Print Friendly, PDF & Email

श्री परशुराम प्रयोग
भगवान् परशुराम की उपासना के फल-स्वरुप साधक अपनी विविध कामनाओं की पूर्ति करते है। यथा-सन्तान, विवाह, कृषि, वर्षा, ऐश्वर्य, वाक्-सिद्धि, स`र्व-शत्रुओं का नाश, रोगों का निवारण आदि।
‘परशुराम-तन्त्र’ में भगवान् श्रीपरशुराम की उपासना से लिए बारह नामों का एक सरल प्रयोग दिया गया है। शुद्ध होकर, एकाग्र-चित्त से निम्न-लिखित बारह नामों का नित्य नियमित रुप से पाठ करने से अकाल-मृत्यु, दरिद्रता और वंश-नाश का भय नहीं रहता तथा ऐश्वर्य भोग का अवसर मिलता है। नाम इस प्रकार हैं-
१ आद्यो रामो, २ जामदग्न्य, ३ क्षत्रियाणां कुलान्तकः।
४ परश्वध-धरो ५ दाता ६ मातृहा ७ मातृ-जीवकः।
८ समुद्र-तीर-निलयो ९ महेश-पठिताखिलः।
१० गो-त्राण-कृद् ११ गो-प्रदाता १२ विप्र-क्षत्रिय-कर्म-कृत्।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.