सप्तशती पाठ चतुःषष्ठि योगिनी
चतुःषष्ठि योगिनी के देशकाल आधार पर भिन्न-भिन्न नाम बतलाये जाते हैं । दैनिक कर्म में पूजित ६४ योगिनियाँ अलग हैं तथा प्रत्येक चरित की महाकाली, महालक्ष्मी तथा महासरस्वती की भिन्न-भिन्न ६४ योगिनियाँ अलग हैं ।
प्रत्येक चरित के साथ क्रमशः उनका पाठ किया जा सकता है ।
९ दुर्गा की प्रत्येक की ९-९ योगिनी के आधार पर मध्यप्रदेश के भेड़ाघाट में ८१ योगिनियों के विग्रह हैं ।
दैनिक पूजन में योगिनी मण्डल हेतु ९ कोष्ठक बनायें । मध्य कोष्ठक में प्रधान योगिनी “सर्वसिद्धिदात्री” का पूजन करें । शेष अष्ट कोष्ठकों में अष्टदल बनायें । प्रत्येक कोष्ठक में ८-८ नाम हैं जिनको 1-1 अष्टक रुप में ८ अष्टक माने गये हैं । ८-८ योगिनियों के वर्ण व आयुध समान माने गये हैं । इस तरह अष्ट अष्टक रुप में योगिनियों के वर्ण व ध्यान हैं तथा उनके आयुधों का वर्णन हैं ।
प्रथम अष्टक सुवर्ण कान्तिवर्ण का है । द्वितीय प्रज्ज्वल कान्तिवर्ण, तृतीय नीलवर्ण, चतुर्थ धूम्रवर्ण, पञ्चम श्वेतवर्ण, षष्ठम पीतवर्ण, सप्तम रक्तवर्ण, अष्टम विद्युतकान्ति का वर्ण है ।
षष्ठम, सप्तम, अष्टम वर्णों की योगिनियों के आयुध पञ्चम के समान हैं ।
।।अथ योगिनी ध्यानम्।।
अष्टाष्टकं प्रवक्ष्यामि योगिनीनां समाक्षतः ।
आद्याष्टकं सुवर्णाभं त्रिशूलं डमरुं तथा ।। १ ।।
पाशं चासिं दधानं तद्ध्यायेत् सर्वांग-सुन्दरम् ।
अथ द्वितीयकं ध्यायेद् अक्षमाला मयांकुशम् ।। २ ।।
दधानं पुस्तकं वीणां सुश्वेतमणि भूषणाम् ।
ज्वालां शक्तिं गदां कुन्तं दधातं नीलवर्णकम् ।। ३ ।।
ध्यायेतृतीय शुभदमष्टकं शुभलक्षणम् ।
खड्ग खेटं पट्टिशं च दधानं परशुं तथा ।। ४ ।।
धूम्रवर्णं चतुर्थे तद ध्यायेदष्टमादरात् ।
कुन्तं खेटं च परिघं भिन्दीपालं तथैव च ।। ५ ।।
पञ्चमाष्टक मेतद्धि श्वेतं स्यात् सुमनोहरम् ।
पीतं षष्टमृषि रक्तमेष्टमं च तडित् प्रभाम् ।। ६ ।।
कुन्तादिकं समं प्रोक्तं षडारभ्याष्टमान्तकम् ।
दिव्ययोगा महायोगा सिद्धयोगा महेश्वरी ।। ७ ।।
पिशाचिनी डाकिनी च कालरात्रि निशाचरी ।
कंकाली रौद्री वैताली हुंकारी भुवनेश्वरी ।। ८ ।।
उर्ध्वकेशी विरुपाक्षी शुष्कांगी नरभोजिनी ।
फट्कारी वीरभद्रा च धूम्राक्षी कलहप्रिया ।। ९ ।।
रक्ताक्षी राक्षसी घोरा विश्वरुपा भयंकरी ।
कामाक्षी चोग्रा चामुण्डा भीष्णा त्रिपुरान्तिका ।। १० ।।
वीर कौमारिका चण्डी वाराही मुण्डधारिणी ।
भैरवी हस्तिनी क्रोधा दुर्मुखी प्रेतवाहिनी ।। ११ ।।
खड्गवांगदीर्घलम्बोष्ठि मालतीमन्त्रयोगिनी ।
अस्थिनी चक्रिणी ग्राहाः कंकाली भुवनेश्वरी ।। १२ ।।
कंटकी कारकी शुभ्रा क्रिया दूति करालिनी ।
खड्गिनी पद्मिनी क्षीराः हयसंधा च प्रहारिणी ।। १३ ।।
लक्ष्मीश्च कामुकी लोला काकदृष्टिर्अधोमुखी ।
धुर्जटी मालिनी घोरा कपाली विषभोजिनी ।। १४ ।।
चतुष्षष्ठीः समाख्याता योगिन्यो वरसिद्धिदा ।। १५ ।।

(विशेषः- ७ दिव्ययोगा से श्लोक १४ तक के योगिनी नाम ६४ से अधिक हैं ।)

।। अथ चरितानां योगिनी भेदाः ।।
प्रथम-मध्यम तथा उत्तर चरित के आधार पर महाकाली, महालक्ष्मी, महासरस्वती की ६४-६४ योगिनियाँ निम्न प्रकार हैं –
।। १॰ सप्तशती नायिका महाकाल्याश्चतुः षष्ठि योगिन्यः ।।
जया च विजया चैव जयन्ति चापराजिता ।
दिव्यापूर्वायोगिनी च महापूर्वाथ योगिनी ।। १
सिद्धपूर्वा योगिनी च ततस्त्वथ गणेश्वरी ।
प्रेताशिनी डाकिनी चाथ कमला तु ततो मता ।। २
कारात्रि ततः प्रोक्ता ततः टंकारिणी मता ।
रौद्री चैवाऽथ वेताली हुंकारी ऊर्ध्वकेशिनी ।। ३
विरुपाक्षी च शुष्कांगी ततस्तु नरभोजिनी ।
फेत्कारी चोर चन्द्री च धूम्राक्षी कलहप्रिया ।। ४
राक्षसी घोररक्ताक्षी विश्वरुपी भयंकरी ।
चण्डयन्ता चण्डमारी वाराही मुण्डधारिणी ।। ५
भैरवी ततः ऊर्ध्वाक्षी दुर्मुखी प्रेतवाहिनी ।
खट्वांगी चैव लम्बोष्ठी मालिनीमतियोगिनी ।। ६
काली रक्ता च कंकाली ततस्तु भुवनेश्वरी ।
त्रोटाकी च माहामारी यमदूती करालिनी ।। ७
केशिनि मेदिनी चैव रोम गंगाप्रवाहिनी ।
विडाली चैव कान्तिश्च लोली चाथ जया स्मृता ।। ८
अधोमुखी ततः प्रोक्ता ततश्चण्डोग्रधारिणी ।
व्याघ्री ततः कांक्षिणी च ततस्तु प्रेतभक्षिणी ।। ९
धुर्जटी विकटा चैव घोरा चाथ कपालिनी ।
विषलम्बिनी ततः प्रोक्ता योगिन्यः सक्रमं इमाः ।।
महाकाल्याश्च चतुष्षष्ठिः पूजनीया विधान तः ।

।।२॰ सप्तशती नायिका महालक्ष्म्यातुः षष्ठि योगिन्यः।।
दक्षकर्णा राक्षसी च क्षयन्ती च तथा पुनः ।
छाया क्षया पिंगलाक्षी अक्षया नाशिनी तथा ।। १
इलाइलावती चैव लया लीना तया मता ।
लंका लंकेश्वरी चैव लरसा विमला तथा ।। २
हुताशनी विशालाक्षी हुंकारी वडवामुखी ।
महारवा महाक्रूरा क्रोधिनी च खरानना ।। ३
सर्वज्ञा तरला तारा ततः श्रृग्वेदिनी मता ।
रौद्री तथा च सरसा ततस्तु रससंग्रहा ।। ४
शर्वरी तालजंघा च रक्ताक्षी ततः परम् ।
विद्युज्जिह्वा करंकिणी मेथ नादा ततो मता ।। ५
चण्डोग्रा कालकर्णा च तथा चैव द्विपातना ।
पद्मा पद्मावती चैव प्रपञ्चा ज्वलितानना ।। ६
पिचुवक्त्रा पिशाची च पिशिताशी च लोलुपा ।
पार्चती पावनी चैव तापिनी वामिनी तथा ।। ७
विकृतपूर्वाऽऽज्ञया चैव वृहत्कुक्षिस्ततः परम् ।
दंष्ट्राली विश्वरुपी च यमज्ह्वा ततो मता ।। ८
जयन्ती च दुर्जाया च तथा चैव यमान्तिका ।
विडाला रेवती चाथ प्रेताशी विजया तथा ।। ९
महालक्ष्म्यास्तु योगिन्यश्चतुष्षष्ठि क्रमादिमाः ।
पूजनीयाः प्रयत्नेन सिद्धिकामैस्तु साधकै ।। १०

।।३॰ सप्तशती नायिकाया महासरस्वत्याः चतुष्षष्ठि योगिन्यः।।
पिंगलाक्षी विषलाभी समृद्धिर्वद्धिरेव च ।
श्रद्धा स्वाहा स्वधा भिक्षा माया संज्ञा वसुन्धरा ।। १
त्रैलोक्यधात्री सावित्री गायत्री त्रिपदेश्वरी ।
सुरुपा बहुरुपा च स्कन्दमाताऽच्युत् प्रिया ।। २
विमला कमला चैव दारुणी चारुणी तथा ।
प्ेकृतिविकृतिश्चैव सृष्टि स्थितिश्च संहृति ।। ३
सन्ऽधया माता सती हंसी तथा च मदवर्जिका ।
परा तथा देवमाता ततो भगवती किल ।। ४
देवकी चैव कमलालका च त्रिमुखी तथा ।
सप्तमुखी ततो देवी सुरासुर विमर्दिनी ।। ५
लम्बोष्ठि ऊर्ध्वकेशी च ततो बहुशिरा मता ।
वृकोदरी रथरेखा शशिरेखा ततः परम् ।। ६
गगनवेगा पवनवेगा भुवनपाला तथा मता ।
मदनातुरा अनंगा च अनंगमदना तथा ।। ७
अनंगमेखलाऽनणगकुसमा च ततो मता ।
विश्वरुपा तथा चैवाऽसुर-पूर्वाभयंकारी ।। ८
अक्षोभ्या च तथा देवी मतावै सत्यवादिनी ।
वज्ररुपा वज्ररेखा तथा सूचिव्रता मता ।। ९
वरदा चैव वागीशी चतुष्षष्ठी क्रमेण तु ।
महापूर्वासरस्वत्याः योगिन्यस्तु मता इमा ।। १०

Content Protection by DMCA.com

Leave a Reply

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.