Print Friendly, PDF & Email

श्रीमद्भागवतमहापुराण – नवम स्कन्ध – अध्याय १०
ॐ श्रीपरमात्मने नमः
ॐ श्रीगणेशाय नमः
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
दसवाँ अध्याय
भगवान् श्रीराम की लीलाओं का वर्णन

श्रीशुकदेवजी कहते हैं — परीक्षित् ! खट्वाङ्ग के पुत्र दीर्घबाहु और दीर्घबाहु के परम यशस्वी पुत्र रघु हुए । रघु के अज़ और अज के पुत्र महाराज दशरथ हुए ॥ १ ॥ देवताओं की प्रार्थना से साक्षात् परब्रह्म परमात्मा भगवान् श्रीहरि ही अपने अंशांश से चार रूप धारण करके राजा दशरथ के पुत्र हुए । उनके नाम थे — राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न ॥ २ ॥

परीक्षित् ! सीतापति भगवान् श्रीराम का चरित्र तो तत्त्वदर्शी ऋषियों ने बहुत कुछ वर्णन किया है और तुमने अनेक बार उसे सुना भी है ॥ ३ ॥ भगवान् श्रीराम ने अपने पिता राजा दशरथ के सत्य की रक्षा के लिये राजपाट छोड़ दिया और वे वन-वन में फिरते रहे । उनके चरणकमल इतने सुकुमार थे कि परम सुकुमारी श्रीजानकीजी के करकमलों का स्पर्श भी उनसे सहन नहीं होता था । वे ही चरण जब वन में चलते-चलते थक जाते, तब हनूमान् और लक्ष्मण उन्हें दबा दबाकर उनकी थकावट मिटाते । शूर्पणखा की नाक-कान काटकर विरूप कर देने के कारण उन्हें अपनी प्रियतमा श्रीजानकीजी का वियोग भी सहना पड़ा । इस वियोग के कारण क्रोधवश उनकी भौहे तन गयी, जिन्हें देखकर समुद्र तक भयभीत हो गया । इसके बाद उन्होंने समुद्र पर पुल बाँधा और लङ्का में जाकर दुष्ट राक्षसों के जंगल को दावाग्नि के समान दग्ध कर दिया । वे कोसलनरेश हमारी रक्षा करें ॥ ४ ॥

भगवान् श्रीराम ने विश्वामित्र के यज्ञ में लक्ष्मण के सामने ही मारीच आदि राक्षसों को मार डाला । वे सब बड़े-बड़े राक्षसों की गिनती में थे ॥ ५ ॥ परीक्षित् ! जनकपुर में सीताजी का स्वयंवर हो रहा था । संसार के चुने हुए वीरों की सभा में भगवान् शङ्कर का वह भयङ्कर धनुष रक्खा हुआ था । वह इतना भारी था कि तीन सौ वीर बड़ी कठिनाई से उसे स्वयंवरसभा में ला सके थे । भगवान् श्रीराम ने उस धनुष को बात-की-बात में उठाकर उस पर डोरी चढ़ा दी और खींचकर बीचो-बीच से उसके दो टुकड़े कर दिये ठीक वैसे ही, जैसे हाथी का बच्चा खेलते-खेलते ईख तोड़ डाले ॥ ६ ॥ भगवान् ने जिन्हें अपने वक्षःस्थल पर स्थान देकर सम्मानित किया है, वे श्रीलक्ष्मीजी ही सीता के नाम से जनकपुर में अवतीर्ण हुई थीं । वे गुण, शील, अवस्था, शरीर की गठन और सौन्दर्य में सर्वथा भगवान् श्रीराम के अनुरूप थीं । भगवान् ने धनुष तोड़कर उन्हें प्राप्त कर लिया । अयोध्या को लौटते समय मार्ग में उन परशुरामजी से भेंट हुई, जिन्होंने इक्कीस बार पृथ्वी को राजवंश के बीज से भी रहित कर दिया था । भगवान् ने उनके बढ़े हुए गर्व को नष्ट कर दिया ॥ ७ ॥

इसके बाद पिता के वचन को सत्य करने के लिये उन्होंने वनवास स्वीकार किया । यद्यपि महाराज दशरथ ने अपनी पत्नी के अधीन होकर ही उसे वैसा वचन दिया था फिर भी वे सत्य के बन्धन में बँध गये थे । इसलिये भगवान् ने अपने पिता की आज्ञा शिरोधार्य कर राज्य, लक्ष्मी, प्रेमी, हितैषी, मित्र और महल को वैसे ही छोड़कर अपनी पत्नी के साथ यात्रा की, जैसे मुक्तसंग योगी प्राणों को छोड़ देता है ॥ ८ ॥ वन में पहुँचकर भगवान् ने राक्षसराज रावण की बहिन शूर्पणखा को विरूप कर दिया । क्योंकि उसकी बुद्धि बहुत ही कलुषित, कामवासना के कारण अशुद्ध थी । उसके पक्षपाती खर, दूषण, त्रिशिरा आदि प्रधान-प्रधान भाइयों को–जो संख्या में चौदह हजार थे — हाथ में महान् धनुष लेकर भगवान् श्रीराम ने नष्ट कर डाला, और अनेक प्रकार की कठिनाइयों से परिपूर्ण वन में वे इधर-उधर विचरते हुए निवास करते रहे ॥ ९ ॥ परीक्षित् ! जब रावण ने सीताजी के रूप, गुण, सौन्दर्य आदि की बात सुनी तो उसका हृदय कामवासना से आतुर हो गया । उसने अद्भुत हरिन के वेष में मारीच को उनकी पर्णकुटी के पास भेजा । वह धीरे-धीरे भगवान् को वहाँ से दूर ले गया । अन्त में भगवान् ने अपने बाण से उसे बात-की-बात में वैसे ही मार डाला, जैसे दक्षप्रजापति को वीरभद्र ने मारा था ॥ १० ॥

जब भगवान् श्रीराम जंगल में दूर निकल गये, तब (लक्ष्मण की अनुपस्थिति में) नीच राक्षस रावण ने भेड़िये के समान विदेहनन्दिनी सुकुमारी श्रीसीताजी को हर लिया । तदनन्तर वे अपनी प्राणप्रिया सीताजी से बिछुड़कर अपने भाई लक्ष्मण के साथ वन-वन में दीन की भाँति घूमने लगे । और इस प्रकार उन्होंने यह शिक्षा दी कि ‘जो स्त्रियों में आसक्ति रखते हैं, उनकी यही गति होती है ॥ ११ ॥ इसके बाद भगवान् ने उस जटायु का दाह-संस्कार किया, जिसके सारे कर्मबन्धन भगवत्सेवारूप कर्म से पहले ही भस्म हो चुके थे । फिर भगवान् ने कबन्ध का संहार किया और इसके अनन्तर सुग्रीव आदि वानरों से मित्रता करके बालि का वध किया, तदनन्तर वानरों के द्वारा अपनी प्राणप्रिया का पता लगवाया । ब्रह्मा और शङ्कर जिनके चरणों की वन्दना करते हैं, वे भगवान् श्रीराम मनुष्य की-सी लीला करते हुए बंदरों की सेना के साथ समुद्र-तट पर पहुंचे ॥ १२ ॥

(वहाँ उपवास और प्रार्थना से जब समुद्र पर कोई प्रभाव न पड़ा तब) भगवान् ने क्रोध की लीला करते हुए अपनी उग्र एवं टेढ़ी नजर समुद्र पर डालीं । उसी समय समुद्र के बड़े-बड़े मगर और कच्छ खलबला उठे । डर जाने के कारण समुद्र की सारी गर्जना शान्त हो गयी । तब समुद्र शरीरधारी बनकर और अपने सिर पर बहुत-सी भेंट लेकर भगवान् के चरणकमलों की शरण में आया और इस प्रकार कहने लगा ॥ १३ ॥ ‘अनन्त ! हम मूर्ख हैं; इसलिये आपके वास्तविक स्वरूप को नहीं जानते । जानें भी कैसे ? आप समस्त जगत् के एकमात्र स्वामी, आदिकारण एवं जगत् के समस्त परिवर्तनों में एकरस रहनेवाले हैं । आप समस्त गुणों के स्वामी हैं । इसलिये जब आप सत्वगुण को स्वीकार कर लेते हैं तब देवताओं की, रजोगुण को स्वीकार कर लेते हैं तब प्रजापतियों की और तमोगुण को स्वीकार कर लेते हैं । तब आपके क्रोध से रुद्रगण की उत्पत्ति होती है ॥ १४ ॥ वीरशिरोमणे ! आप अपनी इच्छा के अनुसार मुझे पार कर जाइये और त्रिलोकी को रुलानेवाले विश्रवा के कुपूत रावण को मारकर अपनी पत्नी को फिर से प्राप्त कीजिये । परन्तु आपसे मेरी एक प्रार्थना है । आप यहाँ मुझपर एक पुल बाँध दीजिये । इससे आपके यश का विस्तार होगा और आगे चलकर जब बड़े-बड़े नरपति दिग्विजय करते हुए यहाँ आयेंगे, तब वे आपके यश का गान करेंगे ॥ १५ ॥

भगवान् श्रीरामजी ने अनेकानेक पर्वतों के शिखरों से समुद्र पर पुल बाँधा । जब बड़े-बड़े बन्दर अपने हाथों से पर्वत उठा-उठाकर लाते थे, तब उनके वृक्ष और बड़ी-बड़ी चट्टानें थर-थर काँपने लगती थीं । इसके बाद विभीषण की सलाह से भगवान् ने सुग्रीव, नील, हनूमान् आदि प्रमुख वीरों और वानरीसेना के साथ लङ्का में प्रवेश किया । वह तो श्रीहनूमान् जी के द्वारा पहले ही जलायी जा चुकी थी ॥ १६ ॥ उस समय वानरराज की सेना ने लङ्का के सैर करने और खेलने के स्थान, अन्न के गोदाम, खजाने, दरवाजे, फाटक, सभाभवन, छज्जे और पक्षियों के रहने के स्थान तक को घेर लिया । उन्होंने वहाँ की वेदी, ध्वजाएँ, सोने के कलश और चौराहे तोड़-फोड़ डाले । उस समय लङ्का ऐसी मालूम पड़ रही थीं, जैसे झुंड-के-झुंड हाथियों ने किसी नदी को मथ डाला हो ॥ १७ ॥

यह देखकर राक्षसराज रावण ने निकुम्भ, कुम्भ, धूम्राक्ष, दुर्मुख, सुरान्तक, नरान्तक, प्रहस्त, अतिकाय, विकम्पन आदि अपने सब अनुचरों, पुत्र मेघनाद और अन्त में भाई कुम्भकर्ण को भी युद्ध करने के लिये भेजा ॥ १८ ॥ राक्षसों की वह विशाल सेना तलवार, त्रिशूल, धनुष, प्रास, ऋष्टि, शक्ति, बाण, भाले, खड्ग आदि शस्त्र-अस्त्र से सुरक्षित और अत्यन्त दुर्गम थी । भगवान् श्रीराम ने सुग्रीव, लक्ष्मण, हनूमान्, गन्ध-मादन, नील, अङ्गद, जाम्बवान् और पनस आदि वीरों को अपने साथ लेकर राक्षसों की सेना का सामना किया ॥ १९ ॥ रघुवंशशिरोमणि भगवान् श्रीराम के अङ्गद आदि सब सेनापति राक्षसों की चतुरङ्गिणी सेना-हाथी, रथ, घुड़सवार और पैदल के साथ द्वन्द्व-युद्ध की रीति से भिड़ गये और राक्षसों को वृक्ष, पर्वतशिखर, गदा और बाणों से मारने लगे । उनका मारा जाना तो स्वाभाविक ही था । क्योंकि वे उसी रावण के अनुचर थे, जिसका मङ्गल श्रीसीताजी को स्पर्श करने के कारण पहले ही नष्ट हो चुका था ॥ २० ॥

जब राक्षसराज रावण ने देखा कि मेरी सेना का तो नाश हुआ जा रहा है, तब वह क्रोध में भरकर पुष्पक विमान पर आरूढ़ हो भगवान् श्रीराम के सामने आया । उस समय इन्द्र का सारथि मातलि बड़ा ही तेजस्वी दिव्य रथ लेकर आया और उस पर भगवान् श्रीरामजी विराजमान हुए । रावण अपने तीखे बाणों से उन पर प्रहार करने लगा ॥ २१ ॥ भगवान् श्रीरामजी ने रावण से कहा — ‘नीच राक्षस ! तुम कुत्ते की तरह हमारी अनुपस्थिति में हमारी प्राणप्रिया पत्नी को हर लाये । तुमने दुष्टता की हद कर दी । तुम्हारे-जैसा निर्लज्ज तथा निन्दनीय और कौन होगा । जैसे काल को कोई टाल नहीं सकता — कर्तापन के अभिमानी को वह फल दिये बिना रह नहीं सकता, वैसे ही आज मैं तुम्हें तुम्हारी करनी का फल चखाता हूँ ॥ २२ ॥ इस प्रकार रावण को फटकारते हुए भगवान् श्रीराम ने अपने धनुष पर चढ़ाया हुआ बाण उस पर छोड़ा । उस बाण ने वज्र के समान उसके हृदय को विदीर्ण कर दिया । वह अपने दसों मुखों से खून उगलता हुआ विमान से गिर पड़ा — ठीक वैसे ही, जैसे पुण्यात्मा लोग भोग समाप्त होने पर स्वर्ग से गिर पड़ते हैं । उस समय उसके पुरजन-परिजन ‘हाय-हाय’ करके चिल्लाने लगे ॥ २३ ॥

तदनन्तर हजारों राक्षसियाँ मन्दोदरी के साथ रोती हुई लङ्का से निकल पड़ी और रणभूमि में आयी ॥ २४ ॥ उन्होंने देखा कि उनके स्वजन-सम्बन्धी लक्ष्मणजी के बाणों से छिन्न-भिन्न होकर पड़े हुए हैं । वे अपने हाथों अपनी छाती पीट-पीटकर और अपने सगे-सम्बन्धियों को हृदय से लगा-लगाकर ऊँचे स्वर से विलाप करने लगीं ॥ २५ ॥ हाय-हाय ! स्वामी ! आज हम सब बेमौत मारी गयीं । एक दिन वह था, जब आपके भय से समस्त लोकों में त्राहि-त्राहि मच जाती थी । आज वह दिन आ पहुँचा कि आपके न रहने से हमारे शत्रु लङ्का की दुर्दशा कर रहे हैं और यह प्रश्न उठ रहा है कि अब लङ्का किसके अधीन रहेगी ॥ २६ ॥ आप सब प्रकार से सम्पन्न थे, किसी भी बात की कमी न थी । परन्तु आप काम के वश हो गये और यह नहीं सोचा कि सीताजी कितनी तेजस्विनी हैं और उनका कितना प्रभाव हैं । आपकी यही भूल आपकी इस दुर्दशा का कारण बन गयी ॥ २७ ॥ कभी आपके कामों से हम सब और समस्त राक्षसवंश आनन्दित होता था और आज हम सब तथा यह सारी लङ्का नगरी विधवा हो गयी । आपका वह शरीर, जिसके लिये आपने सब कुछ कर डाला, आज गीधों का आहार बन रहा है और अपने आत्मा को आपने नरक का अधिकारी बना डाला । यह सब आपकी ही नासमझी और कामुकता का फल है ॥ २८ ॥

श्रीशुकदेवजी कहते हैं — परीक्षित् ! कोसलाधीश भगवान् श्रीरामचन्द्रजी की आज्ञा से विभीषण ने अपने स्वजन-सम्बन्धियों का पितृयज्ञ की विधि से शास्त्र के अनुसार अन्त्येष्टिकर्म किया ॥ २९ ॥ इसके बाद भगवान् श्रीराम ने अशोकवाटिका के आश्रम में अशोक वृक्ष के नीचे बैठी हुई श्रीसीताजी को देखा । वे उन्हीं के विरह की व्याधि से पीड़ित एवं अत्यन्त दुर्बल हो रही थीं ॥ ३० ॥ अपनी प्राणप्रिया अर्धांगिनी श्रीसीताजी को अत्यन्त दीन अवस्था में देखकर श्रीराम का हृदय प्रेम और कृपा से भर आया । इधर भगवान् का दर्शन पाकर सीताजी का हृदय प्रेम और आनन्द से परिपूर्ण हो गया, उनको मुखकमल खिल उठा ॥ ३१ ॥ भगवान् ने विभीषण को राक्षसों का स्वामित्व, लङ्कापुरी का राज्य और एक कल्प की आयु दी और इसके बाद पहले सीताजी को विमान पर बैठाकर अपने दोनों भाई लक्ष्मण तथा सुग्रीव एवं सेवक हनूमान् जी के साथ स्वयं भी विमान पर सवार हुए । इस प्रकार चौदह वर्ष का व्रत पूरा हो जाने पर उन्होंने अपने नगर की यात्रा की । उस समय मार्ग में ब्रह्मा आदि लोकपालगण उन पर बड़े प्रेम से पुष्पों की वर्षा कर रहे थे ॥ ३२-३३ ॥

इधर तो ब्रह्मा आदि बड़े आनन्द से भगवान् की लीलाओं का गान कर रहे थे और उधर जब भगवान् को यह मालूम हुआ कि भरतजी केवल गोमूत्र में पकाया हुआ जौ का दलिया खाते हैं, वल्कल पहनते हैं और पृथ्वी पर डाभ बिछाकर सोते हैं एवं उन्होंने जटाएँ बढ़ा रक्खी हैं, तब वे बहुत दुखी हुए । उनकी दशा का स्मरण कर परम करुणाशील भगवान् का हृदय भर आया । जब भरत को मालूम हुआ कि मेरे बड़े भाई भगवान् श्रीरामजी आ रहे हैं, तब वे पुरवासी, मन्त्री और पुरोहितों को साथ लेकर एवं भगवान् की पादुकाएँ सिर पर रखकर उनकी अगवानी के लिये चले । जब भरतजी अपने रहने के स्थान नन्दिग्राम से चले, तब लोग उनके साथ-साथ मङ्गलगान करते, बाजे बजाते चलने लगे । वेदवादी ब्राह्मण बार-बार वेदमन्त्रों का उच्चारण करने लगे और उसकी ध्वनि चारों ओर गूंजने लगी । सुनहरी कामदार पताकाएँ फहराने लगीं । सोने से मढ़े हुए तथा रंग-बिरंगी ध्वजाओं से सजे हुए रथ, सुनहले साज से जाये हुए सुन्दर घोड़े तथा सोने के कवच पहने हुए सैनिक उनके साथ-साथ चलने लगे । सेठ-साहूकार, श्रेष्ठ वाराङ्गनाएँ, पैदल चलनेवाले सेवक और महाराजाओं के योग्य छोटी-बड़ी सभी वस्तुएँ उनके साथ चल रही थीं । भगवान् को देखते ही प्रेम के उद्रेक से भरतजी का हृदय गद्गद हो गया, नेत्रों में आँसू छलक आये, ये भगवान् के चरणों पर गिर पड़े ॥ ३४-३९ ॥

उन्होंने प्रभु के सामने उनकी पादुकाएँ रख दी और हाथ जोड़कर खड़े हो गये । नेत्रों से आँसू की धारा बहती जा रही थी । भगवान् ने अपने दोनों हाथों से पकड़कर बहुत देर तक भरतजी को हृदय से लगाये रक्खा । भगवान् के नेत्रजल से भरतजी का स्नान हो गया ॥ ४० ॥ इसके बाद सीताजी और लक्ष्मणजी के साथ भगवान् श्रीरामजी ने ब्राह्मण और पूजनीय गुरुजनों को नमस्कार किया तथा सारी जाने बड़े प्रेम से सिर झुकाकर भगवान् के चरणों में प्रणाम किया ॥ ४१ ॥ उस समय उत्तर कोसल देश की रहनेवाली समस्त प्रजा अपने स्वामी भगवान् को बहुत दिनों के बाद आये देख अपने दुपट्टे हिला-हिलाकर पुष्पों की वर्षा करती हुई आनन्द से नाचने लगी ॥ ४२ ॥ भरतजी ने भगवान् की पादुकाएँ लीं, विभीषण ने श्रेष्ठ चँवर, सुग्रीव ने पंखा और श्रीहनुमान् जी ने श्वेत छत्र ग्रहण किया ॥ ४३ ॥ परीक्षित् ! शत्रुघ्नजी ने धनुष और तरकस, सीताजी ने तीर्थों के जल से भरा कमण्डलु, अङ्गद ने सोने का खड्ग और जाम्बवान् ने ढाल ले ली ॥ ४४ ॥ इन लोगों के साथ भगवान् पुष्पक विमान पर विराजमान हो गये, चारों तरफ यथास्थान स्त्रियाँ बैठ गयीं, वन्दीजन स्तुति करने लगे । उस समय पुष्पक विमान पर भगवान् श्रीराम की ऐसी शोभा हुई, मानो ग्रहों के साथ चन्द्रमा उदय हो रहे हों ॥ ४५ ॥

इस प्रकार भगवान् ने भाइयों का अभिनन्दन स्वीकार करके उनके साथ अयोध्यापुरी में प्रवेश किया । उस समय वह पुरी आनन्दोत्सव से परिपूर्ण हो रही थी । राजमहल में प्रवेश करके उन्होंने अपनी माता कौसल्या, अन्य माताओं, गुरुजनों, बराबर के मित्रों और छोटों का यथायोग्य सम्मान किया तथा उनके द्वारा किया हुआ सम्मान स्वीकार किया । श्रीसीताजी और लक्ष्मणजी ने भी भगवान् के साथ-साथ सबके प्रति यथायोग्य व्यवहार किया ॥ ४६-४७ ॥ उस समय जैसे मृतक शरीर में प्राणों का सञ्चार हो जाय, वैसे ही माताएँ अपने पुत्र के आगमन से हर्षित हो उठीं । उन्होंने उनको अपनी गोद में बैठा लिया और अपने आँसुओं से उनका अभिषेक किया । उस समय उनका सारा शोक मिट गया ॥ ४८ ॥ इसके बाद वसिष्ठजी ने दूसरे गुरुजनों के साथ विधिपूर्वक भगवान् की जटा उतरवायी और बृहस्पति ने जैसे इन्द्र का अभिषेक किया था, वैसे ही चारों समुद्रों के जल आदि से उनका अभिषेक किया ॥ ४९ ॥ इस प्रकार सिर से स्नान करके भगवान् श्रीराम ने सुन्दर वस्त्र, पुष्पमालाएँ और अलङ्कार धारण किये । सभी भाइयों और श्रीजानकीजी ने भी सुन्दर-सुन्दर वस्त्र और अलङ्कार धारण किये । उनके साथ भगवान् श्रीरामजी अत्यन्त शोभायमान हुए ॥ ५० ॥

भरतजी ने उनके चरणों में गिरकर उन्हें प्रसन्न किया और उनके आग्रह करने पर भगवान् श्रीराम ने राजसिंहासन स्वीकार किया । इसके बाद वे अपने-अपने धर्म में तत्पर तथा वर्णाश्रम के आचार को निभानेवाली प्रजा का पिता के समान पालन करने लगे । उनकी प्रजा भी उन्हें अपना पिता ही मानती थी ॥ ५१ ॥ परीक्षित् ! जब समस्त प्राणियों को सुख देनेवाले परम धर्मज्ञ भगवान् श्रीराम राजा हुए तब था तो त्रेतायुग, परन्तु मालूम होता था मानो सत्ययुग ही है ॥ ५२ ॥ परीक्षित् ! उस समय वन, नदी, पर्वत, वर्ष, द्वीप और समुद्र-सब-के-सब प्रजा के लिये कामधेनु के समान समस्त कामनाओं को पूर्ण करनेवाले बन रहे थे ॥ ५३ ॥ इन्द्रियातीत भगवान् श्रीराम के राज्य करते समय किसी को मानसिक चिन्ता या शारीरिक रोग नहीं होते थे । बुढ़ापा, दुर्बलता, दुःख, शोक, भय और थकावट नाममात्र के लिये भी नहीं थे । यहाँतक कि जो मरना नहीं चाहते थे, उनकी मृत्यु भी नहीं होती थी ॥ ५४ ॥ भगवान् श्रीराम ने एकपत्नी का व्रत धारण कर रक्खा था, उनके चरित्र अत्यन्त पवित्र एवं राजर्षियों के से थे । वे गृहस्थोचित स्वधर्म की शिक्षा देने के लिये स्वयं उस धर्म का आचरण करते थे ॥ ५५ ॥

सतीशिरोमणि सीताजी अपने पति के हृदय का भाव जानती रहतीं । वे प्रेम से, सेवा से, शील से, अत्यन्त विनय से तथा अपनी बुद्धि और लज्जा आदि गुणों से अपने पति भगवान् श्रीरामजी का चित्त चुराती रहती थीं ॥ ५६ ॥

॥ श्रीमद्भागवते महापुराणे पारमहंस्यां संहितायां नवमस्कन्धे दशमोऽध्यायः ॥
॥ हरिः ॐ तत्सत् श्रीकृष्णार्पणमस्तु ॥

One comment on “श्रीमद्भागवतमहापुराण – नवम स्कन्ध – अध्याय १०

  • प्रणाम पंडितजी:सर्प वीष निवारण कामाक्षा मंत्र पोस्ट कीजिए किसी को भाला होगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.