॥ कालरात्रि ॥

॥ कालरात्रि प्रयोग विधानम् ॥
कालरात्रि का प्रयोग अचूक हैं । यह संहार व सम्मोहन दोनों की अधिष्ठात्री हैं । ब्रह्मा, विष्णु, महेश इन्हीं के प्रभाव से योगनिद्रा में रहते हुये आराधना व तपस्या में लीन रहते हैं । जब शत्रु बाधा, प्रेतादिकबाधा प्रबल हो बगला, प्रत्यंगिरा, शरभराजादि के प्रयोग शिथिल हो रहे हो तो इस विद्या का प्रयोग साथ में करना चाहिये जैसे विष्णु के द्वारा ५००० वर्षों तक युद्ध करने पर भी मधुकैटम को नहीं मार सके तो इन्ही कालरात्रि ने उनका संमोहन किया तब ही वे राक्षस मारे गये । यह विद्या तीव्र संमोहन से शत्रु को शिथिल व निष्प्राण भी कर सकती हैं । काला के २-३ ध्यान जो सर्व विदित हे वे खरारूढ है, भीषण आकृति हैं ऊपर के दांये हाथ में खड्ग हैं व बाँये हाथ में मशाल है जिससे वे भक्तों का मार्ग प्रदर्शन कर अंधकार को दूर करती हैं शत्रुबाधा व विघ्नों को जलाकर नष्ट कर देती हैं । नीचे के हाथों में वर अभय मुद्रा है । कहीं एक तरफ खट्वांग व दण्ड धारण किये हुये है दूसरी तरफ के हाथों में वर अभय मुद्रा है ।


मंत्र :- ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं कालरात्रि सर्वं वश्यं कुरु कुरु वीर्यं देहि देहि गणेश्वर्यै नमः। (देवी रह.)
उत्कीलन – ऐं ह्रीं क्लीं कालरात्र्यै नमः।
ब्रह्मास्त्र शमन मंत्र – ग्लौं हूं ऐं ह्रीं श्रीं एहि एहि कालरात्रि आवेशय आवेशय प्रस्फुर प्रफुर सर्वजन संमोहय संमोहय हुं फट् स्वाहा ।
॥ ध्यानम् ॥
एक वेणी जपाकर्णपूरा नग्न खरास्थिता,
लंबोष्ठी कार्णिकाकर्णी तैलाभ्यक्त शरीरिणी ।
वामपादोल्लसल्लोह लताकण्टकभूषणा,
वर्धन् मूर्धध्वजा कृष्णा कालरात्रिर्भयङ्करी ॥

कालरात्रि महाकाली व महाषोडशी की समयाविद्या है अर्थात् इनके साथ समयाधार पर कालरात्रि की भी पूजा की जानी चाहिये । “मंत्र कोष’ में दोनों विद्याओं के अलग अलग ध्यान हैं मूल मंत्र में सामान्य भेद हैं।
1) कालीक्रमे मंत्रः-
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं कान्हेश्वरि सर्वजनमनोहरि सर्वमुखस्तंभनि सर्वराजवशङ्करि, सर्वदुष्टनिर्दलनि सर्वस्त्रीपुरुषाकर्षिणि : बन्दीश्रृखलाँस्त्रोटय -त्रोटय सर्वशत्रून् भञ्जय-भञ्जय द्वेष्टन् निर्दलय-निर्दलय सर्वं स्तंभय स्तंभय मोहनास्त्रेण द्वेषिण उच्चाटय- उच्चाटय सर्ववशं कुरु कुरु स्वाहा देहि देहि सर्वं कालरात्रि ! कामिनि ! गणेश्वरि नमः ।
(मंत्र महार्णव में मनोहरे लिखा हैं, तथा सर्वमुखस्तंभिनि, लिखा हैं, मंत्रमहोदधि में देहि देहि सर्वकालरात्रि लिखा हैं।) मंत्रमहोदधि में द्वेष्टन की जगह “द्वेषिण: उच्चाटय-२ सर्ववशं कुरु कुरु स्वाहा देहि देहि सर्वकालरात्रि कामिनि गणेश्वरि नमः” लिखा हैं।
षोडशीक्रमोक्त मंत्र:-  ह्रीं क्लीं श्रीं कालेश्वरि सर्वजनमनोहारि सर्वमुखस्तंभिनि सर्वराजवशङ्करि सर्वदुष्टनिर्दलनि सर्वस्त्रीपुरुषाकर्षणि बन्दिश्रृङ्खलास्त्रोटय त्रोटय सर्वशत्रूञ्जम्भय जम्भय द्वेषं निर्दलयर सर्वंस्तंभयर उच्चाटय उच्चाटय सर्ववश्यं कुरु कुरु सर्वकालरात्रि कामिनि गणेश्वरि हुं फट् स्वाहा ।
विनियोगः- अस्य श्री कालरात्रि महाविद्यामंत्रस्य भैरव ऋषि, अनुष्टप् छन्दः, श्रीकालरात्रि देवता, ह्रीं बीजं स्वाहा शक्तिं, हुं कीलकं, आत्मनोऽभीष्ट सिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः ।
ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रैं ह्रौं ह्रः से षडङ्गन्यास करे ।
आरक्त भानुसदृशीं यौवनोन्मत्त विग्रहां
चतुर्भुजां त्रिनयनां भीषणां चन्द्रशेखराम् ।
प्रेतासनसमासीनं भजतां सर्वकामदां दक्षिणे
चाऽभयं पाशं वामे भुवनमेव च ॥
रक्तदण्डधरां कालरात्रि विचिन्तयेत् ।।
शापोद्धार – ॐ ऐं ह्रां कालरात्रि शिवस्य शाप विमोचय ।
उत्कीलन – ॐ ॐ ॐ मा मा मा।
संजीवन – हूं गणेश्वरी कालरात्रि श्रीं ।

॥ अथ कालरात्रि मंत्र प्रयोगः ॥
मन्त्राः
(१.) ॐ ऐं ह्रीं श्रीं क्लीं काह्नेश्वरि सर्वजनमनोहारि सर्वमुख स्तंभिनि सर्वराजवशंकरि सर्वस्त्रीपुरुषाकर्षिणि बन्दीशृंखलास्त्रोटय त्रोटय सर्वशत्रून् भंजय भंजय द्विषिणो दलय दलय सर्वं स्तंभय स्तंभय सर्वं स्तंभय स्तंभय मोहनास्त्रेण द्वेषिण उच्चाटयोच्चाटय सर्वं वशं कुरु कुरु स्वाहा देहि देहि सर्वं कालरात्रि कामिनि गणेश्वरि नमः ।

विनियोग – अस्य मन्त्रस्य दक्ष ऋषिः, जगतीछन्दः, अलर्कनिवासिनी कालरात्रि देवता, क्रीं बीजं मायाराज्ञाशक्तिः, ममाभीष्ट सिद्धये जपे विनियोगः ।
(२.) ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं ह्रैं ह्रौं हः जगत्त्रयविमोहिनि भुवनव्यापिनि दण्डधारिणि दुर्गा दुर्गतिहन्त्री नानासिद्धि विधायिनि सर्वं वशं कुरु कुरु स्वाहा ।
षडङ्गन्यास – ह्रां, ह्रीं, ह्रूं, ह्रैं, ह्रौं, ह्रः से षडङ्गन्यास करे ।

॥ ध्यानम् ॥
आरक्तभानु सदृशीं कामिनी मदनातुराम् ।
चतुर्भुजां त्रिनयनां कवरीमुक्त केशिकाम् ॥
मोहनं दक्षिणे हस्ते वरदं च तथोपरि ।
भुवनं वामहस्ते च अधोर्दण्डं सुशोभितम् ॥
चूडाकलापिकाशोभा मातृका परिवेष्टिताम् ।
कृष्णाम्बरधरां देवीं कृष्णकञ्चुकभूषिताम् ॥
कर्णताटङ्क संयुक्तां नानारक्त सुमौक्तिकाम् ।
विचित्र चाम्पेयपुष्पैः वणिनद्धां सुकुन्तलाम् ॥
सुनासामौक्तिकां चारु ताम्बूलापूरिताननाम् ।
ग्रैवेयहारपदक स्तनाभरण भूषिताम् ॥
ऋषिभिः सिद्धगंधर्वः स्तूयमानां मदालसाम् ।
कन्याकागण संसेव्या मायाराज्ञी गणेश्वरीम् ॥

यन्त्रोद्धार – बिन्दु, त्रिकोण, षट्कोण उसके बाद दो वृत्त, अष्टदल पुनः दो वृत्त पश्चात् षोडशदलयुक्त भूपुर बनाये ।

॥ काम्य प्रयोग ॥
वश्य कर्म हेतु सिन्दूर से यंत्र लिखे, स्तंभन हेतु रसाल से मारणादि कर्म हेतु कोकिल पंख से व लोह पत्र पर, हरताल, हरिद्रा निर्गुण्डी से खर, अश्व, महिष चर्म पर यंत्र लिखें ।
मंत्रमहोदधौ मंत्रो यथा –
ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं काह्नेश्वरि सर्वजनमनोहरे सर्वमुखस्तंभिनि सर्वराजवशंकरि सर्वदुष्टनिर्दलिनि सर्वस्त्रीपुरुषाकर्षिणि बंदिश्रृंखला स्रोटय स्रोटय सर्वशत्रून् भंजय भंजय द्वेष्टुन् निर्दलय निर्दलय सर्वं स्तंभय स्तंभय मोहनास्रेण द्वेषिण उच्चाटय उच्चाटय सर्वं वशं कुरु कुरु स्वाहा देहि देहि सर्वं कालरात्रि कामिनि गणेश्वरि नमः ।
इति त्रयस्त्रिंशदुत्तरशताक्षरो मंत्रः ।

॥ अस्य विधानम् ॥

विनियोग :- अस्य कालरात्रिमंत्रस्य दक्ष ऋषिः । जगतीच्छंदः । अलर्कनिवानिसिनी कालरात्रिर्देवता । क्रीं बीजम् । मायाराज्ञीति शक्तिः । ममाभीष्टसिद्ध्यर्थे जपे विनियोगः ।

ऋष्यादिन्यास :- ॐ दक्षऋषये नमः शिरसि ॥ १ ॥ जगतीच्छंदसे नमो मुखे ॥ २ ॥ अलर्कनिवासिनीकालरात्रि देवतायै नमो हृदि ॥ ३ ॥ क्रीं बीजाय नमो लिंगे ॥ ४ ॥ मायाराज्ञीतिशक्तये नमः पादयोः ॥ ५ ॥ विनियोगाय नमः सर्वांगे ॥ ६ ॥ इति ऋष्यादिन्यासः ।

करांगन्यास :- ॐ अंगुष्ठाभ्यां नमः ॥ १ ॥ ऐं तर्जनीभ्यां नमः ॥ २ ॥ ह्रीं मध्यमाभ्यां नमः ॥ ३ ॥ क्लीं अनामिकाभ्यां नमः ॥ ४ ॥ श्रीं कनिष्ठिकाभ्यां नमः ॥ ५ ॥ इति पंचांगुलीषु करांगन्यासः ।

हृदयादिषडंगन्यास :- ॐ ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं काह्नेश्वरि सर्वजनमनोहरे सर्वमुखस्तंभिनि हृदयाय नमः ॥ १ ॥ सर्वराजवशंकरि सर्वदुष्टनिर्दलिनि सर्वस्वीपरुषाकर्षिणि शिरसे स्वाहा ॥ २ ॥ बंदिश्रृंखला स्रोटय स्रोटय सर्वशत्रून् भंजय भंजय शिखायै वषट् ॥ ३ ॥ द्वेष्टन् निर्दलय निर्दलय सर्वं स्तंभय स्तंभय कवचाय हुं ॥ ४ ॥ मोहनास्त्रेण द्वेषिण उच्चाटय उच्चाटय सर्वं वशं कुरु कुरु स्वाहा नेत्रत्रयाय वौषट् ॥ ५ ॥ देहि देहि सर्वं कालरात्रि कामिनि गणेश्वरि नमः अस्त्राय फट् ॥ ६ ॥

इति हृदयादिषडंगन्यासः । एवं न्यासं कृत्वा ध्यायेत् ।

॥ ध्यानम् ॥
ॐ उद्यन्मार्तंड कांतिं विगलितकबरी कृष्णवस्त्रावृतांगी
दंडं लिंग कराब्जर्वरमथ भुवनं संधधानां त्रिनेत्राम् ।
नाना कल्पैर्विभासं स्मितमुखकमलां सेवितां देवसंधै
र्मायाराज्ञी मनोभूशरविकलतनूमाश्रये ग कालरात्रिम् ॥ १ ॥
इति ध्यात्वा मानसोपचारैः संपूजयेत् । ततः पीठादौ रचिते सर्वतोभद्रमंडले मंडूकादिपरतत्त्वांतपीठ देवता: संस्थाप्य ‘ॐ मं मंडूकादिपरतत्त्वांतपीठदेवताभ्यो नमः’ इति संपूज्य नव पीठशक्ती: पूजयेत् ।

पूर्वादिक्रमेण – ॐ जयायै नमः ॥ १ ॥ ॐ विजयायै नमः ॥ २ ॥ ॐ अजितायै नमः ॥ ३ ॥ ॐ अपराजितायै नमः ॥ ४ ॥ ॐ नित्यायै नमः ॥ ५ ॥ ॐ विलासिन्यै नमः ॥ ६ ॥ ॐ दोग्ध्यै नमः ॥ ७ ॥ ॐ अघोरायै नमः ॥ ८ ॥ मध्ये ॐ मंगलायै नमः ॥ ९ ॥ इति पूजयेत् ।
ततो भूर्जपत्रे बिंदुत्रिकोणषट्कोणवृत्ताष्टदलवृत्तषोडशदलवृत्तं च कार्य परत्वेन लेखन्यादिद्वारा लिखित्वा तस्योपरि त्रिरेखात्मकभूपुरं विनिर्माय ॐ कालरात्रियोगपीठात्मने नमः’ इति मंत्रेण पुष्पाद्यासनं दत्त्वा पीठमध्ये संस्थाप्य प्रतिष्ठा च कृत्वा पुनात्वा (बिन्दू में मूर्ति की कल्पना कर गंधपुष्पाक्षत से आवरण पूजा करे) ।
एतद्यथा पुष्पांजलिमादाय –
‘ॐ संविमन्मये परे देवि परामृतरसप्रिये ।
देह्यनुज्ञां कालरात्रि परिवारार्चनाय मे ॥ १ ॥
इति पठित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् । इत्याज्ञां गृहीत्वा आवरणपूजामारभेत । तद्यथा तत्र त्रिकोणे पूज्यपूजकयोरंतराले झझप्राची तदनुसारेण अन्या दिशः प्रकल्प्य प्राचीक्रमेण वामावर्तेन च ।

प्रथमावरणम् :- (त्रिकोणे) ॐ संमोहिन्यै नमः । संमोहिनीश्रीपादुकां पूजयामि तर्पयामि नमः ॥ १ ॥ इति सर्वत्र । ॐ मोहिन्यै नमः । मोहिनीश्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ विमोहिन्यै नमः । विमोहिनीश्रीपा० ॥ ३ ॥ इति पूजयेत् ।
ततः पुष्पाजालमादाय मूलमुच्चार्य –
ॐ अभीष्टसिद्धिं मे देहि शरणागतवत्सले ।
भक्त्या समर्पये तुभ्यं प्रथमावरणार्चनम् ॥ १ ॥
इति पठित्वा पुष्पांजलिं दत्त्वा पूजितास्तर्पिताः संतु इति वदेत् अर्घपात्र से जल छोड़ें ।

द्वितीयावरणम् :- (ततः षट्कोणकेसरेषु) – आग्नेय्यादिचतुर्दिक्षु मध्ये दिक्षु च – ॐ हृदयाय नमः, हृदयश्रीपा० । ॐ शिरसे स्वाहा । शिरः श्रीपा० । ॐ शिखायै वषट् । शिखाश्रीपा० । ॐ कवचाय हुम् । कवचश्रीपा० । ॐ नेत्रत्रयाय वौषट् । नैत्रत्रयश्रीपा० । ॐ अस्त्राय फट् । अस्त्रश्रीपा० । इति षडंगानि पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात्।

तृतीयावरणम् :- (ततों वृत्ते दक्षिणावर्तेन च) ॐ अं आं नमः ॥ १ ॥ ॐ इँ ईं नमः ॥ २ ॥ ॐ उँ ऊँ नमः । ॐ ऋ ॠ नमः ॥ ४ ॥ ॐ लृँ ॡँ नमः ॥ ५ ॥ ॐ एँ ऐं नमः ॥ ६ ॥ ॐ ओं औं नमः ॥ ७ ॥ ॐ अं अः नमः ॥ ८ ॥ इति षोडशस्वरान् पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् ।

चतुर्थावरणम् :– (ततोऽष्टदलेषु दक्षिणावर्तेन) ॐ ब्राह्मयै नमः । ब्राह्मीश्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ माहेश्वर्यै नमः । माहेश्वरीश्रीपा० ॥ २ ॥ ॐ कौमार्यै नमः । कौंमारीश्रीपा० ॥ ३ ॥ ॐ वैष्णव्यै नमः । वैष्णवीश्रीपा० ॥ ४ ॥ ॐ वाराही नमः । वाराहीश्रीपा० ॥ ५ ॥ ॐ इन्द्राण्यै नमः । इन्द्राणीश्रीपा० ॥ ६ ॥ ॐ चामुंडायै नमः । चामुंडाश्री० ॥ ७ ॥ ॐ महालक्ष्यै नमः । महालक्ष्मीश्रीपा० ॥ ८ ॥ इत्यष्टौ मातृः पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् ।

पंचमावरणम् :- (पुनर्वृत्ते) – ॐ कं नमः १ । ॐ खं नमः २ । ॐ गं नमः ३ । ॐ घं नमः ४ । ॐ ङं नमः ५ । ॐ चं नमः ६ । ॐ छं नमः ७ । ॐ जं नमः ८ । ॐ झं नमः ९ । ॐ ञं नमः १० । ॐ टं नमः ११ । ॐ ठं नमः १२ ॥ ॐ डं नमः १३ । ॐ ढं नमः १४ । ॐ णं नमः १५ ॥ ॐ तं नमः १६ । ॐ थं नमः १७ । ॐ दं नमः १८ । ॐ धं नमः १९ । ॐ नं नमः २० । ॐ पं नमः २१ । ॐ फं नमः २२ । ॐ बं नमः २३ । ॐ भं नमः २४ । ॐ मं नमः २५ । ॐ यं नमः २६ । ॐ रं नमः २७ । ॐ लं नमः २८ । ॐ वं नमः २९ । ॐ शं नमः ३० । ॐ षं नमः ३१ । ॐ सं नमः ३२ । ॐ हं नमः ३३ । ॐ ळं नमः ३४ । ॐ क्षं नमः ३५ । इति पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् ।

षष्ठावरणम् :- (ततः षोडशदलेषु दक्षिणावर्तेन च) – ॐ उर्वश्यै नमः । उर्वशी श्रीपा० ॥ १ ॥ ॐ मेनकायै नमः । मेनकाश्रीपा० २ । ॐ रंभायै नमः । रंभाश्रीपा० ३। ॐ घृताच्यै नमः घृताची श्रीपादुका० ४। ॐ मंजुघोषायै नमः । मंजुघोषाश्रीपा ५। ॐ सहजन्यायै नमः । सहजन्याश्रीपा० ६। ॐ सुकेश्यै नमः । सुकेशीश्रीपा० ७। ॐ तिलोत्तमायै नमः । तिलोत्तमाश्रीपा० ८। ॐ गांधव्यै नमः । गांधर्वी श्रीपा० ९। ॐ सिद्धकन्यायै नमः । सिद्धकन्याश्रीपा० १०। ॐ किन्नय्यॆ नमः । किन्नरीश्रीपा० ११। ॐ नागकन्यकायै नमः । नागकन्यकाश्रीपा० १२। ॐ विद्याधय्यॆ नमः। विद्याधरीश्रीपा० १३। ॐ किंपुरुषायै नमः । किंपुरुषाश्रीपा० १४। यक्षिण्यै नमः । यक्षिणीश्रीपा० १५। ॐ पिशाच्यै नमः । पिशाचीश्रीपा० १६। इति षोडशदेवताः पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् ॥

सप्तमावरणम् :- (पुनर्वृत्ते)- ॐ परमात्मने नमः । परमात्मश्रीपा० १। ऐं सरस्वत्यै नमः । सरस्वतीश्रीपा० २। ह्रीं गौय्यॆ नमः। गौरीश्रीपा० ३। क्लीं कामायै नमः । कामाश्रीपा० ४। श्री रमायै नमः। रमाश्रीपा० ५। द्रों द्रविण्यै नमः। द्रविणीश्रीपा० ६। द्रीं क्षोभिण्यै नमः । क्षोभिणीश्रीपा० ७। क्लीं वशकिरिण्यै नमः । वशीकरिणीश्रीपा॰ ८। ब्लूं कर्षिण्यै नमः । कर्षिणीश्रीपा० ९। सः संमोहिन्यै नमः । संमोहिनीश्रीपा० १०॥ इति पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात्।

अष्टमावरणम् :- (ततो भूपुराभ्यंतरे प्राच्यादिक्रमेण) – ॐ अणिमायै नमः । अणिमाश्रीपा० १। ॐ लघिमायै नमः । लधिमाश्रीपा० २। ॐ महिमायै नमः । महिमाश्रीपा० ३। ॐ ईशितायै नमः । ईशिताश्रीपा० ४। ॐ वशितायै नमः । वशिताश्रीपा० ५। ॐ कामपूरण्यै नमः । कामपूरणीश्रीपा० ६। ॐ गरिमायै नमः । गरिमाश्रीपा० ७। ॐ प्राप्त्यै नमः । प्राप्तिश्रीपा० ८। इत्यष्टसिद्धी: पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात्। (प्रत्येक देवता का चार चार दिशाओं पूजन करें)

नवमावरणम् :- (ततो भूगृहस्य प्रथमरेखायां चतुर्दिक्षु) – ॐ इच्छाशक्त्यै नमः । इच्छाशक्तिश्रीपा० १। ॐ क्रियाशक्त्यै नमः । क्रियाशक्तिश्रीपा० २। ॐ ज्ञानशक्त्यै नमः। ज्ञानशक्तिश्रीपा० ३। इति पूजयेत्। ततो मध्यरेखायाम् ॐ रुद्राय नमः । रुद्रश्रीपा० १। ॐ विष्णवे नमः। विष्णुश्रीपा०२। ॐ ब्रह्मणे नमः। ब्रह्मश्रीपा० ३। इति पूजयेत्। ततोऽन्तरेखायां ॐ सत्त्वाय नमः । सत्त्वश्रीपा० १। ॐ रजसे नमः। रजःश्रीपा० २। ॐ तमसे नमः। तम:श्रीपा० ३। इति पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात्।

दशमावरणम् :- (ततः भूपुरबाह्ये प्राच्यादिचतुर्दिक्षु)- ॐ गणेशाय नमः । गणेशश्रीपा० १। ॐ क्षेत्रपालाय नमः । क्षेत्रपालश्रीपा० २। ॐ बटुकाय नमः । बटुकश्रीपा० ३। ॐ योगिनीभ्यो नमः । योगिनीश्रीपा० ४। इति द्वारपालान् पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् ।।

एकादशमावरणम् :- (ततो भूपुराबहिः पूर्वादिक्रमेण) – ॐ लं इन्द्राय नमः । इन्द्रश्रीपा० १। ॐ रं अग्नेय नमः । अग्निश्रीपा० २। ॐ मं यमाय नमः। यमश्रीपा० ३। ॐ क्षं निर्ऋतये नमः। निर्ऋतिश्रीपा० ४। ॐ वं वरुणाय नमः। वरुणश्रीपा० ५। ॐ शं वायवे नमः। वायुश्रीपा० ६। ॐ कुं कुबेराय नमः। कुबेरश्रीपा.७। ॐ हं ईशानाय नमः। ईशानश्रीपा० ८। पूर्वेशानयोर्मध्ये ॐ ॐ ब्रह्मणे नमः। ब्रह्मश्रीपा० ९। वरुणनिर्ऋति मध्ये ॐ ह्रीं अनंताय नमः अनन्तश्रीपा. १०। इति पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् ॥

द्वादशावरणम् :- (तत इन्द्रादिसमीपे)- ॐ वं वज्राय नमः ॥ १ ॥ ॐ शं शक्तये नमः ॥ २ ॥ ॐ दं दंडाय नमः ॥ ३ ॥ ॐ खं खड्गाय नमः ॥ ४ ॥ ॐ पां पाशाय नमः ॥ ५ ॥ ॐ अं अंकुशाय नमः ॥ ६ ॥ ॐ गं गदायै नमः ॥ ७ ॥ ॐ त्रिं त्रिशूलाय नमः । ॐ पं पद्माय नमः। ॐ चं चक्राय नमः। इति पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात् ।

त्रयोदशावरणम् :– इति बाह्यार्चनं कृत्वा पुनः देवीपार्श्वे प्राच्यादिचतुर्दिक्षु (प्राच्याम्)- ॐ मायायै नमः । मायाश्रीपा० १। ॐ कालरात्र्यै नमः। कालरात्रिश्रीपा० २। ॐ वटवासिन्यै नमः। वटवासिनीश्रीपा० ३ । (दक्षिणे) ॐ गणेश्वर्यै नमः। गणेश्वरीश्रीपा १। ॐ काह्नाख्यायै नमः। काह्नाख्याश्रीपा० २। ॐ व्यापिकायै नमः। व्यापिकाश्रीपा० ३। (पश्चिमे) ॐ अलर्कवासिन्यै नमः। अलर्कवासिनीश्रीपा० १। ॐ मायाराज्ञै नमः। मायाराज्ञीश्रीपा० २। ॐ ॐ मदनप्रियायै नमः । मदनप्रियाश्रीपा ३। (उत्तरे) ॐ रत्यै नमः। रतिश्रीपा० १। ॐ लक्ष्यै नमः। लक्ष्मीश्रीपा०२ । ॐ काह्नेश्वर्यै नमः। काह्नेश्वरीश्रीपा० ३।

इति पूजयित्वा पुष्पांजलिं दद्यात्। इत्यावरणपूजां कृत्वा धूपादिनमस्कारांतं संपूज्य मूलेन मद्यादिबलिं दत्त्वा जपं कुर्यात्।
अस्य पुरश्चरणमयुतजपः। तद्दशांशतो होमः।
तत्तद्दशांशेन तर्पणमार्जनब्राह्मणभोजनानि कुर्यात् ।
एवं कृते मंत्र: सिद्धो भवति ।
सिद्धे मंत्रे मंत्री षट् प्रयोगान् साधयेत्।
तथा च अयुतं प्रजपेन्मंत्रं दशांशं जुहुयात्तिलैः।
पयोरुहैर्वा विप्रेन्द्रान् संतमे श्रेय आप्नुयात् ॥ १ ॥
एवं संपूजिता स्वेष्टं कालरात्रिः प्रयच्छति ।
सिद्धे मंत्री प्रकुर्वीत प्रयोगानिष्टसिद्धये ॥ २ ॥

॥ अन्य काम्य प्रयोगा: ॥
वशीकरण

शनिवार के दिन सायं सरोवर पर जाकर सरोवर एवं जलौ का (जौंक) का पूजन करे ।

मंत्र – ॐ नमो जलौकायै जलौकायै सर्वजनं वशं कुरु कुरु हुं फट् स्वाहा ।
रात्रि में देवी स्मरण करते हुये सो जावे । पुनः प्रातःकाल सरोवर से जलौ का (जौंक) लाकर छाया में सुखाकर उसका चूर्ण बनावे । काले कपास की रुई में चूर्ण मिलाकर बत्ती बनावें, कुम्हार से मिट्टी लाकर दीप बनाये, चलते हुये कोल्हू का शुद्ध तेल लावे, वैश्या के घर से अग्नि लाकर कुचिला की लकड़ी जलाकर उससे दीप प्रज्ज्वलित करे । हल्दी से त्रिकोण षट्कोण एवं भूपूरयुक्त यंत्र बनाकर उस पर दीप रखें । उस दीपक पर कालरात्रि का आवाहन कर आवरण पूजा करे । उस दीपक पर नवीन खप्पर रखकर कज्जल बनाये । उस कज्जल को लेकर पश्चिमाभिमुख बैठकर तीन सौ बार वक्ष्यमाण मंत्र द्वारा अभिमंत्रित करें ।

॥ अञ्जनभिमंत्रण मंत्र ॥
ॐ ऐं क्लीं ह्रीं श्रीं ग्लौं ब्लूं हसौः नमः काह्नेश्वरि सर्वान्मोहय मोहय कृष्णे कृष्णवर्णे कृष्णाम्बरसमन्विते सर्वानाऽकर्षय आकर्षय शीघ्रं वशं कुरु कुरु ऐं ह्रीं क्लीं श्रीं ।

पश्चात् दीप, देवता, व अपनी आत्मा का सामंजस करे। मंगलवार को पुनः देवी व अंजन का पूजन कर अंजन को मक्खन में मिश्रित करे । पश्चात् मूल मंत्र से १०८ आहुति महुआ के पुष्पों से देवे । कुमारी वटुक व सुवासिनियों को भोजन कराये। उपरोक्त सिद्धाञ्जन का तिलक लगाने से राजा प्रजा सभी का संमोहन होवे । दूध में मिलाकर पिलाने से पीने वाला व्यक्ति वशीभूत होवे । दूध में रंगभेद की आशंका रहने से पान में भी खिलाया जा सकता है ।

॥ स्तंभन प्रयोग ॥
हल्दी, गोरोचन, कूट एवं तगर को गोमूत्र में पीसकर उसमें हल्दी में रंगे वस्त्र पर अष्टदल बनायें । मध्य में शत्रु का नाम “अमुकं स्तंभय” लिखे । अष्टदलों में प्रत्येक में ॐ, ॐ, ग्लौं, ग्लौं, च-ट, च-ट, (चट-चट) एक एक अक्षर लिखे । फिर उस मंत्र को पीलेवस्त्र से वेष्टन करे । कुचिला की लकड़ी की सात कीलों से यंत्र को विद्ध कर देवे एवं आक के पत्ते में लपेट कर उस यंत्र को बांबी में रखकर बांबी को भेड़ के मूत्र से भर देवें । फिर बांबी के ऊपर पत्थर रखकर उस पर बैठकर साधक नैऋत्य कोण की ओर मुख कर हल्दी की माला पर एक हजार जप करे।

मंत्र – ॐ ह्रां ह्रीं ह्रूं कामाक्षि मायारूपिणि सर्वमनोहारिणि सर्वमनोहारिणि स्तंभय स्तंभय रोधय रोधय मोहय मोहय क्लीं क्लीं क्लूं कामाक्षे काह्नेश्वरि हुं हुं हुम् ।

॥ मोहन प्रयोग ॥
रविवार के दिन हल्दी लाकर उसे स्त्री के दूध में पीसकर उससे भोजपत्र पर यंत्र बनावे । एक वृत्त बनाकर उसके बीच में “क्लीं” लिखें । उस वृत्त के बाहर चारों ओर वृत्ताकार १० बार कामबीज “क्लीं” लिखे । पुनः उसके बाहर वृत्ताकार १२ बार कामबीज “क्लीं” लिखे । पुन: उसके बाहर वृत्ताकार १६ बार कामबीज “क्लीं” लिखे । इन सबके ऊपर एक बड़ा षट्कोण बनाये (ये अक्षर बीच में रह जायेंगे) उसके प्रत्येक कोणों में”क्लीं” लिखे। फिर संपूर्ण यंत्र के चारों ओर “ऐं” वृत्ताकार लिखें। अथवा किसी वस्त्र व भूमंडल पर बड़ा सा “ऐं” लिखे। उसके मध्य में इस यंत्र को लिख देवे। उस यंत्र पर बैठकर साधक ५ दिन तक एक एक हजार मंत्र जप करे।
मंत्र – “ॐ कामाय क्लीं क्लीं कामिन्यै क्लीं”। पश्चात् दशांश होम करे। उस भस्म का तिलक लगाने से संसार का सम्मोहन होता हैं।

॥ आकर्षण प्रयोगः ॥
कृष्णा अष्टमी वा चतुर्दशी को मंगलवार रविवार हो उस दिन नाभिपर्यन्त जल में खड़े होकर मूलमंत्र का ११ सौ जप करे। घर आकर शरीर पर तिलों का तेल या सुगंधित तेल मले। भद्रपीठ पर काम्य स्त्री वा पुरुष की अंजन से आकृति बनाये। उसकी लाजवतीवृक्ष के पत्तों से पूजा कर, लाजवती की जड़ के रस से प्रोक्षण करे। उसके आगे बैठकर मंत्र जप करे-

मंत्र – ॐ नमः कालिकायै सर्वाकर्षण्यै अमुकीं वा अमुकं साध्य (स्त्री या पुरुष के नाम में द्वितीयान्त) आकर्षय आकर्षय शीघ्रमानय शीघ्रमानय आं ह्रीं क्रों भद्रकाल्यै नमः।
इस मंत्र का एक सौ साठ बार जप कर साधक ५० लाल कनेर के पुष्पों से पूर्वलिखित आकृति का पूजन करे। फिर साध्य के नाम के आगे ॐ सहित वर्णमाला के एक एक अक्षर युक्त कर साध्य नाम के पश्चात् आकर्षय आकर्षय नमः बोलते हुये एक पुष्प अर्पण करे। यथा- ॐ (अमुकीं अमुकं वा) आकर्षय आकर्षय नमः। इस तरह नाम आगे आंई……..हं लं क्षं तक एक एक आगे लगाते हुये पुष्पार्चन करे। फिर उस आकृति का धूप दीप नैवेद्यादि से पूजन करे। ४४ अक्षर वाले उपरोक्त मंत्र से घृत मिश्रित चने (भुनेहुये) से १०० आहुतियां देवे। पश्चात् काले कपास के कुमारी द्वारा काते गये सूत के २८ धागे अपनी शरीर की लंबाई तुल्य लेवे उनमें आकर्षण मंत्र पढ़ते हुये एक एक गांठ लगाते हुये १०८ गांठों का गण्डा बनाये। उसको धारण करने से वांछित स्त्री पुरुष ३ या ९ दिन में वश में हो जाते हैं। कोई व्यक्ति बाहर चला गया होवे तो उसके लिये भी यह प्रयोग करके देखना चाहिये।

॥ उच्चाटन प्रयोगः ॥
कृष्णपक्ष की चतुर्दशी के दिन निर्जन मकान में दक्षिण की ओर शिखा खोलकर बैठे । नीले वस्त्र धारण कर कुक्कुटासन से बैठे । फिर मूञ्ज की रस्सी की ग्रंथियुक्ता माला पर शबरी देवता का ध्यान कर मंत्र दो हजार बार जपे ।
मंत्र- ॐ ब्लूं स्लूं म्लूं क्ष्लूं कालरात्रि महाध्वांक्षि अमुकमावेश उच्चाटय उच्चाटय आशूच्चाटय छिन्धि छिन्धि भिन्धि स्वाहा स्वाहा ह्रीं कामाक्षि क्रों ।
इस मंत्र का प्रधान जप करके रात्रि में सरसों से दशांश होम करे । फिर सरसों की खली व सरसों के तेल को जल में मिलाकर अपनी शिखा प्रोक्षण कर शिखा खोले । भूमि पर बलिदान देवे । ऐसा कम से कम ७ दिन करने से शत्रु का उच्चाटन होकर परदेश गमन करता हैं ।

॥ विद्वेषण प्रयोगः ॥
जिन दो व्यक्तियों के बीच में विद्वेषण करना हो उनमें जन्म नक्षत्र वाले वृक्ष या करञ्ज की लकड़ी की दो पट्टे बनावे । फिर गधी के दूध में विषाष्टक (पिप्पली, मिर्च, सोंठ, बाजपक्षी की विष्ठा, चित्रक (अण्डी) गृहधूम, धत्तूरे का रस, लवण) मिलाकर उनके नामाक्षरों की दो आकृति उन पट्टों पर बनाये । फिर अर्द्धरात्रि में मंत्र जप करे ।
मंत्र – ॐ ह्रौं ग्लौं हसौं भ्रौं भगवति दण्डधारिणि अमुकमकुमं शीघ्रं विद्वेषय विद्वेषय रोधय रोधय भञ्जय भञ्जय श्रीं ह्रीं राज्ञयै ॐ हुं हुं हुम् ।
जप करने के बाद दोनों फलकों (पट्टे) को गदहा, भैंस तथा घोड़े की पूंछ के बालों से बनी रस्सी से बांधकर बांबी के भीतर गाड़कर एक हजार जप करे । बलि प्रदान करे ।

॥ मारण प्रयोग ॥
कृष्णा चतुर्दशी को मंगलवार के दिन गौशाला, चौराह एवं श्मशान की मिट्टी लाकर, उसमें बायबिडङ्ग, कनेर, आक के फूल मिलाकर पुतली बनाये । रात्रि में श्मशान में जाकर नील वस्त्र धारण कर शिखा खोलकर पुतली पर शत्रु का नाम लिखे । उसमें शत्रु के नाम से प्राणप्रतिष्ठा करे । फिर कम्बल से ढंक कर तेल में डुबोकर पूजन करे । पुतली को गदहा, घोड़ा व भैंस के रक्त से स्नान कराये । लाल चंदन व धत्तूरे के फूल चढाकर मारण मंत्र से होम कर पुनः पूजन करे ।
मंत्र- ॐ म्रां म्रीं म्रूं मृतीश्वरि कृं कृत्ये अमुकं शीघ्रं मारय मारय क्रोम् ।
इस मंत्र से पूजन कर वचा, सरसों, भिलावां, धत्तूरे के बीजों को मिलाकर १०१ आहुतियां देवे । फिर पुतली का शिर काटकर उसी अग्नि में डाल देना चाहिये । नित्य मद्य मांसादि से बलि देते हुये २१ दिन प्रयोग करे ।
विशेष:- जो व्यक्ति ऐसा घातक प्रयोग करता हैं उसे अपनी रक्षा हेतु नृसिंह, शरभ, हनुमान भैरवादि के विशेष रक्षा मंत्रों का प्रयोग करना चाहिये तथा गुरु के मार्गदर्शन में कार्य करना चाहिये ।
दिये गये प्रयोग केवल विद्या संरक्षण हेतु है । अतः इसको इसी सन्दर्भ में लेना उचित होगा । घातक प्रयोगों को करना नैतिक व कानूनन गलत है ।

 

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.