शिवमहापुराण – प्रथम विद्येश्वरसंहिता – अध्याय 22
श्री गणेशाय नमः
श्री साम्बसदाशिवाय नमः
बाईसवाँ अध्याय
शिव-नैवेद्य-भक्षण का निर्णय एवं बिल्वपत्र का माहात्म्य

ऋषिगण बोले — हे महामुने ! हमने पहले सुना है कि भगवान् शिव को अर्पित किया गया नैवेद्य अग्राह्य होता है, अतएव नैवेद्य के विषय में निर्णय और बिल्वपत्र का माहात्म्य भी कहिये ॥ १ ॥

शिवमहापुराण

सूतजी बोले — हे मुनियो ! अब आप सब सावधानी से सुनें । मैं प्रेमपूर्वक सब कुछ कह रहा हूँ । आप लोग शिवव्रत धारण करनेवाले हैं, अतः आपलोग धन्य हैं ॥ २ ॥ जो शिव का भक्त, पवित्र, शुद्ध, सव्रती तथा दृढनिश्चयी है, उसे शिव नैवेद्य अवश्य ग्रहण करना चाहिये और अग्राह्य भावना का त्याग कर देना चाहिये ॥ ३ ॥ शिवनैवेद्य को देखनेमात्र से ही सभी पाप दूर हो जाते हैं और शिव का नैवेद्य भक्षण करने से तो करोड़ों पुण्य स्वतः आ जाते हैं ॥ ४ ॥ हजार यज्ञों की बात कौन कहे, अर्बुद यज्ञ करने से भी वह पुण्य प्राप्त नहीं हो पाता है, जो शिवनैवेद्य खाने से प्राप्त हो जाता है । शिव का नैवेद्य खाने से तो शिवसायुज्य की प्राप्ति भी हो जाती है ॥ ५ ॥ जिस घर में शिव को नैवेद्य लगाया जाता है या अन्यत्र से शिव को समर्पित नैवेद्य प्रसादरूप में आ जाता है, वह घर पवित्र हो जाता है और वह अन्य को भी पवित्र करनेवाला हो जाता है ॥ ६ ॥ आये हुए शिवनैवेद्य को प्रसन्नतापूर्वक सिर झुकाकर ग्रहण करके भगवान् शिव का स्मरण करते हुए उसे खा लेना चाहिये ॥ ७ ॥ आये हुए शिवनैवेद्य को दूसरे समय में ग्रहण करूँगा — ऐसी भावना करके जो मनुष्य उसे ग्रहण करने में विलम्ब करता है, उसे पाप लगता है ॥ ८ ॥

जिसमें शिवनैवेद्य ग्रहण करने की इच्छा उत्पन्न नहीं होती, वह महान् पापी होता है और निश्चित रूप से नरक को जाता है ॥ ९ ॥ हृदय में अवस्थित शिवलिंग या चन्द्रकान्तमणि से बने हुए शिवलिंग अथवा स्वर्ण या चाँदी से बनाये गये शिवलिंग को समर्पित किया गया नैवेद्य शिव की दीक्षा लिये भक्त को खाना ही चाहिये — ऐसा कहा गया है ॥ १० ॥ इतना ही नहीं शिवदीक्षित भक्त समस्त शिवलिंगों के लिये समर्पित महाप्रसादरूप शुभ शिवनैवेद्य को खा सकता है ॥ ११ ॥

जिन मनुष्यों ने अन्य देवों की दीक्षा ली है और शिव की भक्ति में वे अनुरक्त रहते हैं, उनके लिये शिवनैवेद्य के भक्षण के विषय में निर्णय को प्रेमपूर्वक आप सब सुनें ॥ १२ ॥

हे ब्राह्मणो ! शालग्राम में उत्पन्न शिवलिंग, रसलिंग (पारदलिंग), पाषाणलिंग, रजतलिंग, स्वर्णलिंग, देवों और सिद्ध मुनियों के द्वारा प्रतिष्ठित शिवलिंग, केसर के बने हुए लिंग, स्फटिकलिंग, रत्नलिंग और ज्योतिर्लिंग आदि समस्त शिवलिंगों के लिये समर्पित नैवेद्य का भक्षण करना चान्द्रायणव्रत के समान फल देनेवाला कहा गया है ॥ १३-१४ ॥ यदि ब्रह्महत्या करनेवाला भी पवित्र होकर शिव का पवित्र निर्माल्य धारण करता है और उसे खाता है, उसके सम्पूर्ण पाप शीघ्र ही नष्ट हो जाते हैं ॥ १५ ॥

जहाँ चण्ड का अधिकार हो, वहाँ शिवलिंग के लिये समर्पित नैवेद्य का भक्षण मनुष्यों को नहीं करना चाहिये; जहाँ चण्ड का अधिकार न हो, वहाँ भक्तिपूर्वक भक्षण करना चाहिये ॥ १६ ॥ बाणलिंग, लौहलिंग, सिद्धलिंग, स्वयम्भूलिंग और अन्य समस्त प्रतिमाओं में चण्ड का अधिकार नहीं होता है ॥ १७ ॥ जो विधिपूर्वक शिवलिंग को स्नान कराकर उस स्नानजल को तीन बार पीता है, उसके समस्त पाप शीघ्र ही नष्ट हो जाते हैं ॥ १८ ॥ [चण्ड के द्वारा अधिकृत होने के कारण] अग्राह्य शिवनैवेद्य पत्र-पुष्प-फल और जल-यह सब शालग्रामशिला के स्पर्श से पवित्र हो जाता है ॥ १९ ॥

हे मुनीश्वरो ! शिवलिंग के ऊपर जो भी द्रव्य चढ़ाया जाता है, वह अग्राह्य है और जो लिंग के स्पर्श से बाहर है, उसे अत्यन्त पवित्र जानना चाहिये ॥ २० ॥ हे मुनिश्रेष्ठो ! इस प्रकार मैंने शिवनैवेद्य का निर्णय कह दिया । अब आप सब सावधानी से बिल्वपत्र के माहात्म्य को आदरपूर्वक सुनें ॥ २१ ॥

बिल्ववृक्ष तो महादेवस्वरूप है, देवों के द्वारा भी इसकी स्तुति की गयी है, अतः जिस किसी प्रकार से उसकी महिमा को कैसे जाना जा सकता है ॥ २२ ॥ संसार में जितने भी प्रसिद्ध तीर्थ हैं, वे सब तीर्थ बिल्व के मूल में निवास करते हैं ॥ २३ ॥ जो पुण्यात्मा बिल्ववृक्ष के मूल में लिंगरूपी अव्यय भगवान् महादेव की पूजा करता है, वह निश्चित रूप से शिव को प्राप्त कर लेता है ॥ २४ ॥ जो प्राणी बिल्ववृक्ष के मूल में शिवजी के मस्तक पर अभिषेक करता है, वह समस्त तीर्थों में स्नान करने का फल प्राप्तकर पृथ्वी पर पवित्र हो जाता है ॥ २५ ॥ इस बिल्ववृक्ष के मूल में बने हुए उत्तम थाले को जल से परिपूर्ण देखकर भगवान् शिव अत्यन्त प्रसन्न होते हैं ॥ २६ ॥ जो व्यक्ति गन्ध-पुष्पादि से बिल्ववृक्ष के मूल का पूजन करता है, वह शिवलोक को प्राप्त करता है और उसके सन्तान और सुख की अभिवृद्धि होती है ॥ २७ ॥

जो मनुष्य बिल्ववृक्ष के मूल में आदरपूर्वक दीपमाला का दान करता है, वह तत्त्वज्ञान से सम्पन्न होकर महादेव के सान्निध्य को प्राप्त हो जाता है ॥ २८ ॥ जो बिल्वशाखा को हाथ से पकड़कर उसके नवपल्लव को ग्रहण करके बिल्व की पूजा करता है, वह समस्त पापों से मुक्त हो जाता है ॥ २९ ॥ जो पुरुष भक्तिपूर्वक बिल्ववृक्ष के नीचे एक शिवभक्त को भोजन कराता है, उसे करोड़ों मनुष्यों को भोजन कराने का पुण्य प्राप्त होता है ॥ ३० ॥ जो बिल्ववृक्ष के नीचे दूध और घी से युक्त अन्न शिवभक्त को प्रदान करता है, वह दरिद्र नहीं रह जाता है ॥ ३१ ॥

हे ब्राह्मणो ! इस प्रकार मैंने सांगोपांग शिवलिंग के पूजन-विधान को कह दिया है । इसमें भी प्रवृत्तों और निवृत्तों के लिये दो भेद हैं ॥ ३२ ॥ प्रवृत्तिमार्गियों के लिये पीठपूजा इस भूतल पर सम्पूर्ण अभीष्ट वस्तुओं को देने वाली होती है । प्रवृत्त पुरुष को चाहिये कि सुपात्र गुरु आदि के द्वारा ही सारी पूजा सम्पन्न करे ॥ ३३ ॥ शिवलिंग का अभिषेक करने के पश्चात् अगहनी अन्न से नैवेद्य लगाना चाहिये । पूजा के अन्त में उस शिवलिंग को किसी शुद्ध पुट (डिब्बे)-में रख देना चाहिये अथवा किसी दूसरे शुद्ध घर में स्थापित कर देना चाहिये । निवृत्तिमार्गी उपासकों के लिये हाथ पर ही शिवपूजा का विधान है । उन्हें [भिक्षा आदि से प्राप्त] अपने भोजन को ही नैवेद्यरूप में अर्पित करना चाहिये । निवृत्तिमार्गियों के लिये परात्पर सूक्ष्म लिंग ही श्रेष्ठ बताया गया है । उन्हें चाहिये कि विभूति से ही पूजा करें और विभूति का ही नैवेद्य शिव को प्रदान करें । पूजा करने के पश्चात् उस विभूतिस्वरूप लिंग को सिर पर सदा धारण करना चाहिये ॥ ३४-३६ ॥

॥ इस प्रकार श्रीशिवमहापुराण के अन्तर्गत प्रथम विद्येश्वरसंहिता के साध्य-साधनखण्ड में शिवनैवेद्यवर्णन नामक बाईसवाँ अध्याय पूर्ण हुआ ॥ २२ ॥

 

 

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.