श्रीमद्भागवतमहापुराण – पञ्चम स्कन्ध – अध्याय १३
ॐ श्रीपरमात्मने नमः
ॐ श्रीगणेशाय नमः
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
तेरहवाँ अध्याय
भवाटवी का वर्णन और रहूगण का संशयनाश

जडभरत ने कहा — राजन् ! यह जीवसमूह सुखरूप धन में आसक्त देश-देशान्तर में घूम-फिरकर व्यापार करनेवाले व्यापारियों के दल के समान हैं । इसे माया ने दुस्तर प्रवृत्तिमार्ग में लगा दिया है । इसलिये इसकी दृष्टि सात्त्विक, राजस, तामस भेद से नाना प्रकार के कर्मों पर ही जाती है । उन कर्मों में भटकता-भटकता यह संसाररूप जंगल में पहुँच जाता है । वहाँ इसे तनिक भी शान्ति नहीं मिलती ॥ १ ॥ महाराज ! उस जंगल में छः डाकू हैं । इस वणिक्-समाज का नायक बड़ा दुष्ट हैं । उसके नेतृत्व में जब यह वहाँ पहुँचता है, तब ये लुटेरे बलात्कार से इसका सब मालमत्ता लूट लेते हैं तथा भेड़िये जिस प्रकार भेड़ों के झुंड में घुसकर उन्हें खींच ले जाते हैं, उसी प्रकार इसके साथ रहनेवाले गीदड़ ही इसे असावधान देखकर इसके धन को इधर-उधर खींचने लगते हैं ॥ २ ॥ वह जंगल बहुत-सी लता, घास और झाड़-झंखाड़ के कारण बहुत दुर्गम हो रहा है । उसमें तीव्र डाँस और मच्छर इसे चैन नहीं लेने देते । वहाँ इसे कभी तो गन्धर्वनगर दीखने लगता है और कभी-कभी चमचमाता हुआ अति चञ्चल अगिया-बेताल आँखों के सामने आ जाता हैं ॥ ३ ॥

यह वणिक्-समुदाय इस वन में निवासस्थान, जल और धनादि में आसक्त होकर इधर-उधर भटकता रहता है । कभी बवंडर से उठी हुई धूल के द्वारा जब सारी दिशाएँ धूमाच्छादित-सी हो जाती हैं और इसकी आँखों में भी धूल भर जाती है, तो इसे दिशा का ज्ञान भी नहीं रहता ॥ ४ ॥ कभी इसे दिखायी न देनेवाले झींगुरों का कर्णकटु शब्द सुनायी देता है, कभी उल्लुओं की बोली से इसका चित्त व्यथित हो जाता है । कभी इसे भूख सताने लगती है तो यह निन्दनीय वृक्ष का ही सहारा टटोलने लगता है और कभी प्यास से व्याकुल होकर मृगतृष्णा की ओर दौड़ लगाता है ॥ ५ ॥ कभी जलहीन नदियों की ओर जाता है, कभी अन्न न मिलने पर आपस में एक-दूसरे से भोजनप्राप्ति की इच्छा करता है, कभी दावानल में घुसकर अग्नि से झुलस जाता है और कभी यक्ष लोग इसके प्राण खींचने लगते हैं तो यह खिन्न होने लगता है ॥ ६ ॥ कभी अपने से अधिक बलवान् लोग इसका धन छीन लेते हैं, तो यह दुखी होकर शोक और मोह से अचेत हो जाता है और कभी गन्धर्वनगर में पहुँचकर घड़ीभर के लिये सब दुःख भूलकर खुशी मनाने लगता है ॥ ७ ॥ कभी पर्वतों पर चढ़ना चाहता हैं तो कांटे और कंकड़ों द्वारा पैर चलनी हो जाने से उदास हो जाता है । कुटुम्ब बहुत बढ़ जाता है और उदरपूर्ति का साधन नहीं होता तो भूख की ज्वाला से सन्तप्त होकर अपने ही बन्धुबान्धवों पर खीझने लगता है ॥ ८ ॥

कभी अजगर सर्प का ग्रास बनकर वन में फेंके हुए मुर्दे समान पड़ा रहता है । उस समय इसे कोई सुध-बुध नहीं रहती । कभी दूसरे विषैले जन्तु इसे काटने लगते हैं तो उनके विष के प्रभाव से अंधा होकर किसी अँधे कुएँ में गिर पड़ता है और घोर दुःखमय अन्धकार में बेहोश पड़ा रहता है ॥ ९ ॥ कभी मधु खोजने लगता है तो मक्खियाँ इसकी नाक में दम कर देती हैं और इसका सारा अभिमान नष्ट हो जाता है । यदि किसी प्रकार अनेकों कठिनाइयों का सामना करके वह मिल भी गया तो बलात्कार से दूसरे लोग उसे छीन लेते हैं ॥ १० ॥ कभी शीत, घाम, आँधी और वर्षा से अपनी रक्षा करने में असमर्थ हो जाता है । कभी आपस में थोड़ा-बहुत व्यापार करता है, तो धन के लोभ से दूसरों को धोखा देकर उनसे वैर ठान लेता हैं ॥ ११ ॥ कभी-कभी उस संसारवन में इसका धन नष्ट हो जाता हैं तो इसके पास शय्या, आसन, रहने के लिये स्थान और सैर-सपाटे के लिये सवारी आदि भी नहीं रहते । तब दुसरों से याचना करता है; माँगने पर भी दूसरे से जब उसे अभिलषित वस्तु नहीं मिलती, तब परायी वस्तुओं पर अनुचित दृष्टि रखने के कारण इसे बड़ा तिरस्कार सहना पड़ता है ॥ १३ ॥

इस प्रकार व्यावहारिक सम्बन्ध के कारण एकदूसरे से द्वेषभाव बढ़ जाने पर भी वह वणिक् समूह आपस में विवाहादि सम्बन्ध स्थापित करता है और फिर इस मार्ग में तरह-तरह के कष्ट और धनक्षय आदि सङ्कटों के भोगते-भोगते मृतकवत् हो जाता है ॥ १३ ॥ साथियों में से जो-जो मरते जाते हैं, उन्हें जहाँ-का-तहाँ छोड़कर नवीन उत्पन्न हुओं को साथ लिये वह बनिजारों का समूह बराबर आगे ही बढ़ता रहता है । वीरवर ! उनमें से कोई भी प्राणी न तो आज तक वापस लौटा है और न किसने इस सङ्कटपूर्ण मार्ग को पार करके परमानन्दमय योग की ही शरण ली है ॥ १४ ॥ जिन्होंने बड़े-बड़े दिक्पालों को जीत लिया है, वे धीर-वीर पुरुष भी पृथ्वी में ‘यह मेरी हैं । ऐसा अभिमान करके आपस में वैर ठानकर संग्रामभूमि में जूझ जाते हैं । तो भी उन्हें भगवान् विष्णु का वह अविनाशी पद नहीं मिलता, जो वैरहीन परमहंसों को प्राप्त होता है ॥ १५ ॥

इस भवाटवी में भटकनेवाला यह बनिज़ारों का दल कभी किसी लता की डालियों का आश्रय लेता हैं और उसपर रहनेवाले मधुरभाषी पक्षियों के मोह में फँस जाता है । कभी सिंहों के समूह से भय मानकर बगुला, कंक और गिद्धों से प्रीति करता हैं ॥ १६ ॥ जब उनसे धोखा उठाता हैं, तब हंसों की पंक्ति में प्रवेश करना चाहता है; किन्तु उसे उनका आचार नहीं सुहाता, इसलिये वानरों में मिलकर उनके जातिस्वभाव के अनुसार दाम्पत्य-सुख में रत रहकर विषयभोगों से इन्द्रियों को तृप्त करता रहता है और एक दूसरे का मुख देखते-देखते अपनी आयु की अवधि को भूल जाता है ॥ १७ ॥ वहाँ वृक्षों में क्रीडा करता हुआ पुत्र और स्त्री के स्नेहपाश में बँध जाता हैं । इसमें मैथुन की वासना इतनी बढ़ जाती हैं कि तरह-तरह के दुर्व्यवहारों से दीन होनेपर भी यह विवश होकर अपने बन्धन को तोड़ने का साहस नहीं कर सकता । कभी असावधानी से पर्वत की गुफा में गिरने लगता हैं तो उसमें रहनेवाले हाथी से डरकर किसी लता के सहारे लटका रहता है ॥ १८ ॥

शत्रुदमन ! यदि किसी प्रकार इसे उस आपत्ति से छुटकारा मिल जाता है, तो यह फिर अपने गोल में मिल जाता है । जो मनुष्य माया की प्रेरणा से एक बार इस मार्ग में पहुँच जाता है, उसे भटकते-भटकते अन्त तक अपने परम पुरुषार्थ का पता नहीं लगता ॥ १९ ॥ रहूगण ! तुम भी इसी मार्ग में भटक रहे हो, इसलिये अब प्रजा को दण्ड देने का कार्य कोड़कर समस्त प्राणियों के सुहद् हो जाओ और विषयों में अनासक्त होकर भगवत् सेवासे तीक्ष्ण किया हुआ नप खड्ग लेकर इस मार्ग को पार कर लो ॥ २० ॥

राजा रहूगण ने कहा — अहो ! समस्त योनियों में यह मनुष्य-जन्म ही श्रेष्ठ हैं । अन्यान्य लोकों में प्राप्त होनेवाले देवादि उत्कृष्ट जन्मों से भी क्या लाभ हैं, जहाँ भगवान् हृषीकेश के पवित्र यश से शुद्ध अन्तःकरणवाले आप-जैसे महात्माओं का अधिकाधिक समागम नहीं मिलता ॥ २१ ॥ आपके चरणकमलों की रज का सेवन करने से जिनके सारे पाप-ताप नष्ट हो गये हैं, उन महानुभाव को भगवान् की विशुद्ध भक्ति प्राप्त होना कोई विचित्र बात नहीं हैं । मेरा तो आपके दो घड़ी के सत्सङ्ग से ही सारा कुतर्कमूलक अज्ञान नष्ट हो गया है ॥ २३ ॥ ब्रह्मज्ञानियों में जो वयोवृद्ध हों, उन्हें नमस्कार है, जो शिशु हों, उन्हें नमस्कार है, जो युवा हों उन्हें नमस्कार है । जो क्रीडारत बालक हों, उन्हें भी नमस्कार है । जो ब्रह्मज्ञानी ब्राह्मण अवधूतवेष से पृथ्वी पर विचरते हैं, उनसे हम-जैसे ऐश्वर्योन्मत्त राजाओं का कल्याण हो ॥ २३ ॥

श्रीशुकदेवजी कहते हैं — उतरानन्दन ! इस प्रकार उन परम प्रभावशाली ब्रह्मर्षिपुत्र ने अपना अपमान करनेवाले सिन्धुनरेश रहूगण को भी अत्यन्त करुणावश आत्मतत्त्व का उपदेश दिया । तब राजा रहूगण ने दीनभाव से उनके चरणों की वन्दना की । फिर वे परिपूर्ण समुद्र के समान शान्तचित्त और उपरतेन्द्रिय होकर पृथ्वी पर विचरने लगे ॥ २४ ॥ उनके सत्सङ्ग से परमात्मतत्त्व का ज्ञान पाकर सौवीरपति रहूगण ने भी अन्तःकरण में अविद्यावश आरोपित देहात्मबुद्धि को त्याग दिया । राजन् ! जो लोग भगवदाश्रित अनन्य भक्तों की शरण ले लेते हैं, उनका ऐसा ही प्रभाव होता हैं-उनके पास अविद्या ठहर नहीं सकती ॥ २५ ॥

राजा परीक्षित् ने कहा — महाभागवत मुनिश्रेष्ठ ! आप परम विद्वान् हैं । आपने रूपकादि के द्वारा अप्रत्यक्षरूप से जीवों के जिस संसाररूप मार्ग का वर्णन किया है, उस विषय की कल्पना विवेकी पुरुषों की बुद्धि ने की है, वह अल्पबुद्धिवाले पुरुष की समझ में सुगमता से नहीं आ सकता । अतः मेरी प्रार्थना है कि इस दुर्बोध विषय को रूपक का स्पष्टीकरण करनेवाले शब्दों से खोलकर समझाइये ॥ २६ ॥

॥ श्रीमद्भागवते महापुराणे पारमहंस्यां संहितायां पञ्चमस्कन्धे त्रयोदशोऽध्यायः ॥
॥ हरिः ॐ तत्सत् श्रीकृष्णार्पणमस्तु ॥

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.