Print Friendly, PDF & Email

श्रीमद्भागवतमाहात्म्यम् – अध्याय २
ॐ गणेशाय नमः
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय
दूसरा अध्याय
यमुना और श्रीकृष्णपत्नियों का संवाद, कीर्तनोत्सव में उद्धवजी का प्रकट होना

ऋषियों ने पूछा — सूतजी ! अब यह बतलाइये कि परीक्षित् और वज्रनाभ को इस प्रकार आदेश देकर जब शाण्डिल्य मुनि अपने आश्रम को लौट गये, तब उन दोनों राजाओं ने कैसे-कैसे और कौन-कौन-सा काम किया ? ॥ १ ॥

सूतजी कहने लगे — तदनन्तर महाराज परीक्षित् ने इन्द्रप्रस्थ (दिल्ली) से हजारों बड़े-बड़े सेठों को बुलवाकर मथुरा में रहने की जगह दी ॥ २ ॥ इनके अतिरिक्त सम्राट् परीक्षित् ने मथुरामण्डल के ब्राह्मणों तथा प्राचीन वानरों को, जो भगवान् के बड़े ही प्रेमी थे, बुलवाया और उन्हें आदर के योग्य समझकर मथुरानगरी में बसाया ॥ ३ ॥ इस प्रकार राजा परीक्षित् की सहायता और महर्षि शाण्डिल्य की कृपा से वज्रनाभ ने क्रमशः उन सभी स्थानों की खोज की, जहाँ भगवान् श्रीकृष्ण अपने प्रेमी गोप-गोपियों के साथ नाना प्रकार की लीलाएँ करते थे । लीलास्थानों का ठीक-ठीक निश्चय हो जाने पर उन्होंने वहाँ-वहाँ की लीला के अनुसार उस-उस स्थान का नामकरण किया, भगवान् कौ लीला-विग्रहों की स्थापना की तथा उन-उन स्थानों पर अनेकों गाँव बसाये । स्थान-स्थान पर भगवान् के नाम से कुण्ड और कुएँ खुदवाये । कुञ्ज और बगीचे लगवाये, शिव आदि देवताओं की स्थापना की ॥ ४-५ ॥ गोविन्ददेव, हरिदेव आदि नामों से भवद्विग्रह स्थापित किये । इन सब शुभ कर्मों के द्वारा वज्रनाभ ने अपने राज्य में सब ओर एकमात्र श्रीकृष्ण-भक्ति का प्रचार किया और बड़े ही आनन्दित हुए ॥ ६ ॥ उनके प्रजाजन को भी बड़ा आनन्द था, वे सदा भगवान् के मधुर नाम तथा लीलाओं के कीर्तन में संलग्न हो परमानन्द के समुद्र में डूबे रहते थे और सदा ही वज्रनाभ के राज्य की प्रशंसा किया करते थे ॥ ७ ॥

एक दिन भगवान् श्रीकृष्ण की विरह-वेदना से व्याकुल सोलह हजार रानियाँ अपने प्रियतम पतिदेव की चतुर्थ पटरानी कालिन्दी (यमुनाजी) को आनन्दित देखकर सरलभाव से उनसे पूछने लगीं । उनके मन में सौतियाडाह लेशमात्र भी नहीं था ॥ ८ ॥

श्रीकृष्ण की रानियों ने कहा — ‘बहिन कालिन्दी ! जैसे हम सब श्रीकृष्ण की धर्मपत्नी है, वैसे ही तुम भी तो हो । हम तो उनकी विरहाग्नि में जली जा रही हैं, उनके वियोग-दुःख से हमारा हृदय व्यथित हो रहा है; किन्तु तुम्हारी यह स्थिति नहीं है, तुम प्रसन्न हों । इसका क्या कारण है ? कल्याणी ! कुछ बताओ तो सही’ ॥ ९ ॥
उनका प्रश्न सुनकर यमुनाजी हँस पड़ी । साथ ही यह सोचकर कि मेरे प्रियतम की पत्नी होने के कारण ये भी मेरी ही बहिनें हैं, पिघल गयीं; उनका हृदय दया से द्रवित हो उठा । अतः वे इस प्रकार कहने लगीं ॥ १० ॥

यमुनाजी ने कहा — ‘अपनी आत्मा में ही रमण करने के कारण भगवान् श्रीकृष्ण आत्माराम हैं और उनकी आत्मा हैं — श्रीराधाजी ! मैं दासी की भाँति राधाजी की सेवा करती रहती हूँ, उनकी सेवा का ही यह प्रभाव है कि विरह हमारा स्पर्श नहीं कर सकता ॥ ११ ॥ भगवान् श्रीकृष्ण की जितनी भी रानियां हैं, सब-की-सब श्रीराधाजी के ही अंश का विस्तार हैं । भगवान् श्रीकृष्ण और राधा सदा एक-दुसरे के सम्मुख हैं, उनका परस्पर नित्यसंयोग हैं, इसलिये राधा के स्वरूप में अंशतः विद्यमान जो श्रीकृष्ण की अन्य रानियाँ हैं, उनको भी भगवान् का नित्य-संयोग प्राप्त हैं ॥ १२ ॥ श्रीकृष्ण ही राधा हैं और राधा ही श्रीकृष्ण हैं । उन दोनों का प्रेम ही वंशी है तथा राधा की प्यारी सखी चन्द्रावली भी श्रीकृष्ण-चरणों के नखरूपी चन्द्रमा की सेवामें आसक्त रहने के कारण ही ‘चन्द्रावली’ नाम से कही जाती हैं ॥ १३ ॥ श्रीराधा और श्रीकृष्ण की सेवामें उसकी बड़ी लालसा, बड़ी लगन है; इसीलिये वह कोई दूसरा स्वरूप धारण नहीं करती । मैंने यहाँ श्रीराधा में ही रुक्मिणी आदि का समावेश देखा हैं ॥ १४ ॥ तुमलोगों को भी सर्वांश में श्रीकृष्ण के साथ वियोग नहीं हुआ है, किन्तु तुम इस रहस्य को इस रूप में जानती नहीं हो, इसीलिये इतनी व्याकुल हो रही हो ॥ १५ ॥ इसी प्रकार पहले भी जब अक्रूर श्रीकृष्ण को नन्दगाँव से मथुरा में ले आये थे, उस अवसर पर जो गोपियों को श्रीकृष्ण से विरह की प्रतीति हुई थी, वह भी वास्तविक विरह नहीं, केवल विरह का आभास था । इस बात को जब तक वे नहीं जानती थीं, तब तक उन्हें बड़ा कष्ट था; फिर जब उद्धवजी ने आकर उनका समाधान किया, तब में इस बात को समझ सकी ॥ १६ ॥ यदि तुम्हें भी उद्धवजी का सत्संग प्राप्त हो जाय तो तुम सब भी अपने प्रियतम श्रीकृष्ण के साथ नित्यविहार का सुख प्राप्त कर लोगी ॥ १७ ॥

सूतजी कहते हैं — ऋषिगण ! जब उन्होंने इस प्रकार समझाया, तब श्रीकृष्ण की पत्नियाँ सदा प्रसन्न रहनेवाली यमुनाजी से पुनः बोलीं । उस समय उनके हृदय में इस बात की बड़ी लालसा थीं कि किसी उपाय से उद्धवजी का दर्शन हों, जिससे हमें अपने प्रियतम के नित्य-संयोग का सौभाग्य प्राप्त हो सके ॥ १८ ॥

श्रीकृष्णपत्नियों ने कहा — सखी ! तुम्हारा ही जीवन धन्य हैं; क्योंकि तुम्हें कभी भी अपने प्राणनाथ के वियोग का दुःख नहीं भोगना पड़ता । जिन श्रीराधिकाजी की कृपा से तुम्हारे अभीष्ट अर्थ की सिद्धि हुई है, उनकी अब हमलोग भी दासी हुई ॥ १९ ॥ किन्तु तुम अभी कह चुकी हो कि उद्धवजी के मिलने पर ही हमारे सभी मनोरथ पूर्ण होंगे; इसलिये कालिन्दी ! अब ऐसा कोई उपाय बताओ, जिससे उद्धवजी भी शीघ्र ही मिल जायें ॥ २० ॥

सूतजी कहते हैं — श्रीकृष्ण की रानियों ने जब यमुनाजी से इस प्रकार कहा, तब वे भगवान् श्रीकृष्णचन्द्र सोलह कलाओं का चिन्तन करती हुई उनसे कहने लगीं — ॥ २१ ॥ “जब भगवान् श्रीकृष्ण अपने परमधाम को पधारने लगे, तब उन्होंने अपने मन्त्री उद्धव से कहा — ‘उद्धव ! साधना करने की भूमि हैं — बदरिकाश्रम, अतः अपनी साधना पूर्ण करने के लिये तुम वहीं जाओ ।’ भगवान् की इस आज्ञा के अनुसार उद्धवजी इस समय अपने साक्षात् स्वरूप से बदरिकाश्रम में विराजमान हैं और वहाँ जानेवाले जिज्ञासुलोगों को भगवान् के बताये हुए ज्ञान का उपदेश करते रहते हैं ॥ २२ ॥ साधन की फलरूपा भूमि हैं — व्रजभूमि; इसे भी इसके रहस्योंसहित भगवान् ने पहले ही उद्भव को दे दिया था । किन्तु वह फलभूमि यहाँ से भगवान् के अन्तर्धान होने के साथ ही स्थूल दृष्टि से परे जा चुकी है । इसीलिये इस समय यहाँ उद्धव प्रत्यक्ष दिखायी नहीं पड़ते ॥ २३ ॥ फिर भी एक स्थान है, जहाँ उद्धवजी का दर्शन हो सकता है । गोवर्धन पर्वत के निकट भगवान् की लीला-सहचरी गोपियों की विहार-स्थली हैं; वहाँ की लता, अङ्कुर और बेलों के रूप में अवश्य ही उद्धवजी वहाँ निवास करते हैं । लताओं के रूप में उनके रहने का यही उद्देश्य है कि भगवान् की प्रियतमा गोपियों की चरण-रज उन पर पड़ती रहे ॥ २४ ॥

उद्धवजी के सम्बन्ध में एक निश्चित बात यह भी है कि उन्हें भगवान् अपना उत्सव-स्वरूप प्रदान किया है । भगवान् का उत्सव उद्धवजी का अंग है, वे उससे अलग नहीं रह सकते; इसलिये अब तुम लोग वज्रनाभ को साथ लेकर वहाँ जाओ और कुसुम-सरोवर के पास ठहरो ॥ २५ ॥ भगवद्भक्तों की मण्डली एकत्र करके वीणा, वेणु और मृदङ्ग आदि बाजों के साथ भगवान् के नाम और लीला के कीर्तन, भगवत्सम्बन्धी काव्य-कथाओं के श्रवण तथा भगवद्गुणगान से युक्त सरस संगीतों द्वारा महान् उत्सव आरम्भ करो ॥ २६ ॥ इस प्रकार जब उस महान् उत्सव का विस्तार होगा, तब निश्चय है कि वहाँ उद्धवजी का दर्शन मिलेगा वे ही भली-भांति तुम सब लोगों के मनोरथ पूर्ण करेंगे” ॥ २७ ॥

सूतजी कहते हैं — ‘यमुनाजी की बतायी हुई बातें सुनकर श्रीकृष्ण की रानियाँ बहुत प्रसन्न हुई । उन्होंने यमुनाजी को प्रणाम किया और वहाँ से लौटकर वज्रनाभ तथा परीक्षित् से वे सारी बातें कह सुनायीं ॥ २८ ॥ सब बातें सुनकर परीक्षित् को बड़ी प्रसन्नता हुई और उन्होंने वज्रनाभ तथा श्रीकृष्णपत्नियों को उसी समय साथ ले उस स्थान पर पहुँचकर तत्काल वह सब कार्य आरम्भ करवा दिया, जो कि यमुनाजी ने बताया था ॥ २९ ॥ गोवर्धन के निकट वृन्दावन के भीतर कुसुमसरोवर पर जो सखियों की विहारस्थली है, वहाँ ही श्रीकृष्ण-कीर्तन का उत्सव आरम्भ हुआ ॥ ३० ॥ वृषभानुनन्दिनी श्रीराधाजी तथा उनके प्रियतम् श्रीकृष्ण की वह लीला-भूमि जब साक्षात् सङ्कीर्तन की शोभा से सम्पन्न हो गयी, उस समय वहाँ रहनेवाले सभी भक्तजन एकाग्र हो गये; उनकी दृष्टि उनके मन की वृत्ति कहीं अन्यत्र न जाती थी ॥ ३१ ॥

तदनन्तर सबके देखते-देखते वहाँ फैले हुए तृण, गुल्म और लताओं के समूह से प्रकट होकर श्रीउद्धवजी सबके सामने आये । उनका शरीर श्यामवर्ण था, उस पर पीताम्बर शोभा पा रहा था । वे गले में वनमाला और गुंजा की माला धारण किये हुए थे तथा मुख से बारंबार गोपीवल्लभ श्रीकृष्ण की मधुर लीलाओं का गान कर रहे थे । उद्धवजी के आगमन से उस सङ्कीर्तनोत्सव की शोभा कई गुनी बढ़ गयी । जैसे स्फटिकमणि की बनी हुई अट्टालिका की छत पर चाँदनी छिटकने से उसकी शोभा बहुत बढ़ जाती हैं । उस समय सभी लोग आनन्द के समुद्र में निमग्न हो अपना सब कुछ भूल गये, सुध-बुध खो बैठे ॥ ३२-३४ ॥ थोड़ी देर बाद जब उनकी चेतना दिव्य लोक से नीचे आयी, अर्थात् जब उन्हें होश हुआ, तब उद्धवजी को भगवान् श्रीकृष्ण के स्वरूप में उपस्थित देख, अपना मनोरथ पूर्ण हो जाने के कारण प्रसन्न हों, वे उनकी पूजा करने लगे ॥ ३५ ॥

॥ श्रीस्कान्दे महापुराणे एकाशीतिसाहस्र्यां संहिताया द्वितीये वैष्णवखण्डे श्रीमद्‌भागवतमाहात्म्ये गोवर्धनपर्वतसमीपे परीक्षितदादीनामुद्धव दर्शनवर्णनं नाम द्वितीयोऽध्यायः ॥
॥ हरिः ॐ तत्सत् श्रीकृष्णार्पणमस्तु ॥

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.