Print Friendly, PDF & Email

श्री प्रत्यंगिरा स्तोत्र
श्री गणेशाय नमः। ॐ नमः प्रत्यंगिरायै।।
मन्दरस्थं सुखासीनं, भगवन्तं महेश्वरम्। समुपागम्य चरणौ, पार्वती परिपृच्छति।।१
।।श्रीदेव्युवाच।।
धारणी परमा विद्या, प्रत्यंगिरा महोदया। नर-नारी-हितार्थाय, बालानां रक्षणाय च।।२
राज्ञां मण्डलिकानां च, दीनानां च महेश्वर! महा-भयेषु घोरेषु, विद्युदग्नि-भयेषु च।।३
व्याघ्र-दंष्ट्रि-करी-घाते, नदी-नद-समुद्रके। अभिचारेषु सर्वेषु, युद्धे राज-भयेषु च।।४
सौभाग्य-जननी देव! नृणाम् वश्य-करी सदा। तां विद्यां भो सुरेशेह! कथयस्व मम प्रभो।।५
।।श्रीभैरवोवाच।।
साधु साधु महा-भागे! जन्तूनां हित-कारिणी। त्वद्-वचनात्तामरिघ्नि! कथयामि न संशयः।।६
देवी प्रत्यंगिरा विद्या, सर्व-ग्रह-निवारिणी। मर्दिनी दुष्ट-सत्वानां, सर्व-पाप-विमोचिनी।।७
स्त्री-पुं-नपुंसकानां च, जन्तूनां हित-कारिणी। सौभाग्य-जननी देवी, नृणां वश्य-करी सदा।।८
चतुः-पदेषु गोष्ठेषु, वनेषूपवनेषु च। श्मशाने दुर्गमे घोरे, संग्रामे शत्रु-संकटे।।९
राज-द्वारे च दुर्भिक्षे, महा-भय उपस्थिते। पठिता पाठिता देवी, सर्व-सिद्धि-करी शुभा।।१०
यस्यांगस्था महा-देवी, प्रत्यंगिरा सुभाषिता। सिद्धिदा सर्व-सिद्धिनां, विद्येयं परमा स्मृता।।११
श्रीमता घोर-रुपेण, भाषिता घोर-रुपिणी। प्रत्यंगिरा मया-प्रोक्ता, रिपुं हन्यान्न संशयः।।१२
हरि-चन्दन-मिश्रेण, रोचना-कुंकुमेन च। लिखित्वा भूर्ज-पत्रेषु, धारणीया सदा नरैः।।१३
पुष्प-धूपैर्विचित्रैश्च, गन्ध-दीपैश्च पूजनैः। पूजयित्वा यथा-न्यायं, शान्त-कुम्भेन वेष्टयेत्।।१४
धारयेद्य इमां विद्यां, निश्चित-रिपु-नाशिनी। विलयं यान्ति रिपवः प्रत्यंगिरा-विधारणात्।।१५
यं यं स्पृशति हस्तेन, यं यं खादति जिह्वया। अमृतं तद्-भवेत् तस्य, नाप-मृत्युः कदाचन।।१६
त्रिपुरं च मया दग्धमिमां विद्यां च विभ्रता। निर्जिताश्चासुराः सर्वे, देवैर्देत्याभिमानिनः।।१७
गोलकं सम्प्रवक्ष्यामि, भैषज्यानि च सुव्रते! क्रान्ता दमनकं चैव, रोचना-कुंकुमे तथा।।१८
अरुष्करं वचारिष्टं, सिद्धार्थ मालती तथा। एतद्-द्रव्य-गणं भद्रे! गोल-मध्ये निधापयेत्।।१९
सततं धारयेन्मन्त्री, साधको मन्त्र-वित् सदा। अधुना सम्प्रवक्ष्यामि, प्रत्यंगिरा-सुभाषितम्।।२०
दिव्य-मन्त्र-पदं चित्रं, सुखोपायं सुखोदयं। पठेद् रक्षा-विधानं च, मन्त्र-राजं प्रकीर्तितम्।।२१

विनियोग- ॐ अस्य श्रीप्रत्यंगिरा-स्तोत्रस्य महादेव ऋषिः, त्रिष्टुप छन्दः प्रत्यंगिरा देवता, हूं बीजं, ह्रीं शक्तिः, ह्रीं कीलकं, मन्त्रोक्ताभीष्ट-सिद्धये जपे विनियोगः।

“ॐ नमः सहस्र-सूर्येक्षणाय। आदि-रुपाय नमः। पुरुष-भूताय नमः। पुरुहूताय नमः। महा-सुखाय नमः। महा-व्यापिने नमः। महेश्वराय नमः। जगच्छान्तिकाय नमः। शान्ताय नमः। सर्व-व्यापिने नमः। शंकराय नमः। महा-घोषाभि-घोषाय नमः। ॐ ॐ महा-प्रभावं दर्शय दर्शय, मम शत्रून् नाशय नाशय ॐ ॐ हिलि हिलि, ॐ ॐ ॐ मिलि मिलि, ॐ ॐ ॐ भुवि भुवि विद्युज्जिह्वे! मम शत्रून् दह दह, ज्वल ज्वल, बन्ध बन्ध, मथ मथ, प्रध्वंसय प्रध्वंसय विनाशय विनाशय, ॐ ग्रस ग्रस पिब पिब, नाशय नाशय, द्रावय द्रावय, त्रासय त्रासय, दारय दारय, विदारय विदारय, रक्ष त्वतमस्मान्, रक्षां कुरु कुरु, ॐ ॐ रक्ष रक्ष मां साधकं स-परिवारं रक्ष रक्ष, ॐ ॐ सर्वोपद्रवेभ्यो महाऽघौघाग्नि-सम्वर्तक-विद्युदन्त-कपिर्दिन् ! दिव्य-कनकाम्भोरुह! विकट-मालाधर! शिति-कण्ठ! व्याघ्रजिन-कृत्ति-भृत्! कपाल-कुक्षिकेके! परमेश्वर-प्रिये! मम शत्रून् छिन्धि छिन्धि, भिन्दि भिन्दि, भिन्न भिन्न, विदारय विदारय, देव-पिशाच-सुरोरग-गरुड़-गन्धर्व-किन्नर-विद्याधर-गण-लोक-पालांश्च हन हन, स्तम्भय स्तम्भय, ये न मम साधकस्य स-परिवारकस्य शत्रु-स्थानानि, ॐ ॐ हिलि हिलि, निकृन्तय निकृन्तय, ये सर्वदा मम अविद्या-कर्म कुर्वन्ति कारयन्ति, तेषामविद्यां स्तम्भय स्तम्भय, भय-स्थानं कीलय कीलय, ग्रामं कीलय कीलय, देशं कीलय कीलय, ॐ विश्व-मूर्त्ते! मत्-तेहसि ॐ जः ॐ जः ॐ ठः ॐ ठः, मम शत्रूणां विद्यां स्तम्भय स्तम्भय, ॐ जः ॐ जः ॐ ठः ॐ ठः, मम शत्रूणां शिरः स्तम्भय स्तम्भय, एवं नेत्रे कणौं मुखं कण्ठं हस्तौ पादौ गुह्यमिन्द्रियाणि कुटुम्बानि एता स्थानं कीलय कीलय, ज्ञानं कीलय कीलय एवं मल-देशं घातय, ॐ जः ॐ जः ॐ ठः ॐ ठः, मम शत्रूणां पादौ कीलय कीलय, ॐ जः ॐ जः ॐ ठः ॐ ठः, सर्व-सिद्धे महा-भागे! साधकस्य स-परिवारकस्य शान्तिं कुरु कुरु स्वाहा।। ॐ जः ॐ जः ॐ ठः ॐ ठः ॐ हूं ॐ हूं फट् फट् स्वाहा।। ॐ यं ॐ यं ॐ रं ॐ रं ॐ लं ॐ लं ॐ वं ॐ वं ॐ हूं ॐ हूं फट् फट् स्वाहा। प्रत्यंगिरे! अमुकस्य साधकस्य स-परिवारकस्य मम रक्षां कुरु कुरु स्वाहा। ॐ जः ॐ जः ॐ ठः ॐ ठः ॐ हूं ॐ हूं फट् फट् स्वाहा।। ॐ नमो भगवति वेतालिनि! दुष्ट-चाण्डालिनि! त्रिशूल-वज्रांकुश-धारिणि! रुधिर-मांस-भक्षिणि! कपाल-खट्वांग-वज्रासि-धरिणि! साधकस्य मम शत्रून् दह दह, पच पच, मथ मथ, मर्दय मर्दय, तापय तापय, शोषय शोषय, उत्सादय उत्सादय, विध्वंसय विध्वंसय, विदारय विदारय, हन हन, वल वल, धम धम, सर्व-दुष्ट-सत्वान् नाशय नाशय, ग्स ग्रस, पिव पिव, ॐ फट् स्वाहा। ॐ दंष्ट्रा-करालिनि! मम साधकस्य स-परिवारकस्य मन्त्र-तन्त्र-यन्त्र-विष-चूर्ण-शस्त्राभिचार-सर्वोपद्रवादि येन कृतं, कारितं, कुरुते, कारयति, करिष्यति वा, तान् सर्वान् दुष्टान् हन हन, प्रत्यंगिरे! भक्ष भक्ष मां साधकं स-परिवारं रक्ष रक्ष स्वाहा।
ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ब्रह्माणी माहेश्वरी कौमारी नारसिंही वैष्णवी वाराही इन्द्राणी चामुण्डा चण्डिका सुन्दरी। ॐ ऐं ह्रीं श्रीं ब्रह्माणि! मम शिरसि रक्ष, रक्षां कुरु कुरु, ॐ ॐ फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं माहेश्वरी! मम नेत्रे रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं कौमारी! मम वक्त्रं रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं नारसिंहि! मम बाहू रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं वैष्णवी! मम हृदयं रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं वाराहि! मम कण्ठं रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं इन्द्राणि! मम नाभिं रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं चामुण्डे! मम गुह्यं रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं चण्डिके! मम जंघे रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं सुन्दरि! मम पादौ रक्ष रक्ष स्वाहा। ॐ ॐ स्फ्रें स्फ्रें हूं हूं फट् फट् स्वाहा। ॐ ॐ ॐ ॐ ॐ ऐं ह्रीं श्रीं प्रत्यंगिरे! मम सर्वांगं रक्ष रक्ष स्वाहा। स्तम्भिनी मिहिनी चैव, जृम्भिणी द्राविणी तथा। क्षोभिणी भ्रामिणी रौद्री, तथा संहारिणिति च। शक्तयः क्रम-योगेन, शत्रु-पक्षे निवेशिताः। साधिताः साधकेन्द्रेण, सर्व-शत्रु-विनाशिकाः।
ॐ स्तम्भिनि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् स्तम्भय स्तम्भय। ॐ मोहिनि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् मोहय मोहय। ॐ जृम्भिणि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् जृम्भय जृम्भय। ॐ द्राविणि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् द्रावय द्रावय! ॐ क्षोभिणि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् क्षोभय क्षोभय। ॐ भ्रमिणि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् भ्रामय भ्रामय। ॐ रौद्रिणि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् दारय दारय। ॐ संहारिणि! स्फ्रें स्फ्रें मम शत्रून् संहारय संहारय। ॐ ॐ प्रत्यंगिरे! स्फ्रें स्फ्रें कट-दंष्ट्रे ह्रीं स्फ्रें स्फ्रें फेत्कारिणि! मम शत्रून् छेदय छेदय, खादय खादय, सर्वान् दुष्टान् मारय मारय, खड्गेन छिन्धि छिन्धि, भिन्धि भिन्धि, किलि किलि, किचि किचि, पिव पिव रुधिरं, स्फ्रौं स्फ्रौं काली काली महा-काली भ्रां ह्रीं फट्।

अष्टोत्तर-शतं जापो, मन्त्रास्यास्य प्रकीर्तितः। ऋषिस्तु भेरवो नाम, छन्दोनुष्टुप् प्रकीर्तितम्।।
देवता देशिकैरुक्ता, नाम्ना प्रत्यंगिरेति च। कूर्च-वीजैः षडंगानि, कल्पयेत् साधकोत्तमः।।
वीजमत्र विधायैव, चिताग्नौ तु क्षिपेत् ततः। सर्वेः कृष्णोपचारैस्तु, ध्यायेद् वै कालिकां शुभाम्।।
ऊर्ग्व कराल डमरुं त्रिशूलं संविभ्ती चन्द्र-कलावतंसा।
पिंगोर्घ्व-केशी शत-भीम-दंष्ट्रा भूत्यै भवेयं मम भद्र-काली।।
।।फल-श्रुति।।
एवं ध्यात्वा जपेन्मन्त्रमेक-विंशति-वासरम्। शत्रूणां नाशनं ह्येतत्, प्रकारोऽयं सुनिश्चितः।।१
अष्टम्यामर्धरात्रौ च, शरत्-काले महा-निशि। आवाहिता चेत् काली-वत्, तत्क्षणात् सिद्धिदा भवेत्।।२
सर्वोपहार-सम्पन्ना, वस्त्र-रत्न-फलादिभिः। पुष्पैश्च रक्तवर्णेश्च, ध्यायेद् कालिकां पराम्।।३
वर्षादूर्घ्वं अजं मेषं, मृग वाथ तथा-विधि। दद्यात् पूर्वं महेशान्यै, जपं पश्चात् समापयेत्।।४
अकस्मात् सिद्धिदा काली, सत्यं सत्यं वदाम्यहम्। मूल-मन्त्रेण रात्रौ चेद्धोमं कुर्यात् समाहितः।।५
मसूरी-लाज-लोनैश्च, सर्षंपैर्मानवो भवेत्। महा-भये गदे चैव, न भयं विद्यते क्वचित्।।६
प्रेत-पिण्डं समादाय, गोलकं कारयेत् ततः। मध्ये नामांकितं कृत्वा, शत्रूणां पुत्तलीं ततः।।७
एकायुतं जपं कृत्वा, त्रिरात्रान्मरणं रिपोः। महा-ज्वाला भवेत् तस्य, सप्त-ताम्र-शलाकया।।८
गुद-द्वारे प्रविन्यस्य, सप्ताहान्मरणं रिपोः। विद्यानामुत्तमा विद्या, पठिता पाठिता नरैः।।९
लिखित्वा च करे कण्ठे, बाहौ शिरसि धारयेत्। मुच्यते सर्व-पापेभ्यो, नाप-मृत्युः कदाचन।।१०
य इमां धारयेद् विद्यां, त्रि-सन्ध्यमपि यः पठेत। सोऽपि दुःखान्तको देवि! हन्याच्छत्रीन् न संशयः।।११
सर्वतो रक्षते विद्या, महा-विद्या विपत्तिषु। महा-भयेषु घोरेषु, न भयं विद्यते क्वचित्।।१२
कूटस्था देवता दिक्षु, विदिक्षु बीज-पञ्चकैः। फट्-कारैः शमय त्वं च, रक्ष मां साधकोत्तमम्।।१३
।।इति श्रीचण्डिकाग्र-शुल-पाणिना प्रत्यंगिरा-विद्या-मन्त्रोद्धार।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.