Print Friendly, PDF & Email

शिवमहापुराण – प्रथम विद्येश्वरसंहिता – अध्याय 09
श्री गणेशाय नमः
श्री साम्बसदाशिवाय नमः
नौवाँ अध्याय
महेश्वर का ब्रह्मा और विष्णु को अपने निष्कल और सकल स्वरूप का परिचय देते हुए लिंगपूजन का महत्त्व बताना

नन्दिकेश्वर बोले — वे दोनों ब्रह्मा और विष्णु भगवान् शंकर को प्रणाम करके दोनों हाथ जोड़कर उनके दायें-बायें भाग में चुपचाप खड़े हो गये । फिर उन्होंने वहाँ [साक्षात् प्रकट] पूजनीय महादेवजी को कुटुम्बसहित श्रेष्ठ आसन पर स्थापित करके पवित्र पुरुष-वस्तुओं द्वारा उनका पूजन किया ॥ १-२ ॥

शिवमहापुराण

दीर्घकाल तक अविकृतभाव से सुस्थित रहनेवाली वस्तुओं को पुरुषवस्तु कहते हैं और अल्पकाल तक ही टिकनेवाली वस्तुएँ प्राकृतवस्तु कहलाती हैं — इस तरह वस्तु के ये दो भेद जानने चाहिये । [किन पुरुष वस्तुओं से उन्होंने भगवान् शिव का पूजन किया, यह बताया जाता है — ] हार, नूपुर, केयूर, किरीट, मणिमय कुण्डल, यज्ञोपवीत, उत्तरीय वस्त्र, पुष्प-माला, रेशमी वस्त्र, हार, मुद्रिका (अँगूठी), पुष्प, ताम्बूल, कपूर, चन्दन एवं अगुरु का अनुलेप, धूप, दीप, श्वेतछत्र, व्यजन, ध्वजा, चँवर तथा अन्यान्य दिव्य उपहारों द्वारा उन दोनों ने अपने स्वामी महेश्वर का पूजन किया, जिन महेश्वर का वैभव वाणी और मन की पहुँच से परे था, जो केवल पशुपति परमात्मा के ही योग्य थे और जिन्हें पशु (बद्ध जीव) नहीं पा सकते थे ॥ ३-५१/२ ॥

हे सनत्कुमार ! स्वामी के योग्य जो-जो उत्तम वस्तुएँ थीं, उन सभी वस्तुओं का भगवान् शंकर ने भी प्रसन्नतापूर्वक यथोचित रूप से सभासदों के बीच वितरण कर दिया, जिससे यह श्रेष्ठ परम्परा बनी रहे कि प्राप्त पदार्थों का वितरण आश्रितों में करना चाहिये । उन वस्तुओं को ग्रहण करनेवाले सभासदों में वहाँ कोलाहल मच गया । इस प्रकार वहाँ पहले ही ब्रह्मा तथा विष्णु से पूजित हुए भक्तिवर्धक भगवान् शिव विनम्र उन दोनों देवताओं से हँसकर कहने लगे ॥ ६-८१/२ ॥

ईश्वर बोले — हे पुत्रो ! आज का दिन महान् है । इसमें तुम्हारे द्वारा जो आज मेरी पूजा हुई है, इससे मैं तुमलोगों पर बहुत प्रसन्न हूँ । इसी कारण यह दिन परम पवित्र और महान्-से-महान् होगा । आज की यह तिथि शिवरात्रि के नाम से विख्यात होकर मेरे लिये परम प्रिय होगी ॥ ९-१० ॥ इस समय जो मेरे लिंग (निष्कल–अंग-आकृति से रहित निराकार स्वरूप के प्रतीक) और वेर (सकलसाकाररूप के प्रतीक विग्रह) — की पूजा करेगा, वह पुरुष जगत् की सृष्टि और पालन आदि कार्य भी कर सकता है ॥ ११ ॥

जो शिवरात्रि को दिन-रात निराहार एवं जितेन्द्रिय रहकर अपनी शक्ति के अनुसार निष्कपट भाव से मेरी यथोचित पूजा करेगा, उसको मिलनेवाले फल का वर्णन सुनो । एक वर्ष तक निरन्तर मेरी पूजा करने पर जो फल मिलता है, वह सारा फल केवल शिवरात्रि को मेरा पूजन करने से मनुष्य तत्काल प्राप्त कर लेता है ॥ १२-१३ ॥ जैसे पूर्ण चन्द्रमा का उदय समुद्र की वृद्धि का अवसर है, उसी प्रकार यह शिवरात्रि तिथि मेरे धर्म की वृद्धि का समय है । इस तिथि में मेरी स्थापना आदि का मंगलमय उत्सव होना चाहिये ॥ १४ ॥

हे वत्सो ! पहले मैं जब ज्योतिर्मय स्तम्भरूप से प्रकट हुआ था, उस समय मार्गशीर्ष मास में आर्द्रा नक्षत्र था । अतः जो पुरुष मार्गशीर्ष मास में आर्द्रा नक्षत्र होने पर मुझ उमापति का दर्शन करता है अथवा मेरी मूर्ति या लिंग की ही झाँकी का दर्शन करता है, वह मेरे लिये कार्तिकेय से भी अधिक प्रिय है । उस शुभ दिन मेरे दर्शनमात्र से पूरा फल प्राप्त होता है । यदि [दर्शन के साथ-साथ] मेरा पूजन भी किया जाय तो उसका अधिक फल प्राप्त होता है, जिसका वाणी द्वारा वर्णन नहीं हो सकता ॥ १५-१७ ॥

इस रणभूमि में मैं लिंगरूप से प्रकट होकर बहुत बड़ा हो गया था । अतः उस लिंग के कारण यह भूतल लिंगस्थान के नाम से प्रसिद्ध हुआ । हे पुत्रो ! जगत् के लोग इसका दर्शन और पूजन कर सकें, इसके लिये यह अनादि और अनन्त ज्योतिःस्तम्भ अत्यन्त छोटा हो जायगा । यह लिंग सब प्रकार के भोगों को सुलभ करानेवाला और भोग तथा मोक्ष का एकमात्र साधन होगा । इसका दर्शन, स्पर्श तथा ध्यान प्राणियों को जन्म और मृत्यु से छुटकारा दिलानेवाला होगा ॥ १८-२० ॥ अग्नि के पहाड़-जैसा जो यह शिवलिंग यहाँ प्रकट हुआ है, इसके कारण यह स्थान अरुणाचल नाम से प्रसिद्ध होगा । यहाँ अनेक प्रकार के बड़े-बड़े तीर्थ प्रकट होंगे । इस स्थान में निवास करने या मरने से जीवों का मोक्ष हो जायगा ॥ २१-२२ ॥

रथोत्सवादि के आयोजन से यहाँ सर्वत्र अनेक लोग कल्याणकारी रूप से निवास करेंगे । इस स्थान पर किया गया दान, हवन तथा जप — यह सब करोड़ गुना फल देनेवाला होगा । यह क्षेत्र मेरे सभी क्षेत्रों में श्रेष्ठतम होगा । यहाँ मेरा स्मरण करनेमात्र से प्राणियों की मुक्ति हो जायगी । अतः यह परम रमणीय क्षेत्र अति महत्त्वपूर्ण है । यह सभी प्रकार के कल्याणों से पूर्ण, शुभ और सबको मुक्ति प्रदान करनेवाला होगा ॥ २३-२५ ॥ इस लिंग में मुझ लिंगेश्वर की अर्चना करके मनुष्य सालोक्य, सामीप्य, सारूप्य, सार्ष्टि और सायुज्य — इन पाँचों प्रकार की मुक्तियों का अधिकार प्राप्त कर लेगा । आपलोगों को भी शीघ्र ही सभी मनोवांछित फल प्राप्त होंगे ॥ २६-२७ ॥

नन्दिकेश्वर बोले — इस प्रकार विनम्र ब्रह्मा तथा विष्णु पर अनुग्रह करके भगवान् शंकर ने उनके जो सैन्यदल परस्पर युद्ध में मारे गये थे, उन्हें अपनी अमृतवर्षिणी शक्ति से जीवित कर दिया । उन दोनों ब्रह्मा और विष्णु की मूढ़ता और [पारस्परिक] वैर को मिटाने के लिये भगवान् शंकर उन दोनों से कहने लगे — ॥ २८-२९ ॥

मेरे दो रूप हैं — ‘सकल’ और ‘निष्कल’ । दूसरे किसी के ऐसे रूप नहीं हैं, अतः [मेरे अतिरिक्त] अन्य सब अनीश्वर हैं । हे पुत्रो ! पहले मैं स्तम्भरूप से प्रकट हुआ, फिर अपने साक्षात्-रूप से । ‘ब्रह्मभाव’ मेरा ‘निष्कल’ रूप और ‘महेश्वरभाव’ सकल रूप है । ये दोनों मेरे ही सिद्धरूप हैं; मेरे अतिरिक्त किसी दूसरे के नहीं हैं । इस कारण तुम दोनों का अथवा अन्य किसी का भी ईश्वरत्व कभी नहीं है ॥ ३०-३२ ॥

अज्ञान के कारण तुम दोनों को जो यह ईशत्व का आश्चर्यजनक अभिमान उत्पन्न हो गया था, उसे दूर करने के लिये ही मैं इस रणभूमि में प्रकट हुआ हूँ । उस अपने अभिमान को छोड़ दो और मुझ परमेश्वर में [अपनी] बुद्धि स्थिर करो । मेरे अनुग्रह से ही सभी लोकों में सब कुछ प्रकाशित होता है । इस गूढ़ ब्रह्मतत्त्व को तुम्हारे प्रति प्रेम होने के कारण ही मैं बता रहा हूँ ॥ ३३-३५ ॥ मैं ही परब्रह्म हूँ । कल (सगुण) और अकल (निर्गुण) — ये दोनों मेरे ही स्वरूप हैं । मेरा स्वरूप ब्रह्मरूप होने के कारण मैं ईश्वर भी हूँ । जीवों पर अनुग्रह आदि करना मेरा कार्य है । हे ब्रह्मा और केशव ! सबसे बृहत् और जगत् की वृद्धि करनेवाला होने के कारण मैं ‘ब्रह्म’ हूँ । हे पुत्रो ! सर्वत्र समरूप से स्थित और व्यापक होने से मैं ही सबका आत्मा हूँ ॥ ३६-३७ ॥

अन्य सभी जीव अनात्मरूप हैं; इसमें सन्देह नहीं है । सर्ग से लेकर अनुग्रह तक (आत्मा या ईश्वर से भिन्न) जो जगत्-सम्बन्धी पाँच कृत्य हैं, वे सदा मेरे ही हैं, मेरे अतिरिक्त दूसरे किसी के नहीं हैं; क्योंकि मैं ही सबका ईश्वर हूँ । पहले मेरी ब्रह्मरूपता का बोध कराने के लिये ‘निष्कल’ लिंग प्रकट हुआ था, फिर तुम दोनों को अज्ञात ईश्वरत्व का स्पष्ट साक्षात्कार कराने के लिये मैं साक्षात् जगदीश्वर ही ‘सकल’ रूप में तत्काल प्रकट हो गया । अतः मुझमें जो ईशत्व है, उसे ही मेरा सकलरूप जानना चाहिये तथा जो यह मेरा निष्कल स्तम्भ है, वह मेरे ब्रह्मस्वरूप का बोध करानेवाला है । हे पुत्रो ! लिंगलक्षणयुक्त होने के कारण यह मेरा ही लिंग (चिह्न) है । तुम दोनों को प्रतिदिन यहाँ रहकर इसका पूजन करना चाहिये । यह मेरा ही स्वरूप है और मेरे सामीप्य की प्राप्ति करानेवाला है । लिंग और लिंगी में नित्य अभेद होने के कारण मेरे इस लिंग का महान् पुरुषों को भी पूजन करना चाहिये ॥ ३८-४३ ॥

हे वत्सो ! जहाँ-जहाँ जिस किसी ने मेरे लिंग को स्थापित कर लिया, वहाँ मैं अप्रतिष्ठित होने पर भी प्रतिष्ठित हो जाता हूँ ॥ ४४ ॥ मेरे एक लिंग की स्थापना करने का फल मेरी समानता की प्राप्ति बताया गया है । एक के बाद दूसरे शिवलिंग की भी स्थापना कर दी गयी, तब फलरूप से मेरे साथ एकत्व (सायुज्य मोक्ष)-रूप फल प्राप्त होता है ॥ ४५ ॥

प्रधानतया शिवलिंग की ही स्थापना करनी चाहिये । मूर्ति की स्थापना उसकी अपेक्षा गौण है । शिवलिंग के अभाव में सब ओर से मूर्तियुक्त होने पर भी वह स्थान क्षेत्र नहीं कहलाता ॥ ४६ ॥

॥ इस प्रकार श्रीशिवमहापुराण के अन्तर्गत प्रथम विद्येश्वरसंहिता में शिव के महेश्वरत्व का वर्णन नामक नौवाँ अध्याय पूर्ण हुआ ॥ ९ ॥

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.