Print Friendly, PDF & Email

श्रीमद्भागवतमहापुराण – एकादशः स्कन्ध – अध्याय ३१
ॐ श्रीपरमात्मने नमः
ॐ श्रीगणेशाय नमः
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
इकतीसवाँ अध्याय
श्रीभगवान् का स्वधामगमन

श्रीशुकदेवजी कहते हैं — परीक्षित् ! दारुक के चले जाने पर ब्रह्माजी, शिव-पार्वती, इन्द्रादि लोकपाल, मरीचि आदि प्रजापति, बड़े-बड़े ऋषि-मुनि, पितर-सिद्ध, गन्धर्वविद्याधर, नाग-चारण, यक्ष-राक्षस, किन्नर-अप्सराएँ तथा गरुड़लोक के विभिन्न पक्षी अथवा मैत्रेय आदि ब्राह्मण भगवान् श्रीकृष्ण के परमधाम-प्रस्थान को देखने के लिये बड़ी उत्सुकता से वहाँ आये । वे सभी भगवान् श्रीकृष्ण के जन्म और लीलाओं का गान अथवा वर्णन कर रहे थे । उनके विमान से सारा आकाश भर-सा गया था । वे बड़ी भक्ति से भगवान् पर पुष्पों की वर्षा कर रहे थे ॥ १-४ ।। सर्वव्यापक भगवान् श्रीकृष्ण ने ब्रह्माजी और अपने विभूतिस्वरूप देवताओं को देखकर अपने आत्मा को स्वरूप में स्थित किया और कमल के समान नेत्र बंद कर लिये ॥ ५ ॥ भगवान् का श्रीविग्रह उपासकों के ध्यान और धारणा का मङ्गलमय आधार और समस्त लोकों के लिये परम रमणीय आश्रय है; इसलिये उन्होंने (योगियों के समान) अग्निदेवतासम्बन्धी योगधारण के द्वारा उसको जलाया नहीं, सशरीर अपने धाम में चले गये ॥ ६ ॥

उस समय स्वर्ग में नगारे बजने लगे और आकाश से पुष्पों की वर्षा होने लगी । परीक्षित् ! भगवान् श्रीकृष्ण के पीछे-पीछे इस लोक से सत्य, धर्म, धैर्य, कीर्ति और श्रीदेवी भी चली गयीं ।। ७ ।। भगवान् श्रीकृष्ण की गति मन और वाणी के परे हैं; तभी तो जब भगवान् अपने धाम में प्रवेश करने लगे, तब ब्रह्मादि देवता भी उन्हें न देख सके । इस घटना से उन्हें बड़ा ही विस्मय हुआ ॥ ८ ॥ जैसे बिजली मेघमण्डल को छोड़कर जब आकाश में प्रवेश करती है, तब मनुष्य उसकी चाल नहीं देख पाते, वैसे ही बड़े-बड़े देवता भी श्रीकृष्ण की गति के सम्बन्ध में कुछ न जान सके ॥ ९ ॥ ब्रह्माजी और भगवान् शङ्कर आदि देवता भगवान् की यह परमयोगमयी गति देखकर बड़े विस्मय के साथ उसकी प्रशंसा करते अपने-अपने लोक में चले गये ॥ १० ॥

परीक्षित् ! जैसे नट अनेकों प्रकार के स्वाँग बनाता है, परन्तु रहता हैं उन सबसे निर्लेप, वैसे ही भगवान् का मनुष्यों के समान जन्म लेना, लीला करना और फिर उसे संवरण कर लेना उनकी माया का विलासमात्र है — अभिनयमात्र है । वे स्वयं ही इस जगत् की सृष्टि करके इसमें प्रवेश करके विहार करते हैं और अन्त में संहार-लीला करके अपने अनन्त महिमामय स्वरूप में ही स्थित हो जाते हैं ॥ ११ ॥ सान्दीपनि गुरु का पुत्र यमपुरी चला गया था, परन्तु उसे वे मनुष्य-शरीर के साथ लौटा लाये । तुम्हारा ही शरीर ब्रह्मास्त्र से जल चुका था; परन्तु उन्होंने तुम्हें जीवित कर दिया । वास्तव में उनकी शरणागतवत्सलता ऐसी ही हैं । और तो क्या कहें, उन्होंने कालों के महाकाल भगवान् शङ्कर को भी युद्ध में जीत लिया और अत्यन्त अपराधी — अपने शरीर पर ही प्रहार करनेवाले व्याध भी सदेह स्वर्ग भेज दिया । प्रिय परीक्षित् ! ऐसी स्थिति में क्या वे अपने शरीर को सदा के लिये यहाँ नहीं रख सकते थे ? अवश्य ही रख सकते थे ।। १२ ।। यद्यपि भगवान् श्रीकृष्ण सम्पूर्ण जगत् को स्थिति, उत्पत्ति और संहार के निरपेक्ष कारण हैं और सम्पूर्ण शक्तियों के धारण करनेवाले हैं तथापि उन्होंने अपने शरीर को इस संसार में बचा रखने की इच्छा नहीं की । इससे उन्होंने यह दिखाया कि इस मनुष्य-शरीर से मुझे क्या प्रयोजन है ? आत्मनिष्ठ पुरुषों के लिये यही आदर्श हैं कि वे शरीर रखने की चेष्टा न करें ।। १३ ॥ जो पुरुष प्रातःकाल उठकर भगवान् श्रीकृष्ण के परमधामगमन की इस कथा का एकाग्रता और भक्ति के साथ कीर्तन करेगा, उसे भगवान् का वही सर्वश्रेष्ठ परमपद प्राप्त होगा ।। १४ ॥

इधर दारुक भगवान् श्रीकृष्ण के विरह से व्याकुल होकर द्वारका आया और वसुदेवजी तथा उग्रसेन के चरणों पर गिर-गिरकर उन्हें आँसुओं से भिगोने लगा ॥ १५ ॥ परीक्षित् ! उसने अपने को सँभालकर यदुवंशियों के विनाश का पूरा-पूरा विवरण कह सुनाया । उसे सुनकर लोग बहुत ही दुखी हुए और मारे शोक के मूर्च्छित हो गये ॥ १६ ।। भगवान् श्रीकृष्ण के वियोग से विह्वल होकर ये लोग सिर पीटते हुए वहाँ तुरंत पहुँचे, जहाँ उनके भाई-बन्धु निष्प्राण होकर पड़े हुए थे ।। १७ ॥ देवकी, रोहिणी और वसुदेवजी अपने प्यारे पुत्र श्रीकृष्ण और बलराम को न देखकर शोक की पीड़ा से बेहोश हो गये ।। १८ ॥ उन्होंने भगवद्विरह से व्याकुल होकर वहीं अपने प्राण छोड़ दिये । स्त्रियों ने अपने-अपने पतियों के शव पहचानकर उन्हें हृदय से लगा लिया और उनके साथ चिता पर बैठकर भस्म हो गयीं ॥ १९ ॥ बलरामजी की पत्नियाँ उनके शरीर को, वसुदेवजी की पत्नियाँ उनके शव को और भगवान् की पुत्रवधुएँ अपने पतियों की लाशों को लेकर अग्नि में प्रवेश कर गयीं । भगवान् श्रीकृष्ण की रुक्मिणी आदि पटरानियाँ उनके ध्यान में मग्न होकर अग्नि में प्रविष्ट हो गयीं ॥ २० ।।

परीक्षित् ! अर्जुन अपने प्रियतम और सखा भगवान् श्रीकृष्ण के विरह से पहले तो अत्यन्त व्याकुल हो गये, फिर उन्होंने उन्हीं के गीतोक्त सदुपदेश का स्मरण करके अपने मन को सँभाला ।। २१ ।। यदुवंश के मृत व्यक्तियों में जिनको कोई पिण्ड देनेवाला न था, उनका श्राद्ध अर्जुन ने क्रमशः विधिपूर्वक करवाया ।। २२ ॥ महाराज ! भगवान् के न रहने पर समुद्र ने एकमात्र भगवान् श्रीकृष्ण का निवासस्थान छोड़कर एक ही क्षण में सारी द्वारका डुबो दी ।। २३ ॥ भगवान् श्रीकृष्ण वहाँ अब भी सदा-सर्वदा निवास करते हैं । वह स्थान स्मरणमात्र से ही सारे पाप-तापों का नाश करनेवाला और सर्वमङ्गलों का भी मङ्गल बनानेवाला हैं ।। २४ ॥ प्रिय परीक्षित् ! पिण्डदान के अनन्तर बची-खुची स्त्रियों, बच्चों और बूढ़ों को लेकर अर्जुन इन्द्रप्रस्थ आये । वहाँ सबको यथायोग्य बसाकर अनिरुद्ध के पुत्र वज्र का राज्याभिषेक कर दिया ॥ २५ ॥ राजन् ! तुम्हारे दादा युधिष्ठिर आदि पाण्डवों को अर्जुन से ही यह बात मालूम हुई कि यदुवंशियों का संहार हो गया हैं । तब उन्होंने अपने वंशधर तुम्हें राज्यपद पर अभिषिक्त करके हिमालय की वीरयात्रा की ॥ २६ ॥

मैंने तुम्हें देवताओं के भी आराध्यदेव भगवान् श्रीकृष्ण की जन्मलीला और कर्मलीला सुनायी । जो मनुष्य श्रद्धा के साथ इसका कीर्तन करता है, वह समस्त पापों से मुक्त हो जाता हैं ॥ २७ ।। परीक्षित् ! जो मनुष्य इस प्रकार भक्त-भयहारी निखिल सौन्दर्य-माधुर्य-निधि श्रीकृष्णचन्द्र के अवतार सम्बन्धी रुचिर पराक्रम और इस श्रीमद्भागवत महापुराण में तथा दूसरे पुराणों में वर्णित परमानन्दमयी बाललीला, कैशोरलीला आदि का सङ्कीर्तन करता है, वह परमहंस मुनीन्द्रों के अन्तिम प्राप्तव्य श्रीकृष्ण के चरणों में पराभक्ति प्राप्त करता है ॥ २८ ॥

॥ श्रीमद्भागवते महापुराणे पारमहंस्यां संहितायां एकादशस्कन्धे एकत्रिंशोऽध्यायः ॥
॥ हरिः ॐ तत्सत् श्रीकृष्णार्पणमस्तु ॥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.