४११/२ ॥

गौ आदि बारह वस्तुओं का चैत्र आदि बारह महीनों में क्रमशः दान करना चाहिये अथवा किसी पुण्यकाल में एकत्रित करके अपनी अभीष्ट प्राप्ति के लिये इनका दान करना चाहिये । गौ, भूमि, तिल, सुवर्ण, घी, वस्त्र, धान्य, गुड़, चाँदी, नमक, कोंहड़ा और कन्या — ये ही वे बारह वस्तुएँ हैं ॥ ४२-४३१/२ ॥

गोदान में दी हुई गाय के उपकारी गोबर से धनधान्यादि ठोस पदार्थों के आश्रय से टिके पापों का नाश होता है और उसके गोमूत्र से जल-तेल आदि तरल पदार्थों में रहनेवाले पापों का नाश होता है । उसके दूध-दही और घी से कायिक, वाचिक तथा मानसिक — तीनों प्रकार के पाप नष्ट हो जाते हैं । उनसे कायिक आदि पुण्यकर्मों की पुष्टि भी होती है — ऐसा बुद्धिमान् मनुष्य को जानना चाहिये ॥ ४४-४६ ॥

हे ब्राह्मणो ! भूमि का दान इहलोक और परलोक में प्रतिष्ठा (आश्रय)-की प्राप्ति करानेवाला है । तिल का दान बलवर्धक एवं मृत्यु का निवारक कहा गया है । सुवर्ण का दान जठराग्नि को बढ़ानेवाला तथा वीर्यदायक है । घी के दान को पुष्टिकारक जानना चाहिये । वस्त्र का दान आयु की वृद्धि करानेवाला है — ऐसा जानना चाहिये । धान्य का दान अन्न की समृद्धि में कारण होता है । गुड़ का दान मधुर भोजन की प्राप्ति करानेवाला होता है । चाँदी के दान से वीर्य की वृद्धि होती है । लवण का दान षड्रस भोजन की प्राप्ति कराता है । सब प्रकार का दान सम्पूर्ण समृद्धि की सिद्धि के लिये होता है । विज्ञ पुरुष कूष्माण्ड के दान को पुष्टिदायक मानते हैं । कन्या का दान आजीवन भोग देनेवाला कहा गया है । हे ब्राह्मणो ! वह लोक और परलोक में भी सम्पूर्ण भोगों की प्राप्ति करानेवाला है ॥ ४७-५०१/२ ॥

कटहल-आम, कैथ आदि वृक्षों के फल, केला आदि ओषधियों के फल तथा जो फल लता एवं गुल्मों से उत्पन्न हुए हों, मुष्ट (आवरणयुक्त) फल जैसे – नारियल, बादाम आदि, उड़द, मूंग आदि दालें, शाक, मिर्च, सरसों आदि, तेल-मसाले और ऋतुओं में तैयार होनेवाले फल समय-समय पर बुद्धिमान् व्यक्ति द्वारा दान किये जाने चाहिये ॥ ५१-५३ ॥

विद्वान् पुरुष को चाहिये कि जिन वस्तुओं से श्रवण आदि इन्द्रियों की तृप्ति होती है, उनका सदा दान करे । श्रोत्र आदि दस इन्द्रियों के जो शब्द आदि दस विषय हैं, उनका दान किया जाय, तो वे भोगों की प्राप्ति कराते हैं । तथा दिशा आदि इन्द्रिय देवताओं को [श्रवणेन्द्रिय के देवता दिशाएँ, नेत्र के सूर्य, नासिका के अश्विनीकुमार, रसनेन्द्रिय के वरुण, त्वगिन्द्रिय के वायु, वागिन्द्रिय के अग्नि, लिंग के प्रजापति, गुदा के मित्र, हाथों के इन्द्र और पैरों के देवता विष्णु हैं।] सन्तुष्ट करते हैं। वेद और शास्त्र को गुरुमुख से ग्रहण करके गुरु के उपदेश से अथवा स्वयं ही बोध प्राप्त करने के पश्चात् जो बुद्धि का यह निश्चय होता है कि ‘कर्मों का फल अवश्य मिलता है’, इसी को उच्चकोटि की ‘आस्तिकता’ कहते हैं । भाई-बन्धु अथवा राजा के भय से जो आस्तिकता-बुद्धि या श्रद्धा होती है, वह कनिष्ठ श्रेणी की आस्तिकता है ॥ ५४-५५१/२ ॥

जो सर्वथा दरिद्र है, जिसके पास सभी वस्तुओं का अभाव है, वह वाणी अथवा कर्म (शरीर)-द्वारा यजन करे । मन्त्र, स्तोत्र और जप आदि को वाणी द्वारा किया गया यजन समझना चाहिये तथा तीर्थयात्रा और व्रत आदि को विद्वान् पुरुष शारीरिक यजन मानते हैं । जिस किसी भी उपाय से थोड़ा हो या बहुत, देवतार्पण-बुद्धि से जो कुछ भी दिया अथवा किया जाय, वह दान या सत्कर्म भोगों की प्राप्ति कराने में समर्थ होता है ॥ ५६-५८ ॥

तपस्या और दान-ये दो कर्म मनुष्य को सदा करने चाहिये तथा ऐसे गृह का दान करना चाहिये, जो अपने वर्ण (चमक-दमक या सफाई) और गुण (सुख-सुविधा)-से सुशोभित हो । बुद्धिमान् पुरुष देवताओं की तृप्ति के लिये जो कुछ देते हैं, वह अतिशय मात्रा में और सब प्रकार के भोग प्रदान करनेवाला होता है । उस दान से विद्वान् पुरुष इहलोक और परलोक में उत्तम जन्म और सदा सुलभ होनेवाला भोग पाता है । ईश्वरार्पण-बुद्धि से यज्ञ, दान आदि कर्म करके मनुष्य मोक्ष-फल का भागी होता है ॥ ५९-६० ॥

जो मनष्य इस अध्याय का सदा पाठ अथवा श्रवण करता है, उसे धार्मिक बुद्धि प्राप्त होती है तथा उसमें ज्ञान का उदय होता है ॥ ६१ ॥

॥ इस प्रकार श्रीशिवमहापुराण के अन्तर्गत प्रथम विद्येश्वरसंहिता में देश-काल-पात्र आदि का वर्णन नामक पन्द्रहवाँ अध्याय पूर्ण हुआ ॥ १५ ॥

* किसान के द्वारा खेत में बोये हुए अन्न को काटकर ले जाने के बाद उनसे गिरे हुए एक-एक दाने को दोनों अंगुलियों से चुनने (उठाने) को ‘उञ्छ’ तथा उक्त खेत में एक-एक बाल (धान्य के गुच्छों)-को चुनने को ‘शिल’ कहते हैं — ‘उञ्छो धान्यकणादानं कणिशाद्यर्जनं शिलम्’ । मनुस्मृति के टीकाकार आचार्य श्रीराघवानन्दजी ने बाजार आदि में क्रय-विक्रय के अनन्तर गिरे हुए अन्न के दानों के चुनने को ‘उञ्छ’ और खेत कट जाने के बाद खेत में पड़े हुए धान्यादि की बालों को बीनना ‘शिल’ कहा है । (मनु० ४।५ की व्याख्या)

 

 

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.